अहमद फ़राज़ की शायरी

अहमद फ़राज़ की शायरी – Ahmad Faraz Shayari in Hindi – 2 Line Sher Collection in Urdu Font

Posted by

जब भी उर्दू भाषा के महान रचनाकार का नाम लिया जाता है तब अहमद फ़राज़ का नाम जरूर लिया जाता है अहमदफ़राज़ जी आधुनिक उर्दू भाषा के मुख्य रचनाकार थे | वह अपनी रचनाओं में ग़ज़लों और नज़्मों को भी लिखा करते है उन्होंने लव के ऊपर भी कई प्रकार की शेरो शायरियां लिखी है अगर आप उनके द्वारा लिखे गए शेरो शायरियो के कलेक्शन के बारे में जानना चाहे तो इसके लिए आप हमारे द्वारा बताई गयी जानकारी को पढ़ सकते है |

Ahmad Faraz 2 Line Shayari

अगर आप अहमद फ़राज़ हिंदी शायरी, अहमद फ़राज़ शायरी इन हिंदी, ahmad faraz shayari hindi 2 lines, अहमद फ़राज़ शायरी २ लाइन्स, फ़राज़ शायरी हिंदी, अहमद फ़राज़ की ग़ज़ल, बहुत अजीब है ये बंदिशें मुहब्बत की ‘फ़राज़’ न उसने क़ैद में रखा न हम फरार हुए, अहमद फ़राज़ कविता कोश, कौन देता है उम्र भर का सहारा लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं की जानकारी जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

कठिन है राहगुज़र थोड़ी दूर साथ चलो
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो

अब तो ये आरज़ू है कि वो ज़ख़्म खाइए
ता-ज़िंदगी ये दिल न कोई आरज़ू करे

कौन ताक़ों पे रहा कौन सर-ए-राहगुज़र
शहर के सारे चराग़ों को हवा जानती है

अब ज़मीं पर कोई गौतम न मोहम्मद न मसीह
आसमानों से नए लोग उतारे जाएँ

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम
तू मुझ से ख़फ़ा है तो ज़माने के लिए आ

Ahmad Faraz Poetry in Hindi

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं
‘फ़राज़’ अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं

किस को बिकना था मगर ख़ुश हैं कि इस हीले से
हो गईं अपने ख़रीदार से बातें क्या क्या

अभी तो जाग रहे हैं चराग़ राहों के
अभी है दूर सहर थोड़ी दूर साथ चलो

किसे ख़बर वो मोहब्बत थी या रक़ाबत थी
बहुत से लोग तुझे देख कर हमारे हुए

अगर तुम्हारी अना ही का है सवाल तो फिर
चलो मैं हाथ बढ़ाता हूँ दोस्ती के लिए

Ahmed Faraz Shayari in Urdu

किसी बेवफ़ा की ख़ातिर ये जुनूँ ‘फ़राज़’ कब तक
जो तुम्हें भुला चुका है उसे तुम भी भूल जाओ

अगरचे ज़ोर हवाओं ने डाल रक्खा है
मगर चराग़ ने लौ को संभाल रक्खा है

किसी दुश्मन का कोई तीर न पहुँचा मुझ तक
देखना अब के मिरा दोस्त कमाँ खेंचता है

इक तो हम को अदब आदाब ने प्यासा रक्खा
उस पे महफ़िल में सुराही ने भी गर्दिश नहीं की

किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल
कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा

Ahmad Faraz Shayari Collection in Hindi

अब उसे लोग समझते हैं गिरफ़्तार मिरा
सख़्त नादिम है मुझे दाम में लाने वाला

कितना आसाँ था तिरे हिज्र में मरना जानाँ
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते जाते

इक ये भी तो अंदाज़-ए-इलाज-ए-ग़म-ए-जाँ है
ऐ चारागरो दर्द बढ़ा क्यूँ नहीं देते

कितने नादाँ हैं तिरे भूलने वाले कि तुझे
याद करने के लिए उम्र पड़ी हो जैसे

इस अहद-ए-ज़ुल्म में मैं भी शरीक हूँ जैसे
मिरा सुकूत मुझे सख़्त मुजरिमाना लगा

Ahmad Faraz Shayari in Hindi

Ahmad Faraz Poetry in Urdu Font

अगर आप ahmad faraz shayari suna hai, ahmad faraz shayari in english, ahmad faraz shayari images in hindi, ahmad faraz’s poetry, ahmad faraz shayari mp3 download, ahmad faraz poetry in english, ahmad faraz poetry in urdu sms, ahmad faraz poetry in pdf, ahmad faraz shayari in english translation, ahmad faraz shayari collection pdf, ahmad faraz shayri.com, hd poetry of ahmed faraz , zindagi shayari ahmad faraz की जानकारी जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

कुछ इस तरह से गुज़ारी है ज़िंदगी जैसे
तमाम उम्र किसी दूसरे के घर में रहा

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा
वक़्त का क्या है गुज़रता है गुज़र जाएगा

कुछ मुश्किलें ऐसी हैं कि आसाँ नहीं होतीं
कुछ ऐसे मुअम्मे हैं कभी हल नहीं होते

इस क़दर मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की
आज पहली बार उस से मैं ने बेवफ़ाई की

क्या कहें कितने मरासिम थे हमारे उस से
वो जो इक शख़्स है मुँह फेर के जाने वाला

Ahmad Faraz Ki Shayari in Hindi

इस से बढ़ कर कोई इनआम-ए-हुनर क्या है ‘फ़राज़’
अपने ही अहद में एक शख़्स फ़साना बन जाए

क़ासिदा हम फ़क़ीर लोगों का
इक ठिकाना नहीं कि तुझ से कहें

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें

क़ुर्बतें लाख ख़ूब-सूरत हों
दूरियों में भी दिलकशी है अभी

आज इक और बरस बीत गया उस के बग़ैर
जिस के होते हुए होते थे ज़माने मेरे

Ahmad Faraz 2 Line Sad Shayari

उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना
ऐ मिरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे

इस से पहले कि बे-वफ़ा हो जाएँ
क्यूँ न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएँ

उस का क्या है तुम न सही तो चाहने वाले और बहुत
तर्क-ए-मोहब्बत करने वालो तुम तन्हा रह जाओगे

इस ज़िंदगी में इतनी फ़राग़त किसे नसीब
इतना न याद आ कि तुझे भूल जाएँ हम

उस को जुदा हुए भी ज़माना बहुत हुआ
अब क्या कहें ये क़िस्सा पुराना बहुत हुआ

Ahmad Faraz 2 Line Shayari

अहमद फ़राज़ शायरी २ लाइन्स – अहमद फ़राज़ के शेर

उजाड़ घर में ये ख़ुशबू कहाँ से आई है
कोई तो है दर-ओ-दीवार के अलावा भी

चला था ज़िक्र ज़माने की बेवफ़ाई का
सो आ गया है तुम्हारा ख़याल वैसे ही

आशिक़ी में ‘मीर’ जैसे ख़्वाब मत देखा करो
बावले हो जाओगे महताब मत देखा करो

चले थे यार बड़े ज़ोम में हवा की तरह
पलट के देखा तो बैठे हैं नक़्श-ए-पा की तरह

ऐसा है कि सब ख़्वाब मुसलसल नहीं होते
जो आज तो होते हैं मगर कल नहीं होते

Ahmad Faraz Shayari on Dosti

ढूँड उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें

अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएँ हम
ये भी बहुत है तुझ को अगर भूल जाएँ हम

जाने किस आलम में तू बिछड़ा कि है तेरे बग़ैर
आज तक हर नक़्श फ़रियादी मिरी तहरीर का

ऐसी तारीकियाँ आँखों में बसी हैं कि ‘फ़राज़’
रात तो रात है हम दिन को जलाते हैं चराग़

जब भी दिल खोल के रोए होंगे
लोग आराम से सोए होंगे

Ahmed Faraz Shayari Facebook

अब दिल की तमन्ना है तो ऐ काश यही हो
आँसू की जगह आँख से हसरत निकल आए

जी में जो आती है कर गुज़रो कहीं ऐसा न हो
कल पशेमाँ हों कि क्यूँ दिल का कहा माना नहीं

और ‘फ़राज़’ चाहिएँ कितनी मोहब्बतें तुझे
माओं ने तेरे नाम पर बच्चों का नाम रख दिया

जिस सम्त भी देखूँ नज़र आता है कि तुम हो
ऐ जान-ए-जहाँ ये कोई तुम सा है कि तुम हो

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें

Ahmed Faraz Shayari 2 Liners

जिस से ये तबीअत बड़ी मुश्किल से लगी थी
देखा तो वो तस्वीर हर इक दिल से लगी थी

चुप-चाप अपनी आग में जलते रहो ‘फ़राज़’
दुनिया तो अर्ज़-ए-हाल से बे-आबरू करे

जो ग़ैर थे वो इसी बात पर हमारे हुए
कि हम से दोस्त बहुत बे-ख़बर हमारे हुए

अब तक दिल-ए-ख़ुश-फ़हम को तुझ से हैं उमीदें
ये आख़िरी शमएँ भी बुझाने के लिए आ

जो ग़ज़ल आज तिरे हिज्र में लिक्खी है वो कल
क्या ख़बर अहल-ए-मोहब्बत का तराना बन जाए

2 Line Sher Collection in Urdu Font

Ahmed Faraz Shayari on Love

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें

जो ज़हर पी चुका हूँ तुम्हीं ने मुझे दिया
अब तुम तो ज़िंदगी की दुआएँ मुझे न दो

अब तिरा ज़िक्र भी शायद ही ग़ज़ल में आए
और से और हुए दर्द के उनवाँ जानाँ

जुदाइयाँ तो मुक़द्दर हैं फिर भी जान-ए-सफ़र
कुछ और दूर ज़रा साथ चल के देखते हैं

गुफ़्तुगू अच्छी लगी ज़ौक़-ए-नज़र अच्छा लगा
मुद्दतों के बाद कोई हम-सफ़र अच्छा लगा

Ahmad Faraz Shayari Two Lines

जुज़ तिरे कोई भी दिन रात न जाने मेरे
तू कहाँ है मगर ऐ दोस्त पुराने मेरे

अब तिरे ज़िक्र पे हम बात बदल देते हैं
कितनी रग़बत थी तिरे नाम से पहले पहले

तअ’ना-ए-नश्शा न दो सब को कि कुछ सोख़्ता-जाँ
शिद्दत-ए-तिश्ना-लबी से भी बहक जाते हैं

कभी ‘फ़राज़’ से आ कर मिलो जो वक़्त मिले
ये शख़्स ख़ूब है अशआर के अलावा भी

तुझ से मिल कर तो ये लगता है कि ऐ अजनबी दोस्त
तू मिरी पहली मोहब्बत थी मिरी आख़िरी दोस्त

2 Lines Shayari by Ahmad Faraz

तू सामने है तो फिर क्यूँ यक़ीं नहीं आता
ये बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं

तू इतनी दिल-ज़दा तो न थी ऐ शब-ए-फ़िराक़
आ तेरे रास्ते में सितारे लुटाएँ हम

तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल
हार जाने का हौसला है मुझे

तू ख़ुदा है न मिरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें

टूटा तो हूँ मगर अभी बिखरा नहीं ‘फ़राज़’
मेरे बदन पे जैसे शिकस्तों का जाल हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *