ऐतबार साजिद की शायरी

ऐतबार साजिद की शायरी – Aitbar Sajid Shayari in Hindi – 2 Line Sher Poetry & Ghazal

Posted by

ऐतबार साजिद जी एक मशहूर पाकिस्तान के शायर थे इनका जन्म 1948 में इस्लामाबाद में हुआ था इन्हे उर्दू बहुत अच्छी तरह से ज्ञान है इसीलिए इन्होने अपनी अधिकतर रचनाये उर्दू भाषाओ में की है | इन्होने अब तक नज़्म, ग़ज़ल व कई बेहतरीन शेर लिखे है जिन्हे है जान सकते है | इसीलिए हम आपको इनके द्वारा लिखी गयी कुछ बेहतरीन उर्दू की शेरो शायरियो के बारे में बताते है जो जिन्हे पढ़ मकर आप इनके बारे में काफी कुछ जान सकते है |

Aitbar Sajid Ki Shayari

अगर आप ऐतबार शायरी रेख़्ता, ऐतबार शायरी हिंदी, पुराने शायरों की शायरी, प्रसिद्ध शायरों की शायरी, पाक शायरी, एतबार पर शायरी, ऐतबार साजिद की ग़ज़लें, ऐतबार अर्थ, पाकिस्तानी शायरी, Aitbar Sajid Shayari in Urdu and Hindi, Sad Poetry of Aitbar Sajid, Love Poetry of Aitbar Sajid – Romantic Ghazals & Love Nazams, aitbaar poetry urdu 2 lines, mera aitbaar karo poetry के बारे में जानकारी आप यहाँ से जान सकते है :

डाइरी में सारे अच्छे शेर चुन कर लिख लिए
एक लड़की ने मिरा दीवान ख़ाली कर दिया

जिस को हम ने चाहा था वो कहीं नहीं इस मंज़र में
जिस ने हम को प्यार किया वो सामने वाली मूरत है

जो मिरी शबों के चराग़ थे जो मिरी उमीद के बाग़ थे
वही लोग हैं मिरी आरज़ू वही सूरतें मुझे चाहिएँ

Aitbar Sajid Poetry

ग़ज़ल फ़ज़ा भी ढूँडती है अपने ख़ास रंग की
हमारा मसअला फ़क़त क़लम दवात ही नहीं

गुफ़्तुगू देर से जारी है नतीजे के बग़ैर
इक नई बात निकल आती है हर बात के साथ

इतना पसपा न हो दीवार से लग जाएगा
इतने समझौते न कर सूरत-ए-हालात के साथ

दिए मुंडेर प रख आते हैं हम हर शाम न जाने क्यूँ
शायद उस के लौट आने का कुछ इम्कान अभी बाक़ी है

Shayari of Aitbar Sajid

अब तो ख़ुद अपनी ज़रूरत भी नहीं है हम को
वो भी दिन थे कि कभी तेरी ज़रूरत हम थे

बरसों ब’अद हमें देखा तो पहरों उस ने बात न की
कुछ तो गर्द-ए-सफ़र से भाँपा कुछ आँखों से जान लिया

भीड़ है बर-सर-ए-बाज़ार कहीं और चलें
आ मिरे दिल मिरे ग़म-ख़्वार कहीं और चलें

छोटे छोटे कई बे-फ़ैज़ मफ़ादात के साथ
लोग ज़िंदा हैं अजब सूरत-ए-हालात के साथ

Aitbar Sajid Shayari in Hindi

Aitbar Sajid Poetry Books PDF

जुदाइयों की ख़लिश उस ने भी न ज़ाहिर की
छुपाए अपने ग़म ओ इज़्तिराब मैं ने भी

मकीनों के तअल्लुक़ ही से याद आती है हर बस्ती
वगरना सिर्फ़ बाम-ओ-दर से उल्फ़त कौन रखता है

मुझे अपने रूप की धूप दो कि चमक सकें मिरे ख़ाल-ओ-ख़द
मुझे अपने रंग में रंग दो मिरे सारे रंग उतार दो

पहले ग़म-ए-फ़ुर्क़त के ये तेवर तो नहीं थे
रग रग में उतरती हुई तन्हाई तो अब है

Aitbar Sajid Romantic Poetry

फिर वही लम्बी दो-पहरें हैं फिर वही दिल की हालत है
बाहर कितना सन्नाटा है अंदर कितनी वहशत है

मुख़्तलिफ़ अपनी कहानी है ज़माने भर से
मुनफ़रिद हम ग़म-ए-हालात लिए फिरते हैं

मेरी पोशाक तो पहचान नहीं है मेरी
दिल में भी झाँक मिरी ज़ाहिरी हालत पे न जा

किसे पाने की ख़्वाहिश है कि ‘साजिद’
मैं रफ़्ता रफ़्ता ख़ुद को खो रहा हूँ

Aitbar Sajid Ghazals

मैं तकिए पर सितारे बो रहा हूँ
जनम-दिन है अकेला रो रहा हूँ

अजब नशा है तिरे क़ुर्ब में कि जी चाहे
ये ज़िंदगी तिरी आग़ोश में गुज़र जाए

किसी को साल-ए-नौ की क्या मुबारकबाद दी जाए
कैलन्डर के बदलने से मुक़द्दर कब बदलता है

रस्ते का इंतिख़ाब ज़रूरी सा हो गया
अब इख़्तिताम-ए-बाब ज़रूरी सा हो गया

2 Line Sher Poetry & Ghazal

Aitbar Sajid Poetry Facebook

तअल्लुक़ात में गहराइयाँ तो अच्छी हैं
किसी से इतनी मगर क़ुर्बतें भी ठीक नहीं

रिहा कर दे क़फ़स की क़ैद से घायल परिंदे को
किसी के दर्द को इस दिल में कितने साल पालेगा

तअल्लुक़ किर्चियों की शक्ल में बिखरा तो है फिर भी
शिकस्ता आईनों को जोड़ देना चाहते हैं हम

तुम्हें जब कभी मिलें फ़ुर्सतें मिरे दिल से बोझ उतार दो
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो

Urdu Ghazal Aitbar Sajid

फूल थे रंग थे लम्हों की सबाहत हम थे
ऐसे ज़िंदा थे कि जीने की अलामत हम थे

ये जो फूलों से भरा शहर हुआ करता था
उस के मंज़र हैं दिल-आज़ार कहीं और चलें

ये बरसों का तअल्लुक़ तोड़ देना चाहते हैं हम
अब अपने आप को भी छोड़ देना चाहते हैं हम

हम तिरे ख़्वाबों की जन्नत से निकल कर आ गए
देख तेरा क़स्र-ए-आली-शान ख़ाली कर दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *