खुशी की शायरी

खुशी की शायरी – Two Lines Khushi Shayari in Hindi Font

Posted by

एक व्यक्ति के जीवन में कई तरह की घटनाएं घटती है कभी उसे ख़ुशी होती है कभी ग़म होता है इसीलिए ख़ुशी के समय इंसान जश्न मनाता है और ग़म के समय में इंसान दुखी होता है | इसीलिए हमारे कुछ मशहूर शायरों द्वारा ख़ुशी या हैप्पीनेस के ऊपर शेरो शायरियां कही गयी है जिन्हे आप अपनी ख़ुशी के समय पढ़ सकते है या अपने किसी दोस्त को सेंड कर सकते है | अगर आप उन शायरियो के बारे में जानना चाहते है हमारी इस पोस्ट द्वारा इसकी जानकारी हमारे माध्यम से पा सकते है |

Khushi Shayari Ghalib

अगर आप खुशी के पल, तेरी खुशी शायरी, खुशी पर कविता, तेरी ख़ुशी शायरी, खुशी पर कविताएं, खुशी के पल कविता के बारे में जानकारी पाना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

लाई हयात आए, क़ज़ा ले चली चले,
अपनी ख़ुशी न आए, न अपनी ख़ुशी चले

मैं बद-नसीब हूँ मुझ को न दे ख़ुशी इतनी
कि मैं ख़ुशी को भी ले कर ख़राब कर दूँगा

दिल दे तो इस मिज़ाज का परवरदिगार दे
जो रंज की घड़ी भी ख़ुशी से गुज़ार दे

अब तो ख़ुशी का ग़म है न ग़म की ख़ुशी मुझे
बे-हिस बना चुकी है बहुत ज़िंदगी मुझे

ख़ुशी शायरी तवो लाइन्स

माँग कर तुझ से ख़ुशी लूँ ! मुझे मंज़ूर नहीं ..
किस का माँगी हुई दौलत से भला होता है ..

ख़ुशी की आँख में आँसू की भी जगह रखना,
बुरे ज़माने कभी पूछकर नहीं आते

मसर्रत ज़िंदगी का दूसरा नाम
मसर्रत की तमन्ना मुस्तक़िल ग़म

कोई काश उनसे पूछे जो ग़मों से भागते हैं
वो कहाँ पनाह लेंगे जो ख़ुशी न रास आई

ख़ुशी शायरी तवो लाइन्स

Khushi 2 Line Shayari in Hindi

जरुरी नहीं की हर रिश्तें का अंत लड़ाई ही हो,
कुछ रिश्ते किसी की ख़ुशी के लिए भी छोड़ने पड़ते है

मुझे ख़बर नहीं ग़म क्या है और ख़ुशी क्या है
ये ज़िंदगी की है सूरत तो ज़िंदगी क्या है

बड़े घरो मे रही है बहुत ज़माने तक
ख़ुशी का ‘जी’ नही लगता ग़रीब ख़ाने मे

अगर तेरी ख़ुशी है तेरे बंदों की मसर्रत में
तो ऐ मेरे ख़ुदा तेरी ख़ुशी से कुछ नहीं होता

खुशी और गम शायरी

अगर आप किसी खुशी के मौके पर शायरियां अन्य भाषाओ जैसे Hindi, Kannada, Malayalam, Marathi, Telugu, Urdu, Tamil, Gujarati, Punjabi, Nepali, English Language Font 120 Words, 140 Character के 3D HD Image, Wallpapers, Photos, Pictures, Pics Free Download में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया
वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी !!

फिर दे के ख़ुशी हम उसे नाशाद करें क्यूँ
ग़म ही से तबीअत है अगर शाद किसी की

टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया
वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी !!

अहबाब को दे रहा हूँ धोका
चेहरे पे ख़ुशी सजा रहा हूँ

Two Lines Khushi Shayari in Hindi Font

Khushi Shayari in Punjabi

चलो फ़िर से हौले से मुस्कुराते हैं,
बिना माचिस के ही लोगों को जलाते हैं।

सफ़ेद-पोशी-ए-दिल का भरम भी रखना है
तिरी ख़ुशी के लिए तेरा ग़म भी रखना है

तू अचानक मिल गयी तो कैसे पहचानूंगा मै,
ऐ खुशी… तू अपनी तसवीर भेज दे…

सौत क्या शय है ख़ामुशी क्या है
ग़म किसे कहते हैं ख़ुशी क्या है

खुशी वाली शायरी

चलिये कुछ बचकानी बातें करते है…
हर वक्त की समझदारी तो बोझ है…

ऐश ही ऐश है न सब ग़म है
ज़िंदगी इक हसीन संगम है

उम्र कहती है, अब संजीदा हुआ जाये…
दिल कहता है, कुछ नादानियॉ अौर सही…!!

सुनते हैं ख़ुशी भी है ज़माने में कोई चीज़
हम ढूँडते फिरते हैं किधर है ये कहाँ है

Khushi Shayari Ghalib

Shayari Khushi Zindagi

ताल्लुकात बढ़ाने हैं तो कुछ आदतें बुरी भी सीख लो…
ऐब न हो…तो लोग महफिलों में नहीं बुलाते…!

ढूँड लाया हूँ ख़ुशी की छाँव जिस के वास्ते
एक ग़म से भी उसे दो-चार करना है मुझे

खुशियां बहुत सस्ती हैं इस दुनिया में,
हम ही ढूंढते हैं उसे महंगी दुकानों में

शब्दों के इत्तेफाक में यूॅ बदलाव करके देख..
तू देख कर न मुस्कुरा बस मुस्कुरा के देख…

खुशी पर शायरी

तमाम उम्र ख़ुशी की तलाश में गुज़री
तमाम उम्र तरसते रहे ख़ुशी के लिए

शब्दों के इत्तेफाक में यूॅ बदलाव करके देख
तू देख कर न मुस्कुरा बस मुस्कुरा के देख.

एक वो हैं कि जिन्हें अपनी ख़ुशी ले डूबी
एक हम हैं कि जिन्हें ग़म ने उभरने न दिया

छोटी सी ज़िन्दगी है हर बात में खुश रहो,
कल किसने देखा है बस अपने आज में खुश रहो

Khushi 2 Line Shayari in Hindi

Khushi Shayari SMS Hindi

तेरे आने से यू ख़ुशी है दिल
जूँ कि बुलबुल बहार की ख़ातिर

मुस्कुरा के देखो तो सारा जहॉ रंगीन है…
वरना भीगी पलकों से तो आईना भी धुंधला दुखता है..

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया

वस्ल की रात ख़ुशी ने मुझे सोने न दिया
मैं भी बेदार रहा ताले-ए-बेदार के साथ

खुशी हिन्दी शायरी

श की मिल जाए मुझे मुक़द्दर की कलम
लिख दू लम्हा लम्हा खुशी एक अजनबी की ज़िन्दगी के लिए

ग़म है न अब ख़ुशी है न उम्मीद है न यास
सब से नजात पाए ज़माने गुज़र गए

वो दिल ले के ख़ुश हैं मुझे ये ख़ुशी है
कि पास उन के रहता हूँ मैं दूर हो कर

जैसे उस का कभी ये घर ही न था
दिल में बरसों ख़ुशी नहीं आती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *