नारी सशक्तिकरण पर कविता

नारी सशक्तिकरण पर कविता – Poem on Women Empowerment in Hindi

Posted by

हमारे समाज में जिस तरह से महिलाये असुरक्षित है दिन पर दिन किसी न किसी तरह की घटना महिला देखने को मिलती है उसको देख कर लगता है की हमारे समाज में महिलाओ के सशक्तिकरण के लिए उनका हौसला बढ़ाने के लिए की वह किसी से कम नहीं इसके लिए हमें कई तरह के कार्य करने की आवश्यकता है | महिलाओ को हर स्तर पर बढ़ावा देने के लिए हमें उन्हें मोटीवेट करना होता है जिसके लिए हम आपको महिलाओ के ऊपर उनके विकास के लिए कुछ प्रेरणादायक कविताएँ बताते है जिसे आप यहाँ से जान सकते है |

Nari Sashaktikaran Par Kavita in Hindi

अगर आप hindi poem on nari shakti, inspirational poems on women’s day in hindi, hindi kavita on nari, hindi poem on mahila diwas, hindi kavita on nari atyachar, kavita on nari shakti, nari sashaktikaran par slogan in hindi ppt, nari shakti pr slogan in hindi, nari ki shakti par kavita के बारे में जानकारी यहाँ से पा सकते है :

तोड़ के पिंजरा
जाने कब उड़ जाऊँगी मैं
लाख बिछा दो बंदिशे
फिर भी आसमान मैं जगह बनाऊंगी मैं
हाँ गर्व है मुझे मैं नारी हूँ
भले ही रूढ़िवादी जंजीरों सेबांधे है दुनिया ने पैर मेरे
फिर भी इसे तोड़ जाऊँगी
मैं किसी से कम नहीं सारी दुनिया को दिखाऊंगी
जो हालत से हारे ऐसी नहीं मैं लाचारी हूँ
हाँ गर्व है मुझे मैं नारी हूँ

पोएम व वीमेन एम्पावरमेंट इन हिंदी

नारी सशक्तिकरण के नारों से,गूंज उठी है वसुंधरा,
संगोष्ठी, परिचर्चाएं सुन-सुन, अंतर्मन ये पूछ पड़ा।
वेद, पुराण, ग्रंथ सभी, नारी की महिमा दोहराते,
कोख में कन्या आ जाए, क्यूं उसकी हत्या करवाते?
कूड़े, करकट के ढेरों में, कुत्तों के मुंह से नुचवाते,
बेटे की आस में प्रतिवर्ष,बेटियां घरों में जनवाते ।
कोख जो सूनी रह जाए ,अनाथाश्रमों की फेरी लगाते,
गोद में बालक ले लेते,बालिका को हैं ठुकराते।
गुरुद्वारे, मंदिर, गिरजे, मस्जिद, जा-जा नित शीश नवाते,
पुत्र-रत्न पाने की चाहत,ईश्वर को भी भेंट चढ़ाते।
चांदी के सिक्कों के प्रलोभी, दहेज की बलि चढ़ा देते,
पदोन्नति की खातिर, सीढ़ी इसे बना लेते।
मनचले, वाणी के तीरों से, सीना छलनी कर देते,
वहशी, दरिंदे, पशु,असुर, क्यूं हवस अपनी बुझा लेते।
सरस्वती, लक्ष्मी, शीतला, नारी दुर्गा भी बन जाए,
मनमोहिनी, गणगौर सी,काली का रूप भी दिखलाए।
शक्ति को ना ललकारो, इसको नारी ही रहने दो,
करुणा, ममता की सरिता ये,कल-कल शीतल ही बहने दो ।

Poem on Women Empowerment in Hindi

Poem on Women’s Empowerment in Marathi

नारी सिर्फ उपभोग की वस्तु है
ऐसे विचार कभी क़बूल मत करना
नारी को अबला समझने की कभी भूल मत करना
नारी अम्बर है कोई शीशे की दिवार नहीं
नारी खुद में शक्ति है किसी की मोहताज़ नहीं
संघर्षो से टकराना उसको भी आता है
हर मुश्क़िल से गुजर जाना उसको भी आता है
प्यार से देखोगें तो बहार नज़र आयेगी
नफरत से तोड़ोगे दीवार नज़र आयेगी

Poem on Female Empowerment in Hindi

अच्छे लगते हैं
पीले पत्ते
सूखी टहनियां
अंधकार से धिरा आसमान
पथरीला रास्ता
कांटो भरी राह
अनुत्तरित प्रश्नो को तलाशती सूनी निगाह
इसलिए नही
कि हौसळे बुलंद हैं
जोश है कुछ कर दिखाने का या मन मे भरा है धैर्य, आत्मविश्वास
जुनून है, लग्न है कि जीतना ही है
नही
बल्कि इसलिए कि
मै हूं नारी
ईश्वर की अनमोल सरंचना
एक तोहफा
जन्मदात्री हू ना
इसलिए जानती हूं
कि
पीडा मे कितना सुख है
इसलिए तो तैयार हूं
अंगारो भरी राह पर खुद को समर्पित करने को
तभी तो
अच्छे लगते हैं
बडे अच्छे लगतें हैं
पीले पत्ते
सूखी टहनियां
अंधकार से धिरा आसमान ….!!!

Nari Sashaktikaran Par Kavita in Hindi

Hindi Poem on Nari Sashaktikaran

अगर आप नारी शक्ति पर शायरी, महिला पर कविता, नारी पर कविता इन हिंदी, नारी सशक्तिकरण पर लेख, नारी शक्ति पर नारे, महिला दिवस पर कविता, नारी पर स्लोगन, नारी शक्ति par kavita, नारी सशक्तिकरण पर kavita, hindi poem on women’s day के बारे में जानकारी यहाँ से पा सकते है :

अंदर से रोती फिर भी बाहर से हँसती है
बार-बार जूड़े से बिखरे बालों को कसती है
शादी होती है उसकी या वो बिक जाती है
शौक,सहेली,आजादी मायके में छुट जाती है
फटी हुई एड़ियों को साड़ी से ढँकती है
खुद से ज्यादा वो दुसरो का ख्याल रखती है
सब उस पर अधिकार जमाते वो सबसे डरती है
क्योंकि बिकी हुई औरत बगावत नही करती है।
शादी हकोर लड़की जब ससुराल में जाती है
भूलकर वो मायका घर अपना बसाती है
घर आँगन खुशियो से भरते जब वो घर में आती है
सबको खाना खिलाकर फिर खुद खाती है
जो घर संभाले तो सबकी जिंदगी सम्भल जाती है
लड़की शादी के बाद कितनी बदल जाती है।
गले में गुलामी का मंगलसूत्र लटक जाता है
सिर से उसका पल्लू गिरे तो सबको खटक जाता है
अक्सर वो ससुराल की बदहाली में सड़ती है
क्योंकि बिकी हुई औरत बगावत नही करती है।
आखिर क्यों बिक जाती, औरत इस समाज में?
क्यों डर-डर के बोलती, गुलामी की आवाज में?
गुलामी में जागती हैं, गुलामी में सोती हैं
दहेज़ की वजह से हत्याएँ जिनकी होती हैं
जीना उसका चार दीवारो में उसी में वो मरती है
क्योंकि बिकी हुई औरत बगावत नही करती है।
जिस दिन सीख जायेगी वो हक़ की आवाज उठाना
उस दिन मिल जायेगा उसे सपनो का ठिकाना
खुद बदलो समाज बदलेगा वो दिन भी आएगा
जब पूरा ससुराल तुम्हारे साथ बैठकर खाना खायेगा
लेकिन आजादी का मतलब भी तुम भूल मत जाना
आजादी समानता है ना की शासन चलाना
असमानता के चुंगल में नारी जो फँस जाती है
तानाशाही का शासन वो घर में चलाती है
समानता से खाओ समानता से पियो
समानता के रहो समानता से जियो
असमानता वाले घरों की, एक ही पहचान होती है
या तो पुरुष प्रधान होता या महिला प्रधान होती है
रूढ़िवादी घर की नारी आज भी गुलाम है
दिन भर मशीन की तरह पड़ता उन पे काम है
दुःखों के पहाड़ से वो झरने की तरह झरती है
क्योंकि बिकी हुई औरत बगावत नही करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *