Poem (कविता)

पर्यावरण संरक्षण पर कविता – Environment Poem in Hindi – Hindi Poetry on Environment

पर्यावरण पर कविता
Written by admin

पर्यावरण हमारे जीवन का ऐसा हिस्सा है जो की हमें प्रकृति द्वारा मुफ्त में प्राप्त हुआ है प्रकृति को बचाने के लिए कई तरह के संगठन कई अभियान चलाते है जिससे की पर्यावरण का बचाव किया जा सके | इसीलिए कई महान शायरों ने पर्यावरण के ऊपर अपनी कई तरह की रचनाये की है अगर आप उन रचनाओं में से कुछ बेहतरीन कविताओं के बारे में जानना चाहे तो इसके लिए आप हमारे द्वारा बताई गयी जानकारी को पढ़ सकते है तथा अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते है |

पर्यावरण प्रदूषण पर कविता

अगर आप पर्यावरण बचाओ पर कविता, paryavaran पर कविता, पर्यावरण पर आधारित कविता, पर्यावरण की रक्षा पर कविता, पर्यावरण पर कविताये, पर्यावरण पर एक कविता, प्रकृति और पर्यावरण पर निबंध, पर्यावरण सुरक्षा पर कविता, पर्यावरण पर दोहे, पेड़ पर कविताएं, पर्यावरण कविता मराठी, पर्यावरणावर कविता, पर्यावरण पर नारा लेखन, पर्यावरण पर भाषण के बारे में जानना चाहे तो इसके बारे में जानकारी यहाँ से जान सकते है :

बहुत लुभाता है गर्मी में,
अगर कहीं हो बड़ का पेड़।
निकट बुलाता पास बिठाता
ठंडी छाया वाला पेड़।
तापमान धरती का बढ़ता
ऊंचा-ऊंचा, दिन-दिन ऊंचा
झुलस रहा गर्मी से आंगन
गांव-मोहल्ला कूंचा-कूंचा।
गरमी मधुमक्खी का छत्ता
जैसे दिया किसी ने छेड़।
आओ पेड़ लगाएं जिससे
धरती पर फैले हरियाली।
तापमान कम करने को है
एक यही ताले की ताली
ठंडा होगा जब घर-आंगन
तभी बचेंगे मोर-बटेर
तापमान जो बहुत बढ़ा तो
जीना हो जाएगा भारी
धरती होगी जगह न अच्‍छी
पग-पग पर होगी बीमारी
रखें संभाले इस धरती को
अभी समय है अभी न देर।

पर्यावरण पर बाल कविता

अगर आप एनवायरनमेंट पोएम इन हिंदी, पर्यावरण पर निबंध हिंदी में, पर्यावरण पर कविता इन हिंदी, विश्व पर्यावरण दिवस पर कविता, वन और पर्यावरण पर निबंध, पर्यावरण पर निबंध संस्कृत में, प्रदूषण और पर्यावरण पर निबंध, पर्यावरण पर कविता हिंदी में, पर्यावरण par kavita in hindi, पर्यावरण पर निबंध मराठी, पर्यावरण संरक्षण पर निबंध मराठी, पर्यावरण प्रदूषण पर हिंदी कविता, हमारा पर्यावरण पर कविता, पर्यावरण शिक्षा पर निबंध के बारे में जानना चाहे तो इसके बारे में जानकारी यहाँ से जान सकते है :

बदन पर लेप लपेटे हो
कई ब्रांडेड प्रसाधनों के
होठों पर लगाकर लाली
लहराते हो काले बाल ।
पहनकर निकलते हो
रेशमी परिधान
निकल पड़े हो
बिखेरते हुए खूशबू इतर के।
कूड़े कचरे को हटाकर
साफ तो कर दिये
बना दिये घर को स्वर्ग ।
सड़क पर जो फेंका गया
तुम्हारे घर का कचरा
देखो कैसा दुर्गंध फैला हुआ है !
बड़े आम औरअमरूद के पेड़
काटकर बना लिये हो महल
कभी सोचा है
कैसे जी पाओगे
ऑक्सीजन के बगैर !
आज जैसे खुद को सजाये हो
अगर धरती माँ को भी सजाओ
कभी न लगाने पड़े चेहरे पर
यह कीमती प्रसाधन, न इतर ।
समय रहते संभल जाओ
अपना पर्यावरण संरक्षण करो
साफ रखो खुशहाल रहो ।

Poetry on Save Environment

अगर आप poem on environment in hindi for class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12, 4 line poem on environment in hindi, world environment day 2015 poem in hindi, save the environment poems in hindi, our nature and environment poem in hindi, environment conservation poem in hindi, environment safety poem in hindi, environment based poem in hindi के बारे में जानना चाहे तो इसके बारे में जानकारी यहाँ से जान सकते है :

प्रकृति ने अच्छा दृश्य रचा
इसका उपभोग करें मानव।
प्रकृति के नियमों का उल्लंघन करके
हम क्यों बन रहे हैं दानव।
ऊँचे वृक्ष घने जंगल ये
सब हैं प्रकृति के वरदान।
इसे नष्ट करने के लिए
तत्पर खड़ा है क्यों इंसान।
इस धरती ने सोना उगला
उगलें हैं हीरों के खान
इसे नष्ट करने के लिए
तत्पर खड़ा है क्यों इंसान।
धरती हमारी माता है
हमें कहते हैं वेद पुराण
इसे नष्ट करने के लिए
तत्पर खड़ा है क्यों इंसान।
हमने अपने कूकर्मों से
हरियाली को कर डाला शमशान
इसे नष्ट करने के लिए
तत्पर खड़ा है क्यों इंसान।

Poem on Environment

A Short Poem on Environment in Hindi

अगर आप a small poem on environment in hindi , save world environment day poem in hindi, environment short poem in hindi, beautiful, best, clean, save our, hindi poems on environment pollution, hindi poem on paryavaran pradushan, paryavaran geet in hindi, poem on nature in hindi language, paryavaran kavita in marathi, poem on pollution in hindi for class 8, short poem on pollution in hindi language, environment poems in hindi tree के बारे में जानना चाहे तो इसके बारे में जानकारी यहाँ से जान सकते है :

पर्यावरण को बचाना हमारा ध्येय हो
सबके पास इसके लिए समय हो
पर्यावरण अगर नहीं रहेगा सुरक्षित
हो जायेगा सबकुछ दूषित
भले ही आप पेड़ लगाये एक
पूरी तरह करे उसकी देखरेख
सौर उर्जा का करे सब उपयोग
कम करे ताप विद्युत् का उपभोग
रासायनिक खाद का कम करे छिडकाव
भूमि को प्रदूषित होने से बचाव
कचड़ो का समुचित रीती से करो निपटारा
फैक्ट्रियो में जब सौर यन्त्र लगाई जाएँगी
वायु प्रदुषण में अपने आप कमी आएँगी
तब जाकर पर्यावरण प्रदुषण में कमी आएँगी
आधी बीमारिया अपने आप चली जाएगी

पर्यावरण पर छोटी कविता

अगर आप poetry on environmental pollution in urdu, write poetry recitation on environment, a poem on save environment in hindi, i want poem on environment, an english poem on environment, the poem on environment, a poem based on environment, poetry the environment, the best poem on environment, give a poem on clean environment in sanskrit, slam, a long poem on environment in punjabi conservation, a poem on protection of environment के बारे में जानना चाहे तो इसके बारे में जानकारी यहाँ से जान सकते है :

ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है हमसे
ये हवाओ की सरसराहट
ये पेड़ो पर फुदकते चिड़ियों की चहचहाहट
ये समुन्दर की लहरों का शोर
ये बारिश में नाचते सुंदर मोर
कुछ कहना चाहती है हमसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है हमसे
ये खुबसूरत चांदनी रात
ये तारों की झिलमिलाती बरसात
ये खिले हुए सुन्दर रंगबिरंगे फूल
ये उड़ते हुए धुल
कुछ कहना चाहती है हमसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है हमसे
ये नदियों की कलकल
ये मौसम की हलचल
ये पर्वत की चोटियाँ
ये झींगुर की सीटियाँ
कुछ कहना चाहती है हमसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है हमसे

Poem on Environment in Hindi for Class 9

भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है
हम सबको ही मिल करके
सम्भव हर यत्न करके
बीडा़ यही उठाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है
होगा जब ये भारत स्वच्छ
सब जन होंगे तभी स्वस्थ
सबको यही समझाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है
गंगा माँ के जल को भी
यमुना माँ के जल को भी
मोती सा फिर चमकाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है
आओ मिल कर करें संकल्प
होना मन में कोइ विकल्प
गन्दगी को दूर भगाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है
देश को विकसित करने का
जग में उन्नति बढ़ाने का
नई नीति सदा बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है
हम सबको ही मिल करके
हर बुराई को दूर करके
आतंकवाद को भी मिटाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है
मानवता को दिल में रखके
धर्म का सदा आचरण करके
देश से कलह मिटाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है
सत्य अहिंसा न्याय को लाकर
सबके दिल में प्यार जगाकर
स्वर्ग को धरा पर लाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को ऊँचा उठाना है

प्रकृति और पर्यावरण पर कविता

अगर आप पर्यावरण के ऊपर कुछ बेहतरीन कविताये व इसके paryavaran par kavita in hindi, paryavaran pradushan par kavita, paryavaran par kavita hindi mein, पर्यावरण संरक्षण par kavita, paryavaran divas par kavita, poetry on the environment, best poetry on environment day, poetry on environmental issues, a short, poem on environment in english, an acrostic poem on environment, a poem on world environment day के बारे में जानना चाहे तो इसकी जानकारी यहाँ से जान सकते है :

रो-रोकर पुकार रहा हूं,
हमें जमीं से मत उखाड़ो।
रक्तस्राव से भीग गया हूं मैं,
कुल्हाड़ी अब मत मारो।
आसमां के बादल से पूछो,
मुझको कैसे पाला है।
हर मौसम में सींचा हमको,
मिट्टी-करकट झाड़ा है।
उन मंद हवाओं से पूछो,
जो झूला हमें झुलाया है।
पल-पल मेरा ख्याल रखा है,
अंकुर तभी उगाया है।
तुम सूखे इस उपवन में,
पेड़ों का एक बाग लगा लो।
रो-रोकर पुकार रहा हूं,
हमें जमीं से मत उखाड़ो।
इस धरा की सुंदर छाया,
हम पेड़ों से बनी हुई है।
मधुर-मधुर ये मंद हवाएं,
अमृत बन के चली हुई हैं।
हमीं से नाता है जीवों का,
जो धरा पर आएंगे।
हमीं से रिश्ता है जन-जन का,
जो इस धरा से जाएंगे।
शाखाएं आंधी-तूफानों में टूटीं,
ठूंठ आंख में अब मत डालो।
रो-रोकर पुकार रहा हूं,
हमें जमीं से मत उखाड़ो।
हमीं कराते सब प्राणी को,
अमृत का रसपान।
हमीं से बनती कितनी औषधि।
नई पनपती जान।
कितने फल-फूल हम देते,
फिर भी अनजान बने हो।
लिए कुल्हाड़ी ताक रहे हो,
उत्तर दो क्यों बेजान खड़े हो।
हमीं से सुंदर जीवन मिलता,
बुरी नजर मुझपे मत डालो।
रो-रोकर पुकार रहा हूं,
हमें जमीं से मत उखाड़ो।
अगर जमीं पर नहीं रहे हम,
जीना दूभर हो जाएगा।
त्राहि-त्राहि जन-जन में होगी,
हाहाकार भी मच जाएगा।
तब पछताओगे तुम बंदे,
हमने इन्हें बिगाड़ा है।
हमीं से घर-घर सब मिलता है,
जो खड़ा हुआ किवाड़ा है।
गली-गली में पेड़ लगाओ,
हर प्राणी में आस जगा दो।
रो-रोकर पुकार रहा हूं,
हमें जमीं से मत उखाड़ो।

Hindi Poetry on Environment

Environment Related Poem in Hindi

लो आ गया फिर से हँसी मौसम बसंत का
शुरुआत है बस ये निष्ठुर जाड़े के अंत का
गर्मी तो अभी दूर है वर्षा ना आएगी
फूलों की महक हर दिशा में फ़ैल जाएगी
पेड़ों में नई पत्तियाँ इठला के फूटेंगी
प्रेम की खातिर सभी सीमाएं टूटेंगी
सरसों के पीले खेत ऐसे लहलहाएंगे
सुख के पल जैसे अब कहीं ना जाएंगे
आकाश में उड़ती हुई पतंग ये कहे
डोरी से मेरा मेल है आदि अनंत का
लो आ गया फिर से हँसी मौसम बसंत का
शुरुआत है बस ये निष्ठुर जाड़े के अंत का
ज्ञान की देवी को भी मौसम है ये पसंद
वातवरण में गूंजते है उनकी स्तुति के छंद
स्वर गूंजता है जब मधुर वीणा की तान का
भाग्य ही खुल जाता है हर इक इंसान का
माता के श्वेत वस्त्र यही तो कामना करें
विश्व में इस ऋतु के जैसी सुख शांति रहे
जिसपे भी हो जाए माँ सरस्वती की कृपा
चेहरे पे ओज आ जाता है जैसे एक संत का
लो आ गया फिर से हँसी मौसम बसंत का
शुरुआत है बस ये निष्ठुर जाड़े के अंत का

पर्यावरण की सुरक्षा पर कविता

कितने प्यार से किसी ने
बरसों पहले मुझे बोया था
हवा के मंद मंद झोंको ने
लोरी गाकर सुलाया था ।
कितना विशाल घना वृक्ष
आज मैं हो गया हूँ
फल फूलो से लदा
पौधे से वृक्ष हो गया हूँ ।
कभी कभी मन में
एकाएक विचार करता हूँ
आप सब मानवों से
एक सवाल करता हूँ ।
दूसरे पेड़ों की भाँति
क्या मैं भी काटा जाऊँगा
अन्य वृक्षों की भाँति
क्या मैं भी वीरगति पाउँगा ।
क्यों बेरहमी से मेरे सीने
पर कुल्हाड़ी चलाते हो
क्यों बर्बरता से सीने
को छलनी करते हो ।
मैं तो तुम्हारा सुख
दुःख का साथी हूँ
मैं तो तुम्हारे लिए
साँसों की भाँति हूँ।
मैं तो तुम लोगों को
देता हीं देता हूँ
पर बदले में
कछ नहीं लेता हूँ ।
प्राण वायु देकर तुम पर
कितना उपकार करता हूँ
फल-फूल देकर तुम्हें
भोजन देता हूँ।
दूषित हवा लेकर
स्वच्छ हवा देता हूँ
पर बदले में कुछ नहीं
तुम से लेता हूँ ।
ना काटो मुझे
ना काटो मुझे
यही मेरा दर्द है।
यही मेरी गुहार है।
यही मेरी पुकार है।

Environment Pollution Poem in Hindi

करके ऐसा काम दिखा दो, जिस पर गर्व दिखाई दे।
इतनी खुशियाँ बाँटो सबको, हर दिन पर्व दिखाई दे।
हरे वृक्ष जो काट रहे हैं, उन्हें खूब धिक्कारो,
खुद भी पेड़ लगाओ इतने, धरती स्वर्ग दिखाई दे।।
करके ऐसा काम दिखा दो…
कोई मानव शिक्षा से भी, वंचित नहीं दिखाई दे।
सरिताओं में कूड़ा-करकट, संचित नहीं दिखाई दे।
वृक्ष रोपकर पर्यावरण का, संरक्षण ऐसा करना,
दुष्ट प्रदूषण का भय भू पर, किंचित नहीं दिखाई दे।।
करके ऐसा काम दिखा दो…
हरे वृक्ष से वायु-प्रदूषण का, संहार दिखाई दे।
हरियाली और प्राणवायु का, बस अम्बार दिखाई दे।
जंगल के जीवों के रक्षक, बनकर तो दिखला दो,
जिससे सुखमय प्यारा-प्यारा, ये संसार दिखाई दे।।
करके ऐसा काम दिखा दो…
वसुन्धरा पर स्वास्थ्य-शक्ति का, बस आधार दिखाई दे।
जड़ी-बूटियों औषधियों की, बस भरमार दिखाई दे।
जागो बच्चो, जागो मानव, यत्न करो कोई ऐसा,
कोई प्राणी इस धरती पर, ना बीमार दिखाई दे।।
करके ऐसा काम दिखा दो…

About the author

admin

Leave a Comment