प्रेमचंद की कविताएँ

प्रेमचंद की कविताएँ – Kavi Munshi Premchand Poems in Hindi – Famous Poetry Kavita

Posted by

मुंशी प्रेमचंद जी उर्दू तथा हिंदी के एक महान कवी थे जो की एक कवि व लेखक के अलावा अध्यापक, लेखक तथा पत्रकार भी थे उनका जन्म ३१ जुलाई १८८० में लमही नामक ग्राम में वाराणसी जिले उत्तर प्रदेश में हुआ था व इनकी मृत्यु ८ अक्टूबर, १९३६ में वाराणसी में हुई थी | इसीलिए हम आपको इनके द्वारा लिखी गयी कुछ बेहतरीन कविताये पोयम्स व पोएट्री के बारे में जानकारी देते है जिन्हे आप जान सकते है तथा अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते है |

Premchand Kavita in Hindi – मुंशी प्रेमचंद पर कविता

अगर आप प्रेमचंद की रचनाएँ, प्रेमचंद कविता, प्रेमचंद kavita, list of poems of munshi premchand in hindi, प्रेमचंद कि कविता, प्रेमचंद की छोटी कविता, premchand ki kavita, प्रेमचंद की कविता हिंदी में, प्रेमचंद की एक सुंदर कविता, मुंशी प्रेमचंद की कविता इन हिंदी, मुंशी प्रेमचंद कविता, प्रेमचंद के पुरस्कार, प्रेमचंद पोयम्स तथा प्रेमचंद पोएम के बारे में जानने के लिए आप यहाँ से जान सकते है :

क़लम के जादूगर!
अच्छा है,
आज आप नहीं हो|
अगर होते,
तो, बहुत दुखी होते|
आप ने तो कहा था
कि, खलनायक तभी मरना चाहिए,
जब,
पाठक चीख चीख कर बोले,
मार – मार – मार इस कमीने को|
पर,
आज कल तो,
खलनायक क्या?
नायक-नायिकाओं को भी,
जब चाहे ,
तब,
मार दिया जाता है|
फिर जिंदा कर दिया जाता है|
और फिर मार दिया जाता है|
और फिर,
जनता से पूछने का नाटक होता है-
कि अब,
इसे मरा रखा जाए?
या जिंदा किया जाए?
सच,
आप की कमी,
सदा खलेगी –
हर उस इंसान को,
जिसे
मुहब्बत है,
साहित्य से,
सपनों से,
स्वप्नद्रष्टाओं,
समाज से,
पर समाज के तथाकथित सुधारकों से नहीं|
हे कलम के सिपाही,
आज के दिन
आपका सब से छोटा बालक,
आप के चरणों में
अपने श्रद्धा सुमन,
सादर समर्पित करता है |

Kavi Munshi Premchand Poems in Hindi

Munshi Premchand Poems Names in Hindi – Premchand Famous Poems

अगर आप premchand kavita kosh, premchand poet in hindi, Premchand Poetry, premchand poet wikipedia, प्रेमचंद की poem, premchand poems in english, kavi premchand poems, premchand poem on nature in hindi, premchand poets, premchand poem in english, प्रेमचंद poems के बारे में जानने के लिए यहाँ से जान skate है :

दुनिया में यूँ तो हर किसी का साथ-संग मिला
अफ़सोस सब के चेहरे पे एक ज़र्द रंग मिला
मज़हब की रौशनी से था रौशन हुआ जहाँ
मज़हब के मसीहाओं से पर शहर तंग मिला
सच की उड़ान जिसने भरी और उड़ चला
वो शख़्स शहादत की लिए इक उमंग मिला
कल तक गले लगा के जो करता था जाँ निसार
बातों में उसकी आज अनोखा या ढंग मिला
जिसने लिबास ओढ़ रखा था उसूल का
वो फर्द सियात की उड़ाता पतंग मिला
सूली पे चढ़ गया कोई हक़ बोलकर यहाँ
तारिख़ के पन्नों पे इक ऐसा प्रसंग मिला
शीशे में शक्ल देख हैराँ हुआ हूँ मैं
शीशा भी मुझे देखकर किस कद्र दंग मिला
मज़नू जहाँ गया वहाँ इक भीड़ थी जमा
हाथों में सबके एक नुकीला सा संग मिला
मिलकर चले थे सबके कदम सहर की तरफ
क्यों आज विरासत में ये मैदाने जंग मिला

Famous Poetry Kavita

Premchand Poetry in Hindi – Premchand ki Poem In Hindi

अगर आप poem about munshi premchand in hindi, premchand short poems, प्रेमचंद poem, प्रेमचंद की poem, short hindi poems, famous hindi poems, hindi poems on life, hindi poems for class 8, hindi poems for class 6, class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 famous hindi poems for recitation competition के बारे में जानने के लिए यहाँ से जान skate है :

सन् अट्ठारह सौ अस्सी, लमही सुंदर ग्राम।
प्रेमचंद को जनम भयो, हिन्दी साहित काम।।
परमेश्वर पंचन बसें, प्रेमचंद कहि बात।
हल्कू कम्बल बिन मरे, वही पूस की रात।।
सिलिया को भरमाय के, पंडित करता पाप।
धरम ज्ञान की आड़ में, मनमानी चुपचाप।।
बेटी बुधिया मर गई, कफन न पायो अंग।
घीसू माधू झूमते, मधुशाला के संग।।
होरी धनिया मर गए, कर न सके गोदान।
जीवनभर मेहनत करी, प्रेमचंद वरदान।।
मुन्नी तो तरसत रही, आभूषण नहि पाई।
झुनिया गोबर घूमते, बिन शिक्षा के माहि।।
बेटी निर्मला कह रही, कन्या दीजे मेल।
जीवनभर को मरण है, ब्याह होय बेमेल।।
पंच बसे परमात्मा, खाला लिए बुलाय।
शेखा जुम्मन देखते, अलगू करते न्याय।।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *