मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी – मिर्ज़ा ग़ालिब के शेर – Mirza Ghalib Two Line Shayari in Hindi Font & Urdu

Posted by

उर्दू के महान शायरों में सबसे पहले मिर्ज़ा ग़ालिब का नाम आता है उर्दू के अलावा वह फ़ारसी के भी बहुत महान शायर थे | इनका जन्म 27 दिसंबर 1796 आगरा, उत्तर प्रदेश में हुआ तथा इनकी मृत्यु 15 फरवरी, 1869 दिल्ली में हुई थी | वह मुग़ल शासक के अंतिम सम्राट बहादुर शाह ज़फ़र के दरबार कवि थे इसीलिए हम आपको मिर्ज़ा ग़ालिब द्वारा कहे गए कुछ बेहतरीन शेर व शायरियो के बारे में बताते है जिन्हे पढ़ कर आप इनके बारे में काफी कुछ जान सकते है |

Mirza Ghalib Shayari in Hindi 2 Lines

अगर आप books, in english, font, mp3, pdf free download, pdf मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी इन हिंदी २ लाइन्स, in punjabi, in english translation, language, images, in pdf मिर्ज़ा ग़ालिब shayari, 4 line मिर्जा ग़ालिब हिंदी शायरी, mirza ghalib sad shayari, मिर्ज़ा ग़ालिब हिन्दी शायरी, मिर्ज़ा ग़ालिब शेर शायरी, 140, hd wallpaper मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी ओं ताज महल के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

आतिश-ए-दोज़ख़ में ये गर्मी कहाँ
सोज़-ए-ग़म-हा-ए-निहानी और है

अब जफ़ा से भी हैं महरूम हम अल्लाह अल्लाह
इस क़दर दुश्मन-ए-अरबाब-ए-वफ़ा हो जाना

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नहीं आती

आशिक़ हूँ प माशूक़-फ़रेबी है मिरा काम
मजनूँ को बुरा कहती है लैला मिरे आगे

2 Line Mirza Ghalib Shayari

कहूँ किस से मैं कि क्या है शब-ए-ग़म बुरी बला है
मुझे क्या बुरा था मरना अगर एक बार होता

कलकत्ते का जो ज़िक्र किया तू ने हम-नशीं
इक तीर मेरे सीने में मारा कि हाए हाए

आशिक़ी सब्र-तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करूँ ख़ून-ए-जिगर होते तक

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

Mirza Ghalib Shayari in Hindi on Love

अगर आप मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी ओं लाइफ, मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी इन हिंदी फॉन्ट, मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी इन हिंदी पीडीऍफ़ डाउनलोड, मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी, लव mirza ghalib शायरी, hd मिर्ज़ा ग़ालिब, गालिब की शायरी, शायरी mirza ghalib, in two lines mirza ghalib sher, mirza ghalib sher o shayri, mirza ghalib sher in urdu मिर्ज़ा ग़ालिब शेर mirza ghalib sher shayari, in hindi font mirza ghalib sher in english, mirza ghalib sher in hindi pdf, के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

आ ही जाता वो राह पर ‘ग़ालिब’
कोई दिन और भी जिए होते

और बाज़ार से ले आए अगर टूट गया
साग़र-ए-जम से मिरा जाम-ए-सिफ़ाल अच्छा है

इब्न-ए-मरयम हुआ करे कोई
मेरे दुख की दवा करे कोई

ईमाँ मुझे रोके है जो खींचे है मुझे कुफ़्र
काबा मिरे पीछे है कलीसा मिरे आगे

Mirza Ghalib 2 Line Shayari

एक हंगामे पे मौक़ूफ़ है घर की रौनक़
नौहा-ए-ग़म ही सही नग़्मा-ए-शादी न सही

ए’तिबार-ए-इश्क़ की ख़ाना-ख़राबी देखना
ग़ैर ने की आह लेकिन वो ख़फ़ा मुझ पर हुआ

इक ख़ूँ-चकाँ कफ़न में करोड़ों बनाओ हैं
पड़ती है आँख तेरे शहीदों पे हूर की

इन आबलों से पाँव के घबरा गया था मैं
जी ख़ुश हुआ है राह को पुर-ख़ार देख कर

मिर्ज़ा ग़ालिब के शेर

Mirza Ghalib Shayari on Taj Mahal

एक एक क़तरे का मुझे देना पड़ा हिसाब
ख़ून-ए-जिगर वदीअत-ए-मिज़्गान-ए-यार था

क़त्अ कीजे न तअ’ल्लुक़ हम से
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही

क़तरा अपना भी हक़ीक़त में है दरिया लेकिन
हम को तक़लीद-ए-तुनुक-ज़र्फ़ी-ए-मंसूर नहीं

कहते हैं जीते हैं उम्मीद पे लोग
हम को जीने की भी उम्मीद नहीं

Mirza Ghalib Shayari in Hindi on Life

अगर आप mirza ghalib sher , मिर्ज़ा ग़ालिब शेर शायरी, on life mirza ghalib sher o shayri, mp3 free download , pdf , book , pdf , pdf free download , in punjabi , in english translation , download , love , language , in english pdf , in urdu , video , language , images , on waqt , in hindi mirza ghalib , shayari in hindi font , font , , on friends mirza ghalib , shayari in hindi , in hindi font , in pdf , , mirza ghalib sad shayari के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

कहते हुए साक़ी से हया आती है वर्ना
है यूँ कि मुझे दुर्द-ए-तह-ए-जाम बहुत है

आए है बेकसी-ए-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’
किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बला मेरे बअ’द

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

Mirza Ghalib Shayari with Meaning

आँख की तस्वीर सर-नामे पे खींची है कि ता
तुझ पे खुल जावे कि इस को हसरत-ए-दीदार है

आज हम अपनी परेशानी-ए-ख़ातिर उन से
कहने जाते तो हैं पर देखिए क्या कहते हैं

उधर वो बद-गुमानी है इधर ये ना-तवानी है
न पूछा जाए है उस से न बोला जाए है मुझ से

उम्र भर का तू ने पैमान-ए-वफ़ा बाँधा तो क्या
उम्र को भी तो नहीं है पाएदारी हाए हाए

Mirza Ghalib Top 10 Shayari

अगर आप love shayari , mirza ghalib shayri मिर्ज़ा ग़ालिब हिन्दी शायरी ,.com मिर्ज़ा ग़ालिब गालिब की शायरी , hd , hd wallpaper, मिर्ज़ा ग़ालिब शेर शायरी , , mirza ghalib shayri , , 140 mirza ghalib ke shayri मिर्जा ग़ालिब हिंदी शायरी mirza ghalib shayri , mirza ghalib two line shayri in hindi ghalib two lines shayari mirza ghalib two line shayri mirza ghalib two line sad shayari mirza ghalib ki two line ki shayari के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

अदा-ए-ख़ास से ‘ग़ालिब’ हुआ है नुक्ता-सरा
सला-ए-आम है यारान-ए-नुक्ता-दाँ के लिए

इस नज़ाकत का बुरा हो वो भले हैं तो क्या
हाथ आवें तो उन्हें हाथ लगाए न बने

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

कुछ तो पढ़िए कि लोग कहते हैं
आज ‘ग़ालिब’ ग़ज़ल-सरा न हुआ

Mirza Ghalib Two Line Shayari in Hindi

मिर्ज़ा ग़ालिब की हिंदी शायरी

क़ैद-ए-हयात ओ बंद-ए-ग़म अस्ल में दोनों एक हैं
मौत से पहले आदमी ग़म से नजात पाए क्यूँ

अगले वक़्तों के हैं ये लोग इन्हें कुछ न कहो
जो मय ओ नग़्मा को अंदोह-रुबा कहते हैं

अपना नहीं ये शेवा कि आराम से बैठें
उस दर पे नहीं बार तो का’बे ही को हो आए

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

Mirza Ghalib Sher in Hindi Font

उस अंजुमन-ए-नाज़ की क्या बात है ‘ग़ालिब’
हम भी गए वाँ और तिरी तक़दीर को रो आए

अपनी हस्ती ही से हो जो कुछ हो
आगही गर नहीं ग़फ़लत ही सही

अर्ज़-ए-नियाज़-ए-इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा
जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल नहीं रहा

अपनी गली में मुझ को न कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल
मेरे पते से ख़ल्क़ को क्यूँ तेरा घर मिले

Mirza Ghalib shayari Dil E Nadan

अगर आप ghalib best two line shayari ghalib two line sad shayari ghalib two line romantic shayari ghalib two line shayari on love ghalib shayari on love in hindi ghalib shayari on sharab ghalib ki shayari in hindi fonts shayari of ghalib on ishq best shayari of mirza ghalib in hindi two lines shayari by faraz , pdf download के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

अल्लाह रे ज़ौक़-ए-दश्त-नवर्दी कि बाद-ए-मर्ग
हिलते हैं ख़ुद-ब-ख़ुद मिरे अंदर कफ़न के पाँव

इश्क़ मुझ को नहीं वहशत ही सही
मेरी वहशत तिरी शोहरत ही सही

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के

अगर ग़फ़लत से बाज़ आया जफ़ा की
तलाफ़ी की भी ज़ालिम ने तो क्या की

Mirza Ghalib ki Two Line ki Shayari

आज वाँ तेग़ ओ कफ़न बाँधे हुए जाता हूँ मैं
उज़्र मेरे क़त्ल करने में वो अब लावेंगे क्या

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुम को मगर नहीं आती

काफ़ी है निशानी तिरा छल्ले का न देना
ख़ाली मुझे दिखला के ब-वक़्त-ए-सफ़र अंगुश्त

आता है दाग़-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद
मुझ से मिरे गुनह का हिसाब ऐ ख़ुदा न माँग

Mirza Ghalib Shayari in Hindi 2 Lines

Mirza Ghalib Sher O Shayari Collection

उस लब से मिल ही जाएगा बोसा कभी तो हाँ
शौक़-ए-फ़ुज़ूल ओ जुरअत-ए-रिंदाना चाहिए

काव काव-ए-सख़्त-जानी हाए-तन्हाई न पूछ
सुब्ह करना शाम का लाना है जू-ए-शीर का

कभी नेकी भी उस के जी में गर आ जाए है मुझ से
जफ़ाएँ कर के अपनी याद शरमा जाए है मुझ से

काँटों की ज़बाँ सूख गई प्यास से या रब
इक आबला-पा वादी-ए-पुर-ख़ार में आवे

Mirza Ghalib Sher with Meaning

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने

इश्क़ से तबीअत ने ज़ीस्त का मज़ा पाया
दर्द की दवा पाई दर्द-ए-बे-दवा पाया

आते हैं ग़ैब से ये मज़ामीं ख़याल में
‘ग़ालिब’ सरीर-ए-ख़ामा नवा-ए-सरोश है

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

Mirza Ghalib Sher on Love

कब वो सुनता है कहानी मेरी
और फिर वो भी ज़बानी मेरी

कह सके कौन कि ये जल्वागरी किस की है
पर्दा छोड़ा है वो उस ने कि उठाए न बने

कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले

आगही दाम-ए-शुनीदन जिस क़दर चाहे बिछाए
मुद्दआ अन्क़ा है अपने आलम-ए-तक़रीर का

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *