राष्ट्रमंडल खेल पर निबंध 2018

राष्ट्रमंडल खेल पर निबंध 2018 – Commonwealth Games Essay in Hindi Language

Posted by

कामनवेल्थ के बारे में अधिकतर लोगो को जानकारी होती है किसी को कम होती है किसी को कम होती है लेकिन न्यूज़ वेबसाइट व न्यूज़ चैनल इन गेम्स पर लगातार अपनी नज़र बनाये रखते है | कई स्कूल व कॉलेजों में क्लास 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 के बच्चो को राष्ट्रमंडल खेलो पर निबंध दिया जाता है व उनके एग्जाम में भी आता है इसीलिए अगर आप इन गेम्स के ऊपर निबंध के बारे में जानना चाहते है तो यहाँ से जानकारी पढ़ सकते है व अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते है |

Essay Importance Commonwealth Games

Rashtramandal Khel List : अगर आप essay on commonwealth games 2010 in hindi language, commonwealth games wikipedia in hindi, essay on commonwealth games 2010 in hindi language, rashtriya khel mandal essay, essay on commonwealth games 2014 in hindi, essay on commonwealth games in hindi, commonwealth games 2010 essay in hindi, essay on commonwealth games के बारे में जानकारी यहाँ से जान सकते है :

कामनवेल्थ गेम्स ब्रिटिश राष्ट्रमंडल अंतर्गत होने वाली खेल प्रतियोगिता है।
राष्ट्रमंडल खेल प्रत्येक चार वर्ष के अंतराल पर आयोजित किये जाते हैं।
पहले ये खेल प्रतियोगिता “ब्रिटिश एम्पायर गेम्स” के नाम से जाने जाते थे।
एश्ले कपूर वे प्रथम व्यक्ति थे जिन्होंने सद्भावना को प्रोत्साहन देने और पूरे ब्रिटिश राज्य में अच्छे सम्बन्ध बनाये रखने के लिए एक खेल कार्यक्रम करने के विचार को प्रस्तुत किया।
फिर वर्ष 1928 में कनाडा के प्रमुख एथलिट बॉबी रॉबिंसन को प्रथम कामनवेल्थ गेम्स के कार्यभार सौंपा गया।
ये खेल पहली बार 1930 में कनाडा के ओंटारियो शहर में आयोजित किये गए और इसमें 11 देशों के 400 खिलाडियों ने भाग लिया।
तब से हर चार वर्ष में राष्ट्र मंडल खेलों का आयोजन किया जाता है।
वर्ष 1942 और 1946 में विश्व युद्ध के कारण इन खेलों का आयोजन नहीं किया गया।
1942 से पहले मूल रूप से इन खेलों में एकल प्रतिस्पर्धात्मक खेल होते थे परन्तु वर्ष 1998 में कौलालम्पुर में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों में पहली बार क्रिकेट, हॉकी और नेटबॉल जैसे खेलों की टीमों ने अपनी उपस्थिति दर्ज की।
वर्ष 1966 में खेल का प्रतीक (लोगो) का इस्तेमाल शुरू हुआ।
प्रत्येक चार वर्षों में होने वाली इस खेल प्रतियोगिता की मेज़बानी करने के लिए देशों का चयन होता है। 7 देशों के 18 शहर अब तक इस खेल की मेज़बानी कर चुके हैं। इन खेलों में मुख्य रूप से 22 खेल होते हैं तथा सात सहायक खेल भी होते हैं।
अतिरिक्त खेलों का चयन मेज़बान राष्ट्र कर सकता है।

मानवता , समानता और नियति – इन तीन मान्यताओं को 2001 में राष्ट्रमंडल खेलों में अपनाया गया।

हज़ारों लोगों को प्रेरणा देने वाली और उन्हें आपस में जोड़े रखने वाली ये मान्यताएं राष्ट्रमंडल खेलों की मूल मान्यताएं बन गयी हैं और इनका सभी करते हैं।

10 Facts About Commonwealth Games in Hindi

  1. वर्ष 1928 में कनाडा के एक प्रमुख एथलीट बॉबी रॉबिन्सन को प्रथम कॉमनवेल्थ खेलों के अयोजन का भार सौंपा गया
  2. हर चार वर्ष के अन्तराल में कॉमनवेल्थ खेलों का अयोजन किया जाता है
  3. कॉमनवेल्थ खेलों का आयोजन CGF (Commonwealth Games Federation) द्वारा कराया जाता है
  4. CGF(Commonwealth Games Federation) का मुख्यालय लंदन में है
  5. कॉमनवेल्थ गेम्स की शुरूआत क्वींस बेटल रिले से होती है जो‍कि बकिंघम पैलेस से शुरू होकर अयोजित स्थल पर समाप्त होती है
  6. सबसे पहले 1911 में सम्राट जॉज वी के राज्याभिषेक के उपलक्ष्य में लंदन में Festival of the Empire का अयोजित किया गया था
  7. इसके बाद 1930 में इंग्लैड में British Empire Games के नाम से पहले कॉमनवेल्थ गेम्स का अयोजन किया गया था
  8. सन 1954 इसका नाम बदल कर British Empire and Commonwealth Games कर दिया गया था
  9. 1930 के पहले राष्ट्रमंडल खेलों में सिर्फ़ 11 देशों के 400 एथलीटों ने ही हिस्सा लिया था
  10. दूसरे विश्व युद्ध के बाद कई सालों तक ये खेल स्थगित रहे और 1950 से न्यूजीलैंड के ऑकलैंड शहर से दोबारा इनका आयोजन शुरू हुआ |

Commonwealth Games Essay in Hindi Language

Essay on Commonwealth Games in India

राष्ट्रमंडल खेल में भारत – अगर आप history of commonwealth games in hindi language, history of cwg in hindi, rashtramandal khel 2010 in hindi, 10 facts about commonwealth games in hindi, राष्ट्रमंडल खेल 2010 पर निबंध, rashtramandal khel 2018, के बारे में जानकारी यहाँ से जान सकते है :

राष्ट्रमंडल खेलों एक बहुराष्ट्रीय, बहु-खेल आयोजन है। यह चार साल में एक बार आयोजित किया जाता है। राष्ट्रमंडल राष्ट्रों के अभिजात वर्ग के एथलीटों ने इसमें भाग लिया

यह कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन द्वारा आयोजित किया जाता है। पहला राष्ट्रमंडल खेल 1 9 30 में हैमिल्टन, ओन्टारियो, कनाडा में आयोजित किया गया था। इसके बाद इसे ब्रिटिश साम्राज्य खेलों के नाम से जाना जाता था। नाम तीन बार बदल गया था तीसरे और आखिरी बार को 1 9 78 में राष्ट्रमंडल खेलों का नाम दिया गया था। कई ओलंपिक खेलों के अलावा, खेलों में लॉन कटोरे, रग्बी सातों और नेटबॉल जैसे कुछ खेल शामिल हैं, जो राष्ट्रमंडल देशों में खेला जाता है

वर्तमान में, राष्ट्रमंडल राष्ट्रों के 53 सदस्य हैं भाग लेने वाली टीमों की संख्या 71. केवल छह टीमों ने हर कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लिया है। वे ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स हैं। ऑस्ट्रेलिया दस खेलों में सबसे अधिक स्कोरिंग टीम थी, उसके बाद ब्रिटेन सात और कनाडा के लिए एक था।

तीन राष्ट्रीय झंडे पदक समारोहों के लिए उपयोग किए गए खंभे पर स्टेडियम से उड़ते हैं। वे पिछले मेजबान देश, वर्तमान मेजबान देश और अगले मेजबान देश के झंडे हैं।

Essay on Rashtramandal Khel in Hindi

ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन(subordinate) देशों के बीच सौहार्द और भाईचारा स्थापित करने के लिए राष्ट्रकुल खेलों की शुरुआत हुई थी। 1930 से अब तक 18 बार यह आयोजन विभिन्न देशों में आयोजित हो रहा है। राष्ट्रकुल का अब तक का सफर चार हिस्सों में बंटा हुआ है। यह अलग–अलग नामों के साथ आयोजित होता रहा। कुछ कारणों से यह खेल स्थागित भी हुए है।

शूरू में राष्ट्रमंडल खेल ब्रिटिश एम्पायर गेम्स के नाम से अस्तित्व में आया। इसकी शुरुआत 1930 में कनाडा में हुई। द्व‍ितीय विश्व युद्ध के बाद कई सालों तक ये खेल स्थगित रहे और 1950 से न्यूजीलैंड के ऑकलैंड शहर से दोबारा इनका आयोजन शुरू हुआ।

1978 में कनाडा के एडमंटन से आयोजित हुए खेल कॉमनवेल्थ गेम्स के नाम से प्रारंभ हुए।
राष्ट्रकुल खेलों के 80 साल के इतिहास में 18 संस्करण आयोजित हो चुके है। इसमें अब तक 90 से अधिक देश भाग ले चुके हैं।

भारत में 19वाँ संस्करण तीन से 14 अक्टूबर 2010 तक खेला गया। इसमें 73 देशों के चार हजार से अधिक एथलीट दांव पर लगे 829 पदकों के लिए अपना खेल कौशल दिखाने मैदान में उतरे। समय पर स्टेडियम तैयार नहीं होने, खेलगाँव की गंदगी और अन्य विपरीत कारणों के बावजूद 19वें कॉमनवेल्थ गेम्स ‘बेहद सफल’ रहे और खेलों की पूर्ण छवि काफी सकारात्मक रही। खेलों के दौरान 75 से अधिक रिकॉर्ड टूटे।

कॉमनवेल्थ में मेजबान भारत कुल 101 पदक जीतकर पदक तालिका में ऑस्ट्रेलिया के बाद दूसरे स्थान पर रहा। भारत ने इन खेलों में 38 स्वर्ण, 27 रजत और 36 काँस्य पदक जीत कर कॉमनवेल्थ गेम्स की नई महाशक्ति बनने के संदेश दी और देश की विविधता पूर्ण संस्कृति की सतरंगी झाँकी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *