आनंद नारायण मुल्ला की शायरी

आनंद नारायण मुल्ला की शायरी – उर्दू शेर व ग़ज़लें

Posted by

आनंद नारायण मुल्ला जी उर्दू के महान शायरों में से एक शायर है वह एक कवि, दार्शनिक, वकील और राजनीतिज्ञ थे इनका जन्म अक्टूबर 1901 में हुआ था तथा इनकी मृत्यु 12 जून 1997 में हुई थी | इनके पिता एक वकील थे जिस कारणवश कानून के बारे में इन्हे भी अच्छी जानकारी थी और उन्होंने भी एक प्रमुख वकील पर कार्य किया | इसीलिए हम आपको महान शायर द्वारा लिखी गयी कुछ शायरियो के बारे में बताते है जो की आपके लिए आपके महत्वपूर्ण है जिन्हे आप शेयर कर सकते है |

उर्दू के महान शायर आनंद नारायण मुल्ला की ग़ज़लें

मुख़्तसर अपनी हदीस-ए-ज़ीस्त ये है इश्क़ में
पहले थोड़ा सा हँसे फिर उम्र भर रोया किए

तुम जिस को समझते हो कि है हुस्न तुम्हारा
मुझ को तो वो अपनी ही मोहब्बत नज़र आई

मोहब्बत फ़र्क़ खो देती है आ’ला और अदना का
रुख़-ए-ख़ुर्शीद में ज़र्रे की हम तनवीर देखेंगे

वो कौन हैं जिन्हें तौबा की मिल गई फ़ुर्सत
हमें गुनाह भी करने को ज़िंदगी कम है

एक इक लम्हे में जब सदियों की सदियाँ कट गईं
ऐसी कुछ रातें भी गुज़री हैं मिरी तेरे बग़ैर

गले लगा के किया नज़्र-ए-शो’ला-ए-आतिश
क़फ़स से छूट के फिर आशियाँ मिले न मिले

‘मुल्ला’ बना दिया है इसे भी महाज़-ए-जंग
इक सुल्ह का पयाम थी उर्दू ज़बाँ कभी

सर-ए-महशर यही पूछूँगा ख़ुदा से पहले
तू ने रोका भी था बंदे को ख़ता से पहले

Shayari of Anand Narayan Mulla

शम्अ’ इक मोम के पैकर के सिवा कुछ भी न थी
आग जब तन में लगाई है तो जान आई है

मुझे कर के चुप कोई कहता है हँस कर
उन्हें बात करने की आदत नहीं है

दयार-ए-इश्क़ है ये ज़र्फ़-ए-दिल की जाँच होती है
यहाँ पोशाक से अंदाज़ा इंसाँ का नहीं होता

दिल-ए-बेताब का अंदाज़-ए-बयाँ है वर्ना
शुक्र में कौन सी शय है जो शिकायत में नहीं

मैं फ़क़त इंसान हूँ हिन्दू मुसलमाँ कुछ नहीं
मेरे दिल के दर्द में तफ़रीक़-ए-ईमाँ कुछ नहीं

ग़म-ए-हयात शरीक-ए-ग़म-ए-मोहब्बत है
मिला दिए हैं कुछ आँसू मिरी शराब के साथ

इश्क़ करता है तो फिर इश्क़ की तौहीन न कर
या तो बेहोश न हो हो तो न फिर होश में आ

वो दुनिया थी जहाँ तुम रोक लेते थे ज़बाँ मेरी
ये महशर है यहाँ सुननी पड़ेगी दास्ताँ मेरी

उर्दू शेर व ग़ज़लें

आनंद नारायण मुल्ला शेर इन हिंदी

हम ने भी की थीं कोशिशें हम न तुम्हें भुला सके
कोई कमी हमीं में थी याद तुम्हें न आ सके

इश्क़ करता है तो फिर इश्क़ की तौहीन न कर
या तो बेहोश न हो, हो तो न फिर होश में आ

इश्क़ में वो भी एक वक़्त है जब
बे-गुनाही गुनाह है प्यारे

हर इक सूरत पे धोका खा रही हैं तेरी सूरत का
अभी आता नहीं नज़रों को ता-हद्द-ए-नज़र जाना

रोने वाले तुझे रोने का सलीक़ा ही नहीं
अश्क पीने के लिए हैं कि बहाने के लिए

हुस्न के जल्वे नहीं मुहताज-ए-चश्म-ए-आरज़ू
शम्अ जलती है इजाज़त ले के परवाने से क्या

जिस के ख़याल में हूँ गुम उस को भी कुछ ख़याल है
मेरे लिए यही सवाल सब से बड़ा सवाल है

अब बन के फ़लक-ज़ाद दिखाते हैं हमें आँख
ज़र्रे वही कल जिन को उछाला था हमीं ने

Ghazals of Anand Narayan Mulla

अक़्ल के भटके होऊँ को राह दिखलाते हुए
हम ने काटी ज़िंदगी दीवाना कहलाते हुए

अश्क-ए-ग़म-ए-उल्फ़त में इक राज़-ए-निहानी है
पी जाओ तो अमृत है बह जाए तो पानी है

कहने को लफ़्ज़ दो हैं उम्मीद और हसरत
इन में निहाँ मगर इक दुनिया की दास्ताँ है

तू ने फेरी लाख नर्मी से नज़र
दिल के आईने में बाल आ ही गया

निज़ाम-ए-मय-कदा साक़ी बदलने की ज़रूरत है
हज़ारों हैं सफ़ें जिन में न मय आई न जाम आया

तिरी जफ़ा को जफ़ा मैं तो कह नहीं सकता
सितम सितम ही नहीं है जो दिल को रास आए

न जाने कितनी शमएँ गुल हुईं कितने बुझे तारे
तब इक ख़ुर्शीद इतराता हुआ बाला-ए-बाम आया

नज़र जिस की तरफ़ कर के निगाहें फेर लेते हो
क़यामत तक फिर उस दिल की परेशानी नहीं जाती

आनंद नारायण मुल्ला की शायरी

आनंद नारायण मुल्ला शायरी एंड पोएट्री

उस इक नज़र के बज़्म में क़िस्से बने हज़ार
उतना समझ सका जिसे जितना शुऊर था

आईना-ए-रंगीन जिगर कुछ भी नहीं क्या
क्या हुस्न ही सब कुछ है नज़र कुछ भी नहीं क्या

फ़र्क़ जो कुछ है वो मुतरिब में है और साज़ में है
वर्ना नग़्मा वही हर पर्दा-ए-आवाज़ में है

हद-ए-तकमील को पहुँची तिरी रानाई-ए-हुस्न
जो कसर थी वो मिटा दी तिरी अंगड़ाई ने

अब और इस के सिवा चाहते हो क्या ‘मुल्ला’
ये कम है उस ने तुम्हें मुस्कुरा के देख लिया

अब और इस से सिवा चाहते हो क्या ‘मुल्ला’
ये कम है उस ने तुम्हें मुस्कुरा के देख लिया

ख़ुदा जाने दुआ थी या शिकायत लब पे बिस्मिल के
नज़र सू-ए-फ़लक थी हाथ में दामान-ए-क़ातिल था

ख़ून-ए-जिगर के क़तरे और अश्क बन के टपकें
किस काम के लिए थे किस काम आ रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *