अटल बिहारी वाजपेयी की कविता

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता – Short Poems of Atal Bihari Vajpayee in Hindi – Atal Bihari Vajpayee Poetry in Hindi

Posted by

अटल बिहारी वाजपेयी जी भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री है 25 दिसंबर 1924 ग्वालियर में हुआ था अटल बिहारी वाजपेयी जी की रूचि राजनीति के साथ-2 रचनाये लिखने में भी थी उन्होंने कई प्रकार की बेहतरीन रचनाये लिखी व एक कवी के रूप में भी काफी नाम कमाया था | इसीलिए हम आपको अटल बिहार वाजपेयी जी द्वारा लिखी गयी कुछ बेहतरीन रचनाओं में से उनकी कविताओं के बारे में बताते है जिन कविताओं के बारे में जानने के लिए आप हमारे द्वारा बताई गयी इस जानकारी को पढ़ सकते है |

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi

अगर आप अटल बिहारी वाजपेयी कविता कोश, अटल बिहारी वाजपेयी पोयम्स इन हिंदी, अटल बिहारी वाजपेयी कविताये, अटल बिहारी वाजपेयी के कविता, अटल बिहारी वाजपेयी कविताएं, अटल बिहारी वाजपेयी कि कविता, अटल बिहारी वाजपेयी कविता संग्रह, अटल बिहारी वाजपेयी कविताकोश, डाउनलोड, मेरी इक्यावन कविताएँ अटल बिहारी वाजपेयी, अटल बिहारी वाजपेयी कविता संग्रह, अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी, हार नहीं मानूंगा, कविता अटल हार नहीं मानूंगा, अटल बिहारी वाजपेयी जी की कविता के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

एक नहीं दो नहीं करो बीसों समझौते,
पर स्वतन्त्र भारत का मस्तक नहीं झुकेगा।
अगणित बलिदानो से अर्जित यह स्वतन्त्रता,
अश्रु स्वेद शोणित से सिंचित यह स्वतन्त्रता।
त्याग तेज तपबल से रक्षित यह स्वतन्त्रता,
दु:खी मनुजता के हित अर्पित यह स्वतन्त्रता।
इसे मिटाने की साजिश करने वालों से कह दो,
चिनगारी का खेल बुरा होता है ।
औरों के घर आग लगाने का जो सपना,
वो अपने ही घर में सदा खरा होता है।
अपने ही हाथों तुम अपनी कब्र ना खोदो,
अपने पैरों आप कुल्हाडी नहीं चलाओ।
ओ नादान पडोसी अपनी आँखे खोलो,
आजादी अनमोल ना इसका मोल लगाओ।
पर तुम क्या जानो आजादी क्या होती है?
तुम्हे मुफ़्त में मिली न कीमत गयी चुकाई।
अंग्रेजों के बल पर दो टुकडे पाये हैं,
माँ को खंडित करते तुमको लाज ना आई?
अमरीकी शस्त्रों से अपनी आजादी को
दुनिया में कायम रख लोगे, यह मत समझो।
दस बीस अरब डालर लेकर आने वाली बरबादी से
तुम बच लोगे यह मत समझो।
धमकी, जिहाद के नारों से, हथियारों से
कश्मीर कभी हथिया लोगे यह मत समझो।
हमलो से, अत्याचारों से, संहारों से
भारत का शीष झुका लोगे यह मत समझो।
जब तक गंगा मे धार, सिंधु मे ज्वार,
अग्नि में जलन, सूर्य में तपन शेष,
स्वातन्त्र्य समर की वेदी पर अर्पित होंगे
अगणित जीवन यौवन अशेष।
अमरीका क्या संसार भले ही हो विरुद्ध,
काश्मीर पर भारत का सर नही झुकेगा
एक नहीं दो नहीं करो बीसों समझौते,
पर स्वतन्त्र भारत का निश्चय नहीं रुकेगा ।

Atal Bihari Vajpayee Ki Kavita

अगर आप poem atal bihari vajpayee pakistan, poems on shri atal bihari vajpayee, poem on atal bihari vajpayee in hindi, poems atal bihari vajpayee hindi, kadam milakar chalna hoga, Youtube video, meri 51 kavitayen atal bihari vajpayee pdf download mp3 download, on pakistan, in english, kadam milakar chalna hoga, meri 51 kavitayen atal bihari vajpayee pdf download के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

भारत जमीन का टुकड़ा नहीं,
जीता जागता राष्ट्रपुरुष है।
हिमालय मस्तक है, कश्मीर किरीट है,
पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं।
पूर्वी और पश्चिमी घाट दो विशाल जंघायें हैं।
कन्याकुमारी इसके चरण हैं, सागर इसके पग पखारता है।
यह चन्दन की भूमि है, अभिनन्दन की भूमि है,
यह तर्पण की भूमि है, यह अर्पण की भूमि है।
इसका कंकर-कंकर शंकर है,
इसका बिन्दु-बिन्दु गंगाजल है।
हम जियेंगे तो इसके लिये
मरेंगे तो इसके लिये।

Poems of Atal Bihari Vajpayee in Hindi

Atal Bihari Vajpayee Kavita in Hindi

आओ फिर से दिया जलाएँ
भरी दुपहरी में अंधियारा
सूरज परछाई से हारा
अंतरतम का नेह निचोड़ें-
बुझी हुई बाती सुलगाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ
हम पड़ाव को समझे मंज़िल
लक्ष्य हुआ आंखों से ओझल
वतर्मान के मोहजाल में-
आने वाला कल न भुलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ।
आहुति बाकी यज्ञ अधूरा
अपनों के विघ्नों ने घेरा
अंतिम जय का वज़्र बनाने-
नव दधीचि हड्डियां गलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता संग्रह

बेनकाब चेहरे हैं, दाग बड़े गहरे हैं
टूटता तिलिस्म आज सच से भय खाता हूं
गीत नहीं गाता हूं
लगी कुछ ऐसी नज़र बिखरा शीशे सा शहर
अपनों के मेले में मीत नहीं पाता हूं
गीत नहीं गाता हूं
पीठ मे छुरी सा चांद, राहू गया रेखा फांद
मुक्ति के क्षणों में बार बार बंध जाता हूं
गीत नहीं गाता हूं
गीत नया गाता हूं
टूटे हुए तारों से फूटे बासंती स्वर
पत्थर की छाती मे उग आया नव अंकुर
झरे सब पीले पात कोयल की कुहुक रात
प्राची मे अरुणिम की रेख देख पता हूं
गीत नया गाता हूं
टूटे हुए सपनों की कौन सुने सिसकी
अन्तर की चीर व्यथा पलकों पर ठिठकी
हार नहीं मानूंगा, रार नहीं ठानूंगा,
काल के कपाल पे लिखता मिटाता हूं
गीत नया गाता हूं

Poetry of Atal Bihari Vajpayee in Hindi

अगर आप atal bihari vajpayee kavita in english , poem on atal bihari vajpayee, poet atal bihari vajpayee, sung by jagjit singh, poems on atal bihari vajpayee, poem on atal bihari vajpayee in english, short poem on shri atal bihari vajpayee in english, poems on atal bihari vajpayee in english, poem on atal bihari vajpayee as an inspiration for younger generation, poem on atal bihari vajpayee the leader of millennium के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

दूध में दरार पड़ गई
खून क्यों सफेद हो गया?
भेद में अभेद खो गया.
बंट गये शहीद, गीत कट गए,
कलेजे में कटार दड़ गई.
दूध में दरार पड़ गई.
खेतों में बारूदी गंध,
टूट गये नानक के छंद
सतलुज सहम उठी, व्यथित सी बितस्ता है.
वसंत से बहार झड़ गई
दूध में दरार पड़ गई.
अपनी ही छाया से बैर,
गले लगने लगे हैं ग़ैर,
ख़ुदकुशी का रास्ता, तुम्हें वतन का वास्ता.
बात बनाएं, बिगड़ गई.
दूध में दरार पड़ गई.

Atal Bihari Vajpayee Poetry in Hindi

Poem of Atal Bihari Vajpayee on Pakistan in Hindi

जीवन की ढलने लगी सांझ
उमर घट गई
डगर कट गई
जीवन की ढलने लगी सांझ।
बदले हैं अर्थ
शब्द हुए व्यर्थ
शान्ति बिना खुशियाँ हैं बांझ।
सपनों में मीत
बिखरा संगीत
ठिठक रहे पांव और झिझक रही झांझ।
जीवन की ढलने लगी सांझ।

Atal Bihari Vajpayee 51 Poems

अगर आप atal bihari vajpayee a poet, atal bihari vajpayee as a poet in hindi, atal bihari vajpayee as a poet essay, bharat mata ki jai, kamal khilega, lyrics, har nahi, hindu, on padmavati, on republic day, atal bihari vajpayee kavita sangrah, atal bihari vajpayee kavita video, atal bihari vajpayee kavita audio, atal bihari vajpayee kavita mp3 download, atal bihari vajpayee kavita pdf, atal bihari vajpayee kavita के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

बाधाएं आती हैं आएं
घिरें प्रलय की घोर घटाएं,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसें यदि ज्वालाएं,
निज हाथों में हंसते-हंसते,
आग लगाकर जलना होगा.
कदम मिलाकर चलना होगा.
हास्य-रूदन में, तूफानों में,
अगर असंख्यक बलिदानों में,
उद्यानों में, वीरानों में,
अपमानों में, सम्मानों में,
उन्नत मस्तक, उभरा सीना,
पीड़ाओं में पलना होगा.
कदम मिलाकर चलना होगा.
उजियारे में, अंधकार में,
कल कहार में, बीच धार में,
घोर घृणा में, पूत प्यार में,
क्षणिक जीत में, दीर्घ हार में,
जीवन के शत-शत आकर्षक,
अरमानों को ढलना होगा.
कदम मिलाकर चलना होगा.
सम्मुख फैला अगर ध्येय पथ,
प्रगति चिरंतन कैसा इति अब,
सुस्मित हर्षित कैसा श्रम श्लथ,
असफल, सफल समान मनोरथ,
सब कुछ देकर कुछ न मांगते,
पावस बनकर ढलना होगा.
कदम मिलाकर चलना होगा.
कुछ कांटों से सज्जित जीवन,
प्रखर प्यार से वंचित यौवन,
नीरवता से मुखरित मधुबन,
परहित अर्पित अपना तन-मन,
जीवन को शत-शत आहुति में,
जलना होगा, गलना होगा.
क़दम मिलाकर चलना होगा.

अटल बिहारी वाजपेयी पर कविता

क्या खोया, क्या पाया जग में
मिलते और बिछुड़ते मग में
मुझे किसी से नहीं शिकायत
यद्यपि छला गया पग-पग में
एक दृष्टि बीती पर डालें, यादों की पोटली टटोलें!
पृथ्वी लाखों वर्ष पुरानी
जीवन एक अनन्त कहानी
पर तन की अपनी सीमाएँ
यद्यपि सौ शरदों की वाणी
इतना काफ़ी है अंतिम दस्तक पर, खुद दरवाज़ा खोलें!
जन्म-मरण अविरत फेरा
जीवन बंजारों का डेरा
आज यहाँ, कल कहाँ कूच है
कौन जानता किधर सवेरा
अंधियारा आकाश असीमित,प्राणों के पंखों को तौलें!
अपने ही मन से कुछ बोलें!

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi

Poetry Atal Bihari Vajpayee Hindi

अगर आप english translation, on hinduism, pdf free download, tute man se, shri atal bihari vajpayee the poet, sh. atal bihari vajpayee the poet, atal bihari vajpayee the poet parliamentary and leader, in marathi, atal bihari vajpayee the poet parliamentarian and leader, atal bihari vajpayee the poet के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

मनाली मत जइयो
मनाली मत जइयो, गोरी
राजा के राज में.
जइयो तो जइयो,
उड़िके मत जइयो,
अधर में लटकीहौ,
वायुदूत के जहाज़ में.
जइयो तो जइयो,
सन्देसा न पइयो,
टेलिफोन बिगड़े हैं,
मिर्धा महाराज में.
जइयो तो जइयो,
मशाल ले के जइयो,
बिजुरी भइ बैरिन
अंधेरिया रात में.
जइयो तो जइयो,
त्रिशूल बांध जइयो,
मिलेंगे ख़ालिस्तानी,
राजीव के राज में.
मनाली तो जइहो.
सुरग सुख पइहों.
दुख नीको लागे, मोहे
राजा के राज में.

Atal Bihari Vajpayee Poem on Kashmir

एक बरस बीत गया
झुलासाता जेठ मास
शरद चांदनी उदास
सिसकी भरते सावन का
अंतर्घट रीत गया
एक बरस बीत गया
सीकचों मे सिमटा जग
किंतु विकल प्राण विहग
धरती से अम्बर तक
गूंज मुक्ति गीत गया
एक बरस बीत गया
पथ निहारते नयन
गिनते दिन पल छिन
लौट कभी आएगा
मन का जो मीत गया
एक बरस बीत गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *