Bashir Badr Shayari in Hindi

Bashir Badr Shayari in Hindi – डॉ. बशीर बद्र की चुनिंदा शायरी – 2 लाइन ग़ज़लें, मशहूर शेर व पोएट्री

Posted by

बशीर बद्र जो की उर्दू जगत के महान शायरों में से एक शायर रह चुके है बशीर बद्र का पूरा नाम सैयद मोहम्मद बशीर था व इनका जन्म जन्म १५ फ़रवरी १९३६ में कानपूर जिले में हुआ था | इनके द्वारा कई तरह के नाटक भी लिखे जा चुके है जिसके लिए इन्हे सन १९९९ में पद्मश्री पुरूस्कार से सम्मानित किया गया था | इसीलिए हम आपको बशीर बद्र द्वारा कहे गए कुछ बेहतरीन शायरी, ग़ज़ल व शेर बताते है जिनकी मदद से आप इनके बारे में काफी कुछ जान सकते है |

बशीर बद्र की शायरी

अगर आप Youtube video, lyrics, book PDF Download, इन हिंदी पीडीएफ, in urdu font
बशीर बद्र के शायरी, facebook & Whatsapp, bashir badr two liners in hindi, bashir badr poetry images, bashir badr rekhta, bashir badr shayari in urdu, bashir badr ghazals mp3, bashir badr books, bashir badr mushaira, bashir badr poetry pdf के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

इक शाम के साए तले बैठे रहे वो देर तक
आँखों से की बातें बहुत मुँह से कहा कुछ भी नहीं

कई सितारों को मैं जानता हूँ बचपन से
कहीं भी जाऊँ मिरे साथ साथ चलते हैं

काग़ज़ में दब के मर गए कीड़े किताब के
दीवाना बे-पढ़े-लिखे मशहूर हो गया

Bashir Badr Best Shayari

इस शहर के बादल तिरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं
ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता

इसी लिए तो यहाँ अब भी अजनबी हूँ मैं
तमाम लोग फ़रिश्ते हैं आदमी हूँ मैं

बशीर बद्र शायरी हिंदी

कभी कभी तो छलक पड़ती हैं यूँही आँखें
उदास होने का कोई सबब नहीं होता

कभी मैं अपने हाथों की लकीरों से नहीं उलझा
मुझे मालूम है क़िस्मत का लिक्खा भी बदलता है

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा

बशीर बद्र की शायरी

बशीर बद्र रोमांटिक शायरी

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा
तुम्हें जिस ने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो

अच्छा तुम्हारे शहर का दस्तूर हो गया
जिस को गले लगा लिया वो दूर हो गया

आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है
बेवफ़ाई कभी कभी करना

बशीर बद्र सायरी

अगर आप बशीर बद्र सैड शायरी, बशीर बद्र की शायरी इन हिंदी, बशीर बद्र कविता कोश, बशीर बद्र इंतजार, बशीर बद्र शेर शायरी, कल्चर यक्साँ डॉ बशीर बद्र समग्र, बशीर बद्र रेख़्ता, आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

अगर फ़ुर्सत मिले पानी की तहरीरों को पढ़ लेना
हर इक दरिया हज़ारों साल का अफ़्साना लिखता है

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो

कोई फूल सा हाथ काँधे पे था
मिरे पाँव शो’लों पे जलते रहे

Bashir Badr 2 Liners

कभी तो आसमाँ से चाँद उतरे जाम हो जाए
तुम्हारे नाम की इक ख़ूब-सूरत शाम हो जाए

कभी तो शाम ढले अपने घर गए होते
किसी की आँख में रह कर सँवर गए होते

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जाएगा
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझ को चाहेगा

बशीर बद्र मुशायरा

इसी शहर में कई साल से मिरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ हैं
उन्हें मेरी कोई ख़बर नहीं मुझे उन का कोई पता नहीं

इतनी मिलती है मिरी ग़ज़लों से सूरत तेरी
लोग तुझ को मिरा महबूब समझते होंगे

अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गए हैं
आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते

डॉ. बशीर बद्र की चुनिंदा शायरी -

Bashir Badr 2 Line Sher

अजब चराग़ हूँ दिन रात जलता रहता हूँ
मैं थक गया हूँ हवा से कहो बुझाए मुझे

अजीब रात थी कल तुम भी आ के लौट गए
जब आ गए थे तो पल भर ठहर गए होते

अजीब शख़्स है नाराज़ हो के हँसता है
मैं चाहता हूँ ख़फ़ा हो तो वो ख़फ़ा ही लगे

बशीर बद्र पोएट्री इमेजेज

एक औरत से वफ़ा करने का ये तोहफ़ा मिला
जाने कितनी औरतों की बद-दुआएँ साथ हैं

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते

कभी यूँ भी आ मिरी आँख में कि मिरी नज़र को ख़बर न हो
मुझे एक रात नवाज़ दे मगर इस के बाद सहर न हो

बशीर बद्र के मशहूर शेर

कमरे वीराँ आँगन ख़ाली फिर ये कैसी आवाज़ें
शायद मेरे दिल की धड़कन चुनी है इन दीवारों में

उदास आँखों से आँसू नहीं निकलते हैं
ये मोतियों की तरह सीपियों में पलते हैं

इजाज़त हो तो मैं इक झूट बोलूँ
मुझे दुनिया से नफ़रत हो गई है

Bashir Badr ki Shayari in Hindi

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

उस की आँखों को ग़ौर से देखो
मंदिरों में चराग़ जलते हैं

उस ने छू कर मुझे पत्थर से फिर इंसान किया
मुद्दतों बअ’द मिरी आँखों में आँसू आए

Bashir Badr Famous Shayari

उन्हीं रास्तों ने जिन पर कभी तुम थे साथ मेरे
मुझे रोक रोक पूछा तिरा हम-सफ़र कहाँ है

ख़ुदा ऐसे एहसास का नाम है
रहे सामने और दिखाई न दे

ख़ुदा हम को ऐसी ख़ुदाई न दे
कि अपने सिवा कुछ दिखाई न दे

2 लाइन ग़ज़लें

बशीर बद्र की ग़ज़लें

उसे पाक नज़रों से चूमना भी इबादतों में शुमार है
कोई फूल लाख क़रीब हो कभी मैं ने उस को छुआ नहीं

चराग़ों को आँखों में महफ़ूज़ रखना
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएँगे
रोएँगे बहुत लेकिन आँसू नहीं आएँगे

Bashir Badr 2 Lines Shayari

ग़ज़लों ने वहीं ज़ुल्फ़ों के फैला दिए साए
जिन राहों पे देखा है बहुत धूप कड़ी है

गले में उस के ख़ुदा की अजीब बरकत है
वो बोलता है तो इक रौशनी सी होती है

उतर भी आओ कभी आसमाँ के ज़ीने से
तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिए बनाया है

Bashir Badr Sad Shayari

घर नया बर्तन नए कपड़े नए
इन पुराने काग़ज़ों का क्या करें

ख़ुदा की इतनी बड़ी काएनात में मैं ने
बस एक शख़्स को माँगा मुझे वही न मिला

किसी ने चूम के आँखों को ये दुआ दी थी
ज़मीन तेरी ख़ुदा मोतियों से नम कर दे

बशीर बद्र शायर

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला

गुफ़्तुगू उन से रोज़ होती है
मुद्दतों सामना नहीं होता

कितनी सच्चाई से मुझ से ज़िंदगी ने कह दिया
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा

Bashir Badr New Shayari

कोई बादल हो तो थम जाए मगर अश्क मिरे
एक रफ़्तार से दिन रात बराबर बरसे

कई साल से कुछ ख़बर ही नहीं
कहाँ दिन गुज़ारा कहाँ रात की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *