Bhagat Singh Quotes in Hindi

Bhagat Singh Quotes in Hindi – शहीद भगत सिंह के विचार, अनमोल वचन, क्रांतिकारी सुविचार व उद्धरण

Posted by

शहीद भगत सिंह जो की एक क्रांतिकारी तथा प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे इनका जन्म २७ सितंबर १९०७ में हुआ था इनके पिता का नाम सरदार किशन सिंह व माता का नाम विद्यावती कौर था | इनकी मृत्यु फांसी की वजह से हुई थी इन्होने दिल्ली की केन्द्रीय संसद में बम विस्फोट किया जिसकी वजह से 26 अगस्त, 1930 को इन्हे अदालत द्वारा फांसी की सजा सुनाई गयी इसके साथ इनके दो साथी सुखदेव व राजगुरु को भी इनका साथ देने के जुर्म में फांसी की सजा सुनाई गयी थी जिसके बाद 23 मार्च 1931 को शाम में करीब 7 बजकर 33 मिनट पर इन्हे फांसी दे दी गयी थी | इसीलिए हम आपको इनके द्वारा बताये गए कुछ बेहतरीन क्रांतिकारी विचारो के बारे में बताते है जो की आपके लिए प्रेरणादायक सिद्ध हो सकते है |

भगत सिंह के क्रांतिकारी विचार

अगर आप bhagat singh hindi status, poem on bhagat singh in hindi, bhagat singh shayari in hindi and english, bhagat singh quotes in kannada Marathi, 23 march bhagat singh quotes in tamil pdf download, dialogues of bhagat singh in hindi for fancy dress, rajguru quotes in hindi font, bhagat singh rajguru sukhdev quotes in hindi के बारे में जानकारी पाने के लिए आप यहाँ से जान सकते है :

किसी भी इंसान को मारना आसान है, परन्तु उसके विचारों को नहीं। महान साम्राज्य टूट जाते हैं, तबाह हो जाते हैं, जबकि उनके विचार बच जाते हैं।

देशभक्तों को अक्सर लोग पागल कहते हैं।

Bhagat Singh Best Quotes in Hindi

किसी को “क्रांति ” शब्द की व्याख्या शाब्दिक अर्थ में नहीं करनी चाहिए। जो लोग इस शब्द का उपयोग या दुरूपयोग करते हैं उनके फायदे के हिसाब से इसे अलग अलग अर्थ और अभिप्राय दिए जाते है।

ज़रूरी नहीं था की क्रांति में अभिशप्त संघर्ष शामिल हो। यह बम और पिस्तौल का पंथ नहीं था।

Bhagat Singh Famous Quotes in Hindi

जिंदा रहने की ख्वाहिश कुदरती तौर पर मुझमें भी होनी चाहिए । मैं इसे छिपाना नहीं चाहता, लेकिन मेरा जिंदा रहना एक शर्त पर है । मैं कैद होकर या पाबंद होकर जिंदा रहना नहीं चाहता ।

व्यक्तियो को कुचल कर , वे विचारों को नहीं मार सकते।

शहीद भगत सिंह के विचार

Famous Quotes of Shaheed Bhagat Singh in Hindi

जो व्यक्ति भी विकास के लिए खड़ा है उसे हर एक रूढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी , उसमे अविश्वास करना होगा तथा उसे चुनौती देनी होगी।

मेरा धर्म देश की सेवा करना है।

Famous Quotes Said by Bhagat Singh in Hindi

किसी ने सच ही कहा है, सुधार बूढ़े आदमी नहीं कर सकते । वे तो बहुत ही बुद्धिमान और समझदार होते हैं । सुधार तो होते हैं युवकों के परिश्रम, साहस, बलिदान और निष्ठा से, जिनको भयभीत होना आता ही नहीं और जो विचार कम और अनुभव अधिक करते हैं।

प्रेमी, पागल, और कवी एक ही चीज से बने होते हैं।

Bhagat Singh Patriotic Quotes in Hindi

अगर आप भगत सिंह कोट्स इन हिंदी, भगत सिंह के लेख, भगत सिंह पर शायरी, भगत सिंह नारा, भगत सिंह का नारा क्या था, भगत सिंह के नारे तथा भगत सिंह के बारे में जानकारी के बारे में जानकारी यहाँ से जाने :

इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्चित होता है , जैसाकि हम विधान सभा में बम फेंकने को लेकर थे।

निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार ये क्रांतिकारी सोच के दो अहम् लक्षण हैं।

भगत सिंह के क्रांतिकारी विचार

Bhagat Singh Quotes on Life in Hindi

आम तौर पर लोग चीजें जैसी हैं उसके आदि हो जाते हैं और बदलाव के विचार से ही कांपने लगते हैं। हमें इसी निष्क्रियता की भावना को क्रांतिकारी भावना से बदलने की ज़रुरत है।

मैं एक मानव हूँ और जो कुछ भी मानवता को प्रभावित करता है उससे मुझे मतलब है।

भगत सिंह के अनमोल विचार

यदि बहरों को सुनना है तो आवाज़ को बहुत जोरदार होना होगा. जब हमने बम गिराया तो हमारा धेय्य किसी को मारना नहीं थ. हमने अंग्रेजी हुकूमत पर बम गिराया था . अंग्रेजों को भारत छोड़ना चाहिए और उसे आज़ाद करना चहिये।

राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है मैं एक ऐसा पागल हूँ जो जेल में भी आज़ाद है।

Bhagat Singh Birthday Quotes in Hindi

मैं इस बात पर जोर देता हूँ कि मैं महत्त्वाकांक्षा , आशा और जीवन के प्रति आकर्षण से भरा हुआ हूँ. पर मैं ज़रुरत पड़ने पर ये सब त्याग सकता हूँ, और वही सच्चा बलिदान है.

क़ानून की पवित्रता तभी तक बनी रह सकती है जब तक की वो लोगों की इच्छा की अभिव्यक्ति करे

अनमोल वचन

भगत सिंह की विचारधारा

क्रांति मानव जाती का एक अपरिहार्य अधिकार है. स्वतंत्रता सभी का एक कभी न ख़त्म होने वाला जन्म-सिद्ध अधिकार है. श्रम समाज का वास्तविक निर्वाहक है।

अहिंसा को आत्म-बल के सिद्धांत का समर्थन प्राप्त है जिसमे अंतत: प्रतिद्वंदी पर जीत की आशा में कष्ट सहा जाता है . लेकिन तब क्या हो जब ये प्रयास अपना लक्ष्य प्राप्त करने में असफल हो जाएं ? तभी हमें आत्म -बल को शारीरिक बल से जोड़ने की ज़रुरत पड़ती है ताकि हम अत्याचारी और क्रूर दुश्मन के रहमोकरम पर ना निर्भर करें।

Bhagat Singh Rajguru Sukhdev Quotes in Hindi

ज़िन्दगी तो अपने दम पर ही जी जाती हैं दूसरो के कन्धों पर तो सिर्फ जनाजे उठाये जाते हैं।

किसी भी कीमत पर बल का प्रयोग ना करना काल्पनिक आदर्श है और नया आन्दोलन जो देश में शुरू हुआ है और जिसके आरम्भ की हम चेतावनी दे चुके हैं वो गुरु गोबिंद सिंह और शिवाजी, कमाल पाशा और राजा खान , वाशिंगटन और गैरीबाल्डी , लाफायेतटे और लेनिन के आदर्शों से प्रेरित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *