मेवाड़ के वीर योद्धा महाराणा प्रताप जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ

मेवाड़ के वीर योद्धा महाराणा प्रताप जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ – Maharana Pratap Jayanti Wishes in Hindi

Posted by

महाराणा प्रताप जी एक महान योद्धा थे जिनका जन्म ज्येष्ठ शुक्ल तृतीया रविवार विक्रम संवत १५९७ तदानुसार ९ मई १५४० को हुई तथा उनकी मृत्यु १९ जनवरी १५९७ में हुई थी | उनका नाम इतिहास के पन्नो में वीरता और दृढ़ प्राण के लिए सदैव के लिए अमर रहेगा इनकी 11 पत्नियां थी | इस साल 2018 में महाराणा प्रताप की जयंती 9 मई को मनाई जाएगी जिस दिन की बधाई देने के लिए आप हमारे द्वारा बताये गए कुछ बेहतरीन शुभकामनाएँ बताते है जिसके बारे में आप जान सकते है |

Maharana Pratap Jayanti SMS in Hindi

अगर आप maharana pratap kavita, maharana pratap status in marathi, maharana pratap jayanti shayari, maharana pratap hindi poem, maharana pratap thought in hindi , jivani of maharana pratap in hindi, slogan of maharana pratap in english, maharana pratap jayanti in hindi, maharana pratap shayri, maharana pratap slogan in hindi, maharana pratap sher shayari, maharana pratap quotes in hindi language के बारे में जानकारी आप यहाँ से जान सकते है :

अपने कतर्व्य,और पुरे सृष्टि के कल्याण के लिए प्रयत्नरत मनुष्य को युग युगांतर तक स्मरण रखा जाता है।

अन्याय, अधर्म,आदि का विनाश करना पुरे मानव जाति का कतर्व्य है।

है धर्म हर हिन्दुस्तानी का,कि तेरे जैसा बनने का। चलना है अब तो उसी मार्ग,जो मार्ग दिखाया प्रताप ने॥

मनुष्य का गौरव और आत्मसम्मान उसकी सबसे बङी कमाई होती है।अतः सदा इनकी रक्षा करनी चाहिए।

हल्दीघाटी के युध्द ने मेरा सर्वस्व छीन लिया हो। पर मेरी गौरव और शान और बढा दिया।

जो सुख मे अतिप्रसन्न और विपत्ति मे डर के झुक जाते है, उन्हे ना सफलता मिलती है और न ही इतिहास मे जगह।

Famous Dialogue of Maharana Pratap

गौरव,मान- मर्यादा और आत्मसम्मान से बढ कर कीमती जीवन भी नही समझना चाहिए।

अगर सर्प से प्रेम रखोगे तो भी वो अपने स्वभाव के अनुसार डसेगाँ ही।

कष्ट,विपत्ती और संकट ये जीवन को मजबूत और अनुभवी बनाते है। इनसे डरना नही बल्कि प्रसन्नता पूर्वक इनसे जुझना चाहिए।

नित्य, अपने लक्ष्य,परिश्रम,और आत्मशक्ति को याद करने पर सफलता का मार्ग सरल हो जाता है।

एक शासक का पहला कर्त्यव अपने राज्य का गौरव और सम्मान बचाने का होता है।

अपनो से बङो के आगे झुक कर समस्त संसार को झुकाया जा सकता है।

Maharana Pratap Jayanti Wishes in Hindi

Maharana Pratap Slogan in Hindi

अगर आप best dialogues of maharana pratap, slogan of maharana pratap in hindi, story of maharana pratap in hindi pdf, maharana pratap history in english, maharana pratap and akbar fight in hindi, maharana pratap history in hindi full video, maharana pratap horse chetak history in hindi, maharana pratap poem in hindi, maharana pratap family tree, maharana pratap hindi movie free download के बारे में जानकारी आप यहाँ से जान सकते है :

फीका पड़ा था तेज़ सुरज का, जब माथा उन्चा तु करता था। फीकी हुई बिजली की चमक, जब-जब आंख खोली प्रताप ने॥

हे प्रताप मुझे तु शक्ती दे,दुश्मन को मै भी हराऊंगा। मै हु तेरा एक अनुयायी,दुश्मन को मार भगाऊंगा॥

सत्य,परिश्रम,और संतोष सुखमय जीवन के साधन है। परन्तु अन्याय के प्रतिकार के लिए हिंसा भी आवश्यक है।

अत्यंत विकट परिस्तिथत मे भी झुक कर हार नही मानते। वो हार कर भी जीते होते है।

अपने और अपने परिवार के अलावा जो अपने राष्ट्र के बारे मे सोचे वही सच्चा नागरिक होता है।

अगर इरादा नेक और मजबूत है। तो मनुष्य कि पराजय नही विजय होती है।

Maharana Pratap SMS

सम्मानहीन मनुष्य एक मृत व्यक्ति के समान होता है।

अपने अच्छे समय मे अपने कर्म से इतने विश्वास पात्र बना लो कि बुरा वक्त आने पर वो उसे भी अच्छा बना दे।

मनुष्य अपने कठीन परिश्रम और कष्टो से ही अपने नाम को अमर कर सकता है।

अपनी कीमती जीवन को सुख और आराम कि जिन्दगी बनाकर कर नष्ट करने से बढिया है कि अपने राष्ट्र कि सेवा करो।

समय इतना बलवान होता है, कि एक राजा को भी घास की रोटी खिला सकता है।

जब-जब तेरी तलवार उठी, तो दुश्मन टोली डोल गयी। फीकी पड़ी दहाड़ शेर की, जब-जब तुने हुंकार भरी॥

Maharana Pratap Jayanti SMS in Hindi

Maharana Pratap Status in Hindi

अगर आप सभी तरह की भाषा जैसे Hindi, English, Urudu, Marathi, Tamil, Telugu, Malyalam, Punjabi, Gujarati, Kannad Language Font के लिए know maharana pratap with a nice poem, hindi poem haldighati, maharana pratap poem mp3, haldighati poem on maharana pratap, chetak poem download, poem on maharana pratap in english, chetak poem summary, quotations in hindi on rana pratap के बारे में जानकारी आप यहाँ से जान सकते है :

मातृभूमि और अपने माँ मे तुलना करना और अन्तर समझना निर्बल और मुर्खो का काम है।

ये संसार कर्मवीरो की ही सुनता है। अतः अपने कर्म के मार्ग पर अडिग और प्रशस्त रहो।

हर मां कि ये ख्वाहिश है, कि एक प्रताप वो भी पैदा करे। देख के उसकी शक्ती को, हर दुशमन उससे डरा करे॥

करता हुं नमन मै प्रताप को,जो वीरता का प्रतीक है। तु लोह-पुरुष तु मातॄ-भक्त,तु अखण्डता का प्रतीक है॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *