Holi Par Nibandh Hindi Mein

मेरा प्रिय त्योहार होली पर निबंध 2018 – Holi Essay in Hindi for Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10 – होली एस्से

Posted by

होली का त्यौहार हमारे लिए बहुत ही मायने रखता है इस दिन सभी स्कूल, कॉलेजों की छुट्टी होती है तथा सभी लोग होली खेलने में व्यस्त रहते है | होला का दिन शुरू होने से पहले कई कई स्कूल व कॉलेज में छोटे बच्चो को उनके विधालय में निबंध दिया जाता है जो की उनके एग्जाम में भी आता है | इसीलिए अगर आप होली के दिन के ऊपर निबंध कक्षा 1st, 2nd, 3rd, 4th, 6th, 7th, 8th, 9th, 10th, 11th, 12th के लिए एस्से के बारे में जानकारी पाना चाहते है तो इसके लिए आप जानकारी यहाँ से पा सकते है तथा परीक्षा में पास हो सकते है |

Holi Par Nibandh Hindi Mein – Essay On Holi In Hindi 300 Words

सभी के लिये प्रिय होली खुशियाँ और सुख लाने वाला त्योहार होता है। ये हर साल हिन्दु धर्म के द्वारा मनाया जाने वाला बहुत ही महत्वपूर्ण पर्व होता है। ये आमतौर पर मार्च के महीने में वसंत ऋतु की शुरुआत में आता है। सभी इसका बेसब्री से इंतजार करते है और इसको अलग तरीके से मनाने की तैयारी करते हैं।

होली को मनाने के पीछे भक्त प्रह्लाद की मुख्य भूमिका है। भगवान विष्णु के भक्त प्रह्लाद को उसी के पिता ने उसकी पूजा न करने पर मारने का प्रयास किया, इसके लिये उसने अपनी बहन होलिका को प्रह्लाद को अपनी गोद में लेकर आग में बैठने को कहा क्योंकि होलिका को ये वरदान था कि वो आग में जल नहीं सकती चूंकि प्रह्लाद भगवान विष्णु का भक्त था इसलिये इस आग में उसे कोई नुकसान नहीं हुआ जबकि आशिर्वाद पायी होलिका जलकर भस्म हो गई। उसी दिन से हर साल ये त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत के रुप में मनाया जाता है।

रंगों की होली के एक दिन पहले, लोग लकड़ी, घास और गोबर के ढ़ेर को रात में जलाकर होलिका दहन की पौराणिक कथा को याद करते है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन परिवार के सभी सदस्यों द्वारा सरसों उपटन का मसाज शरीर पर करवाने से शरीर और घर की गंदगी साफ हो जाती है और घर में खुशियाँ और सकारात्मक शक्तियों का प्रवेश होता है।

होलिका दहन के अगले दिन सभी लोग अपने मित्र, परिवार और सगे-संबंधियों के साथ रंगों से खेलते है। इस दिन बच्चे गुब्बारों और पिचकारियों में रंग भरकर दूसरों पर फेंकते है। सभी एक-दूसरे के घर जाकर गले लगाते है साथ ही अबीर लगाकर अपनत्व और प्यार का इजहार करते है। इस खास अवसर पर सभी अपने घर में मिठाई, दही-बढ़े, नमकीन, पापड़ आदि बनवाते है।

होली पर एक निबंध – होली पर छोटा निबंध

हिन्दूओं के द्वारा दिवाली की तरह ही होली भी व्यापक तौर पर मनाया जाने वाला त्योहार है। ये फागुन महीने में आता है जो वसंत ऋतु के फागुन महीने में आता है जिसे वसंत ऋतु की भी शुरुआत माना जाता है। हर साल होली को मनाने की वजह इसका इतिहास और महत्व भी है। बहुत साल पहले, हिरण्यकश्यप नाम के एक दुष्ट भाई की एक द्ष्ट बहन थी होलिका जो अपने भाई के पुत्र प्रह्लाद को अपने गोद में बिठा कर जलाना चाहती थी।

प्रह्लाद भगवान विष्णु के भक्त थे जिन्होंने होलिका के आग से प्रह्लाद को बचाया और उसी आग में होलिका को राख कर दिया। l तभी से हिन्दु धर्म के लोग शैतानी शक्ति के खिलाफ अच्छाई के विजय के रुप में हर साल होली का त्योहार मनाते है। रंगों के इस उत्सव में सभी एक दूसरे को रंग और गुलाल लगाकर दिनभर होली का जश्न मनाते है।

मेरा प्रिय त्योहार होली पर निबंध 2018

रंगों का त्योहार होली पर निबंध – Essay On Holi In 200 Words In Hindi

होली का उत्सव हर साल पूर्णं चन्द्रमा के दिन मार्च (फागुन) के महीने में मनाया जाता है। इसे एकता, प्यार, खुशी, सुख, और जीत का त्योहार के रुप मे भी जाना जाता है। हमलोग एक-दूसरे के साथ प्यार और खुशी जाहिर करने के लिये इस पर्व को चमकीले और आकर्षक रंगों से खेलते है। इसका अपना महत्व है साथ ही इसको मनाने के पाछे कई सारे कारण, कथाएं और आस्था भी है।

बहुत समय पहले, एक राजा हिरण्यकश्यप, उसकी बहन होलिका और उसका पुत्र प्रह्लाद थे। प्रह्लाद एक पावन आत्मा था जो भगवान विष्णु का भक्त था जबकि उसके पिता चाहते थे कि प्रह्लाद समेत सभी उसकी पूजा करें। लेकिन भक्त प्रह्लाद को ये गवाँरा नहीं था और वह सदा भगवान विष्णु की ही पूजा करता था। इससे नाराज होकर उसके पिता ने उसको आग से जलाकर मारने की योजना बनाई। उसने अपनी बहन होलिका से कहा कि वो प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठे क्योंकि होलिका को भगवान से ये वरदान मिला था कि आग उसे जला नहीं सकता, अपने भाई की बात मान होलिका आग में बैठी परंतु प्रह्लाद को इस आग से कोई नुकसान नहीं हुआ बल्कि होलिका ही इस आग में जलकर खाक हो गई। इसी कथा से होली उत्सव का जन्म हुआ।

इस पर्व के मौके पर सभी अपने प्रियजनों से मिलते है, रंग और अबीर से होली खेलते है, साथ ही कई सारी क्रियाओं में भाग लेते है जो एक-दूसरे के लिये खुशी को प्रदर्शित करता है। इस तरह लोग रंगों के इस त्योहार में अपनों के संग खुशियाँ मनाते है।

Holi Ka Essay In Hindi

अगर आप होली के दिन के लिए निबंध या एस्से भाषा में Hindi, Urdu, Nepali, Punjabi, Gujarati, Kannad, Tamil, telugu, malyalam, Marathi, Bhojpuri तथा Language Font में जानना चाहे तो होली पर विचार, diwali पर निबंध, होली के बारे में तथा होली के बारे में जानकारी के माध्यम से जान सकते है :

होली रंगों का त्योहार है जिसे हर साल फागुन के महीने में (मार्च) हिन्दू धर्म के लोग बड़ी धूमधाम से मनाते है। उत्साह से भरा ये त्योहार हमारे लिये एक दूसरे के प्रति स्नेह और निकटता लाती है। इसमें लोग आपस में मिलते है, गले लगते है और एक दूसरे को रंग और अबीर लगाते है। इस दौरान सभी मिलकर ढ़ोलक, हारमोनियम तथा करताल की धुन पर धार्मिक और फागुन गीत गाते है। इस दिन पर हमलोग खासतौर से बने गुजिया, पापड़, हलवा, पानी-पूरी तथा दही-बढ़े आदि खाते है। होली उत्सव के एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है।

 Holi Essay in Hindi for Class

Essay On Holi In Hindi For Class 2nd – होली एस्से इन हिंदी

होली रंगों का एक शानदार उत्सव है जो भारत में हिन्दु धर्म के लोग हर साल बड़ी धूमधाम से मनाते है। ये पर्व हर साल वसंत ऋतु के समय फागुन (मार्च) के महीने में आता है जो दिवाली की तरह सबसे ज्यादा खुशी देने वाला त्योहार है। ये हर साल चैत्र महीने के पहले दिन मनाया जाता है। इस दौरान पूरी प्रकृति और वातावरण बेहद सुंदर और रंगीन नजर आते है।
होली का ये उत्सव फागुन के अंतिम दिन होलिका दहन की शाम से शुरु होता है और अगला दिन रंगों में सराबोर होने के लिये होता है। बच्चे इस पर्व का बड़े उत्सुकता के साथ इंतजार करते है तथा आने से पहले ही रंग, पिचकारी, और गुब्बारे आदि की तैयारी में लग जाते है साथ ही सड़क के चौराहे पर लकड़ी, घास, और गोबर के ढ़ेर को जलाकर होलिका दहन की प्रथा को निभाते है।

सभी रात में एक जगह इकठ्ठा होकर लकड़ी, घास, और गोबर के ढ़ेर को जलाकर होलिका दहन की रिवाज को संपन्न करते है। इसमें महिलाऐं रीति से संबंधित गीत भी गाती है। इस दौरान सभी खुशनुमा माहौल में होते है और होली खेलने के लिये अगली सुबह का इंतजार करते है। इस दिन सभी लोग सामाजिक विभेद को भुलाकर एक-दूसरे पर रंगों की बौछार करते है साथ ही स्वादिष्ट पकवानों और मिठाईयाँ बाँटकर खुशी का इजहार करते है।

Holi Long Essay In Hindi – Holi Essay Writing In Hindi

होली रंगों का त्योहार है। यह प्रायः पूरे भारतवर्ष में मनाया जाता है। प्रकृति भी एक तरह से इस त्योहार में सम्मिलित होती है। चारों ओर रंग बिरंगे फूल बिखेर कर बसंत ऋतु खुशियां लुटाती है। यह त्योहार मौसम और रंगों के अनुकूल होता है।

होली का त्योहार फाल्गुन की पूर्णमासी को मनाया जाता है। इसी कारण इसे फाग भी कहते हैं। पूर्णमासी से एक दिन पहले रात को लोग होली जलाते हैं और उसमें गेहूं की बालें तथा चने के छोले भुनते हैं। वातावरण में मस्ती फैली रहती है। रंगों और संगीत का उन्माद लोगों को उत्साह और उमंग से भर देता है।

होली के साथ एक पौराणिक कथा भी जुड़ी हुई है। एक राजा हिरण्यकष्यप था। जो चाहता था- सभी उसे भगवान मानकर उसकी पूजा करें। उनका पुत्र प्रह्लाद उन्हें ईश्वर नहीं मानता था। बहुत समझाने पर भी वह नहीं समझा तो उन्होंने उसे मारने के कई उपाय किये, पर वह नहीं मरा। हिरण्यकष्यप की बहन होलिका को आग में न जलने का वर मिला हुआ था। होलिका प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठ गयी। ईश्वर की कृपा से होलिका जल गयी और प्रह्लाद सकुशल बच गया। इसी की याद में होली जलायी जाती है।

होली के अवसर पर किसानों की फसल पक जाती है अतः लहलहाती फसलें देखकर वे खुशी से झूम उठते हैं और आग में अनाज की बालों को भूनकर खाते एवं खिलाते हैं।

अगले दिन सुबह अर्थात दुलहंडी के दिन होली खेली जाती है। सब लोग वैर विरोध भूल कर एक दूसरे के गले मिलते हैं, मिठाइयां खाते और खिलाते हैं तथा प्यार के रंगों में रंग जाते हैं। सभी एक दूसरे पर रंग डालते और गुलाल मलते हैं। रंगों से सराबोर लोगों को हंसते गाते देखकर हर व्यक्ति होली के रंग में रंग जाता है। गुंजिया और तरह तरह की मिठाइयों से वातावरण में मिठास घुल जाती है।

अतः होली वह त्योहार है जो आपसी प्रेम और भाईचारे का प्रतीक है। और हम इस दिन की पवित्रता को प्रेम और भाईचारे से ही सुरक्षित रख सकते हैं।

अगर आप होली के त्योहार पर निबंध प्रस्तावना, होली त्योहार पर निबंध लिखिए, होली पर निबंध इंग्लिश में, होली पर हिन्दी निबंध लिखना है, होली पर निबंध लिखो बच्चों के लिए संस्कृत में, होली का त्यौहार पर निबंध बताये, होली पर संस्कृत निबंध, holi par nibandh english me, holi par nibandh hindi me, holi par nibandh in english, indian festival holi tyohar par nibandh, essay on holi in hindi for class 12, holi essay i hindi, holi 2015 essay in hindi, essay on holi in hindi for class 3rd, holi 2016 essay in hindi, hindu festival essay on holi in hindi in 150 words, holi essay 10 lines in hindi, holi ka mahatva essay in hindi, essay on holi in hindi on wiki के बारे में जानकारी यहाँ से पा सकते है :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *