मुनव्वर राना की लोकप्रिय शायरी

मुनव्वर राना की लोकप्रिय शायरी – Munawwar Rana Shayari in Hindi & Urdu – 2 Line Sher Ghazal

Posted by

मुनव्वर राणा जी उर्दू के जानेमाने प्रसिद्ध साहित्यकार है इनका जन्म 26 नवंबर 1952 में रायबरेली, उत्तर प्रदेश में हुआ था इनके द्वारा रचित कविता शाहदाबा के लिए इन्हे वर्ष 2014 में साहित्य अकादमी पुरूस्कार द्वारा सम्मानित किया जा चुका है | इन्होने कई शेरो-शायरियां लिखी है जो की हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है अगर आप इनके द्वारा रचित रचनाओं में से बेहतरीन शायरियां जानना चाहते है तो इसके लिए आप हमारी इस पोस्ट द्वारा जान सकते है |

Munawwar Rana Urdu Shayari

अगर आप munawwar rana shayari and ghazals, munawar rana shayari in hindi, munawwar rana shayri in words, munawwar rana maa shayari in hindi pdf, munawwar rana 2line shayri on life, munawwar rana shayari maa, munawwar rana shayari in urdu, munawwar rana shayari youtube, munawwar rana shayari on siyasat, munawwar rana shayari video, munawwar rana shayari hindi pdf, munawwar rana love shayari in hindi, Collection, image, two line, mp3 download, lyrics, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017, 2018, pdf के बारे में जानने के लिए आप यहाँ से जान सकते है :

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई
मैं घर में सब से छोटा था मिरे हिस्से में माँ आई

कुछ बिखरी हुई यादों के क़िस्से भी बहुत थे
कुछ उस ने भी बालों को खुला छोड़ दिया था

दौलत से मोहब्बत तो नहीं थी मुझे लेकिन
बच्चों ने खिलौनों की तरफ़ देख लिया था

देखना है तुझे सहरा तो परेशाँ क्यूँ है
कुछ दिनों के लिए मुझ से मिरी आँखें ले जा

Munawwar Rana 2 Line Shayari – मुनव्वर राना २ लाइन शायरी

आते हैं जैसे जैसे बिछड़ने के दिन क़रीब
लगता है जैसे रेल से कटने लगा हूँ मैं

घर में रहते हुए ग़ैरों की तरह होती हैं
लड़कियाँ धान के पौदों की तरह होती हैं

जब भी कश्ती मिरी सैलाब में आ जाती है
माँ दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है

कल अपने-आप को देखा था माँ की आँखों में
ये आईना हमें बूढ़ा नहीं बताता है

मुनव्वर राना माँ शायरी

खिलौनों की दुकानों की तरफ़ से आप क्यूँ गुज़रे
ये बच्चे की तमन्ना है ये समझौता नहीं करती

किसी के ज़ख़्म पर चाहत से पट्टी कौन बाँधेगा
अगर बहनें नहीं होंगी तो राखी कौन बाँधेगा

किसी की याद आती है तो ये भी याद आता है
कहीं चलने की ज़िद करना मिरा तय्यार हो जाना

हम सब की जो दुआ थी उसे सुन लिया गया
फूलों की तरह आप को भी चुन लिया गया

Shayari of Munawwar Rana

हर चेहरे में आता है नज़र एक ही चेहरा
लगता है कोई मेरी नज़र बाँधे हुए है

किसी दिन मेरी रुस्वाई का ये कारन न बन जाए
तुम्हारा शहर से जाना मिरा बीमार हो जाना

भले लगते हैं स्कूलों की यूनिफार्म में बच्चे
कँवल के फूल से जैसे भरा तालाब रहता है

दिन भर की मशक़्क़त से बदन चूर है लेकिन
माँ ने मुझे देखा तो थकन भूल गई है

Munawwar Rana Urdu Shayari

मुनव्वर राणा की शायरी

अगर आप मुनव्वर राना कि शायरी, मुनव्वर राणा के शायरी, मुनव्वर राना शायरी वीडियो, मुनव्वर राना शायरी, मुनव्वर राना शायरी हिंदी, मुनव्वर राना की शायरी, , मुनव्वर राना शायरी इन हिंदी, मुनव्वर राना शायरी न माँ, मुनव्वर राना शायरी माँ, मुनव्वर राना शायरी न सियासत, मुनव्वर राणा माँ शायरी के बारे में जानने के लिए आप यहाँ से जान सकते है :

फ़रिश्ते आ कर उन के जिस्म पर ख़ुश्बू लगाते हैं
वो बच्चे रेल के डिब्बों में जो झाड़ू लगाते हैं

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है
रहते रहते स्टेशन पर लोग क़ुली हो जाते हैं

दहलीज़ पे रख दी हैं किसी शख़्स ने आँखें
रौशन कभी इतना तो दिया हो नहीं सकता

दौलत से मोहब्बत तो नहीं थी मुझे लेकिन
बच्चों ने खिलौनों की तरफ़ देख लिया है

Munawwar Rana Shayari on Mother

खिलौनों के लिए बच्चे अभी तक जागते होंगे
तुझे ऐ मुफ़्लिसी कोई बहाना ढूँड लेना है

जितने बिखरे हुए काग़ज़ हैं वो यकजा कर ले
रात चुपके से कहा आ के हवा ने हम से

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है

अब आप की मर्ज़ी है सँभालें न सँभालें
ख़ुशबू की तरह आप के रूमाल में हम हैं

मुनव्वर राना शायरी व पॉलिटिक्स

अब जुदाई के सफ़र को मिरे आसान करो
तुम मुझे ख़्वाब में आ कर न परेशान करो

एक आँसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है
तुम ने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना

गर कभी रोना ही पड़ जाए तो इतना रोना
आ के बरसात तिरे सामने तौबा कर ले

अभी ज़िंदा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा
मैं घर से जब निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है

Munawwar Rana Shayari on Politics in Hindi

ऐ ख़ाक-ए-वतन तुझ से मैं शर्मिंदा बहुत हूँ
महँगाई के मौसम में ये त्यौहार पड़ा है

तुझे मा’लूम है इन फेफड़ों में ज़ख़्म आए हैं
तिरी यादों की इक नन्ही सी चिंगारी बचाने में

तुम ने जब शहर को जंगल में बदल डाला है
फिर तो अब क़ैस को जंगल से निकल आने दो

तुम्हारे शहर में मय्यत को सब कांधा नहीं देते
हमारे गाँव में छप्पर भी सब मिल कर उठाते हैं

Munawwar Rana Shayari in Hindi

मुनव्वर राना की दर्द भरी शायरी

तुम्हें भी नींद सी आने लगी है थक गए हम भी
चलो हम आज ये क़िस्सा अधूरा छोड़ देते हैं

फेंकी न ‘मुनव्वर’ ने बुज़ुर्गों की निशानी
दस्तार पुरानी है मगर बाँधे हुए है

फिर कर्बला के ब’अद दिखाई नहीं दिया
ऐसा कोई भी शख़्स कि प्यासा कहें जिसे

तमाम जिस्म को आँखें बना के राह तको
तमाम खेल मोहब्बत में इंतिज़ार का है

Munawwar Rana 4 Line Shayari – मुनव्वर राना के शेर

माँ ख़्वाब में आ कर ये बता जाती है हर रोज़
बोसीदा सी ओढ़ी हुई इस शाल में हम हैं

मैं दुनिया के मेआ’र पे पूरा नहीं उतरा
दुनिया मिरे मेआ’र पे पूरी नहीं उतरी

मैं इसी मिट्टी से उट्ठा था बगूले की तरह
और फिर इक दिन इसी मिट्टी में मिट्टी मिल गई

तुम्हारा नाम आया और हम तकने लगे रस्ता
तुम्हारी याद आई और खिड़की खोल दी हम ने

Munawwar Rana Shayri in Text

चलती फिरती हुई आँखों से अज़ाँ देखी है
मैं ने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है

तेरे दामन में सितारे हैं तो होंगे ऐ फ़लक
मुझ को अपनी माँ की मैली ओढ़नी अच्छी लगी

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है

बच्चों की फ़ीस उन की किताबें क़लम दवात
मेरी ग़रीब आँखों में स्कूल चुभ गया

मुनव्वर राना की ग़ज़लें

मैं ने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दें
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-ए-माँ रहने दिया

मैं राह-ए-इश्क़ के हर पेच-ओ-ख़म से वाक़िफ़ हूँ
ये रास्ता मिरे घर से निकल के जाता है

मिट्टी का बदन कर दिया मिट्टी के हवाले
मिट्टी को कहीं ताज-महल में नहीं रक्खा

बर्बाद कर दिया हमें परदेस ने मगर
माँ सब से कि रही है कि बेटा मज़े में है

2 Line Sher Ghazal

Munawwar Rana Best Shayari in Hindi

मुझे भी उस की जुदाई सताती रहती है
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है

हँस के मिलता है मगर काफ़ी थकी लगती हैं
उस की आँखें कई सदियों की जगी लगती हैं

हम नहीं थे तो क्या कमी थी यहाँ
हम न होंगे तो क्या कमी होगी

निकलने ही नहीं देती हैं अश्कों को मिरी आँखें
कि ये बच्चे हमेशा माँ की निगरानी में रहते हैं

मुनव्वर राना देश भक्ति शायरी

पचपन बरस की उम्र तो होने को आ गई
लेकिन वो चेहरा आँखों से ओझल न हो सका

मुनव्वर माँ के आगे यूँ कभी खुल कर नहीं रोना
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती

लिपट जाता हूँ माँ से और मौसी मुस्कुराती है
मैं उर्दू में ग़ज़ल कहता हूँ हिन्दी मुस्कुराती है

मोहब्बत एक पाकीज़ा अमल है इस लिए शायद
सिमट कर शर्म सारी एक बोसे में चली आई

Munawwar Rana Shayari Lyrics in Hindi

सहरा पे बुरा वक़्त मिरे यार पड़ा है
दीवाना कई रोज़ से बीमार पड़ा है

शहर के रस्ते हों चाहे गाँव की पगडंडियाँ
माँ की उँगली थाम कर चलना बहुत अच्छा लगा

मिरे बच्चों में सारी आदतें मौजूद हैं मेरी
तो फिर इन बद-नसीबों को न क्यूँ उर्दू ज़बाँ आई

मिरी हथेली पे होंटों से ऐसी मोहर लगा
कि उम्र भर के लिए मैं भी सुर्ख़-रू हो जाऊँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *