नवजोत सिंह सिद्धू की शायरी

नवजोत सिंह सिद्धू की शायरी – Navjot Singh Sidhu Shayari in Hindi – Sher o Shayari in Comedy Nights With Kapil

Posted by

नवजोत सिंह सिद्ध जी भारत क्रिकेट टीम का एक जानामाना चेहरा है लेकिन क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद उन्हें हम एक हास्य कलाकार के रूप से भी जानते है वह अभी मोटिवेशनल स्पीकर, हास्य कलाकार, कमेंट्रेटर के रूप में भूमिका निभाते हुए नज़र आते है | आज के समय का सबसे बड़ा कॉमेडी रियलिटी शो कॉमेडी नाईट विद कपिल जिसमे की वह एक अहम् भूमिका में नज़र आते है इसीलिए हम आपको सिद्धू जी द्वारा कही गयी कुछ बेहतरीन शायरियो के बारे में बताते है जो की आपके लिए काफी मज़ेदार जिन्हे आप अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है |

Navjot Singh Sidhu Funny Shayari

अगर आप सिधु की प्रसिद्ध शायरी के बारे में नवजोत सिंह सिधु शायरी इन हिंदी, navjot singh sidhu shayri in hindi, font, navjot singh sidhu ki shayari, in ipl, in bigg boss, video, in english, lyrics, font, in urdu, mp3 download, pdf, in youtube के बारे में जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

कांटो में रहकर भी फूलो की तरह महकना सीखो
कीचड़ में रहकर भी दोस्तों कमल की तरह खिलना सीखो
जो परिस्थितियों से घबरा जाये वो लौह पुरुष हो नहीं सकता
राख में रहकर भी अंगारों की तरह दहकना सीखो

सिकंदर हालात के आगे नहीं झुकता
तारा टूट भी जाये जमीन पर आकर नहीं गिरता
गिरते है हजारो दरिया समंदर में
पर कोई समंदर किसी दरिया में नहीं गिरता

प्रेम परिचय को पहचान बना देता है
वीराने को गुलिस्तान बना देता है
मै आप बीती कहता हु गैरो कि नही
प्रेम इंसान को भगवान बना देता है।

जो वक़्त अपना बर्बाद नहीं करता
किसी की दुनिया आबाद नहीं करता
जिस किसी ने जगह मिलेगी जीत से
हारने वालो को जमाना याद नहीं करता

Navjot Singh Sidhu Shayari in Comedy Nights with Kapil

खुदी से खुद का अंदाज़ा नहीं होता,
बाहर आने से पहले फूल भी ताज़ा नहीं होता,
कोशिशे करते रहो तो जान जाओगे,
मुकद्दर का हमेशा बंद दरवाजा नहीं होता

लाखों हसीं जहां में है पर मुझे यकीन है,
कि यहां तुमसे मिलता जुलता कोई दूसरा नहीं है,
ये नूर, ये निखार, ये शोखियां, ये बाघपन,
अगर कहीं जन्नत है तो यहीं है।

सूरज हूँ जिंदगी की चमक छोड़ जाऊँगा,
फिर लौट आने की खनक छोड़ जाऊँगा
मै सबकी आँखों से आंसू समेट कर,
सबके दिलो में अपनी झलक छोड़ जाऊँगा

जीने के लिये तेरा एक अरमान ही काफी,
दिल की कलम से लिखी ये दास्तान ही काफी है,
तीरों-तलवार की तुझे क्या जरुरत है हसीना,
क़त्ल करने के लिये तेरी मुस्कान ही काफी है।

Sher o Shayari

सिद्धू पाजी शायरी हिंदी

दिल से दुआ है, जो दिल से दे दुआ तो बिखारी आमिर है
मोती ना दे सके तो समंदर फकीर है
देता रहेगा सारे अंधेरो को रोशनी
जब तक तेरे वजूद में रोशन जमीर है

जोड़ने वाले को मान मिलता है
तोड़ने वाले को अपमान मिलता है,
और जो खुशियाँ बाँट सके उसे सम्मान मिलता है

मंजिले उनको मिलती है
जिनके सपनों में जान होती है
पंखो से कुछ नहीं होता
हौसलों से उड़ान होती है

आयु थोड़ी बड़ी है, लेकिन उत्साह आज भी वही है
नदी चाहे गहरी है लेकिन प्रवाह आज भी वही है
वही दमखम वही चम चम, मन ठाठ वही है
तलवार पुरानी है पर धार और काट आज भी वही है

Navjot Singh Sidhu Motivational Shayari In Hindi

बुलबुलों के पंखो मे बंधे हुए कभी बाज़ नहीं रहते,
बुझदिलो और कायरो के हाथ कभी राज़ नहीं रहते
सर झुकाकर चलने की आदत पड़ जाये जिस इंसान को
उस इंसान के सर पर कभी ताज नहीं रहते.

इबादत नहीं सिर्फ माला को घुमा देना,
इबादत है किसी भूखे को रोटी खिला देना,
किसी रोते हुए को हसा देना,
किसी उजड़े हुए को बसा देना.

निकाल दे अपने दिल से हर डर को,
नजारे मिलेंगे नए फिर तेरी नजर को,
दामन भर जाएगा सितारों से तेरा
ये दुनिया देखेगी तब तेरे उभरते हुनर को

कहते हैं जहां सिर झुक जाये वहीं मंदिर,
जहां हर नदी सम जाये वहीं समंदर है,
जीवन की इस कर्मभूमि में युद्ध बहुत है,
जो हर जंग जीत जाये वही सलमान जैसा सिकंदर है।

Navjot Singh Sidhu Shayari in Hindi

नवजोत सिंह सिद्धू शेर

अगर आप Navjot Singh Sidhu Quotes In Hindi को इन थे कपिल शर्मा शो, download , नवजोत सिंह सिधु फनी शायरी, सिधु पाजी की शायरी, क्रिकेट की शायरी, क्रिकेट पे शायरी, क्रिकेट शायरी हिंदी में, mp3, in punjabi, navjot singh sidhu quotes on life, sidhu shayari for aishwarya rai, navjot singh sidhu one liners hindi, sidhu shayari for madhuri dixit, .com, in parliament, mp3 download के बारे में जानकारी पाना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

हर आरजू हमेशा अधूरी नहीं होती,
सच्चे रिश्तों में कभी दूरी नहीं होती,
और जिस दिल में सोनम जैसी महबूबा बस्ती हो,
उसके लिये तो धड़कन भी जरूरी नही होती।

पानी की बूंद कही टिकती नहीं,
ईमानदारी मुझे कही दिखती नहीं
खरीददारो की मंडी में खड़ा है सिधु,
जितनी मर्जी बोली लगा कुछ चीजे ऐसी है जो बिकती नहीं

हर दिन के बाद यहाँ रात होती है,
हार जीत मेरे दोस्त साथ साथ होती है,
कोई कितने भी बनाले हवा में महल
मिलता वही है गुरु जो औकाद होती है.

आग कहीं भड़काना ना भूल जाये,
बिजली कहीं कड़कना ना भूल जाये,
संभलके रखना ऐ नौजवानों अपना दिल,
बिपासा को देखके कहीं धड़कना ना भूल जाये।

Navjot Singh Sidhu Cricket Shayari in Hindi

जूनून है आंधियो में भी चिरागों को जला देता है,
वो जूनून है आग पानी में लगा देता है,
ये नयी सुबह का सूरज है,
इसे गौर से देख क्रिकेट वालो को ये अंदाज नया देता है

हादसों के शहर में हादसों से डरता है,
मिटटी का खिलौना है फना होने से डरता है
मेरे दिल के कौने में एक मासूम सा बच्चा,
बड़ो की देख के ये दुनिया ये बड़ा होने से डरता है

गुलाबो की खुशबु दीवारे रोक नहीं सकती,
हवाओ का बहाव मीनारे रोक नहीं सकती,
बुलंद हौसले ही जीवन की हकीकत है,
फौलादो की तकदीर तब्दिरे रोक नहीं सकती.

शेर चला करते हैं,
खुद्दार चला करते हैं,
सिर ऊंचा करके कौम पे,
सनी देओल जैसे सरदार चला करते हैं।

Navjot Singh Sidhu Funny Shayari

सिद्धू की रोमांटिक शायरी

आप आये जैसे बहार आ गई,
सावन की रिमझिम जैसे फुन्हार आ गई,
मेरी बात पर अगर हंस दिए हुस्न-ए-आला
मानो हंसो की एक कतार आ गई।

सोच ऊंची बंदा शहनशाह शाहों का शाह
और सोच नीची
आदमी बिखारी हाथ मे
टूठा थन थन पाल मदन गोपाल

क्या कभी उल्लू को रात में सोता देखा है |
क्या कभी मछलियों को साबुन से नहाते देखा है |
आदते जो लग जाते कहा वो जल्दी बदलती है |
क्या कभी कुत्ते की दूम को सीधी होते देखा है |

Navjot Singh Sidhu Sher o Shayari

समुद्र शांत हो तो कोई भी नाव चला लेता हैं,
असली मज़ा तो तुफानों से कस्ती निकालने में आता हैं।

सभी को सभी कुछ हासिल नहीं मिलता
नदी की हर लहर को साहिल नहीं मिलता
ये दिल वालों की दुनिया है
अजब है दास्तान इसकी
किसी से दिल नहीं मिलता ओर कोई दिल से नहीं मिलता

इबादत नहीं सिर्फ माला को घुमा देना…
इबादत है किसी भूखे को रोटी खिला देना,
किसी रोते हुए को हसा देना,
किसी उजड़े हुए को बसा देना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *