Shayari

Welcome Shayari in Hindi

Welcome Shayari in Hindi
Written by abhay

भारत एक ऐसा देश है जहा मेहमान या अतिथि एक भगवन के समान माना जाता है| हर परिवार के लोग अपने मेहमान का आदर एवं सत्कार से स्वागत करते है एवं उन्हें आमंत्रित करते है| बहुत से लोग मेहमान को आमंत्रित करने के लिए शायरी का इस्तेमाल करते है|

Welcome shayari

आये वो हमारी महफ़िल में कुछ इस तरह
कि हर तरफ़ चाँद-तारे झिलमिलाने लगे,
देखकर दिल उनको झूमने लगा
सब के मन जैसे खिलखिलाने लगे.

कौन आया कि निगाहों में चमक जाग उठी,
दिल के सोये हुए तरानों में खनक जाग उठी,
किसके आने की खबर ले कर हवाएँ आई
रूह खिलने लगी साँसों में महक जाग उठी.

Welcome shayaris

सबके दिलों में हो सबके लिए प्यार,
आने वाला हर पल लाये खुशियों का बहार,
इस उम्मीद के साथ भुलाके सारे गम
इस आयोजन का करें वेलकम.

देर लगी आने में तुम को शुक्र है फिर भी आए तो
आस ने दिल का साथ न छोड़ा वैसे हम घबराए तो

Hindi Welcome Shayari

ये कौन आया, रौशन हो गयी महफ़िल किसके नाम से
मेरे घर में जैसे सूरज निकला है शाम से.

हार को जीत की इक दुआ मिल गई,
तप्त मौसम में ठंडी हवा मिल गई,
आप आये श्रीमान जी यूँ लगा
जैसे तकलीफों को कुछ दवा मिल गई.

Welcome shayari in hindi for guests

हार को जीत की एक दुआ मिल गई
तपन मौसम में ठंडी हवा मिल गई।
आप आये श्री मान जी यू लगा,
जैसे तकलीफ को कुछ दवा मिल गई।

हमारी महफ़िल में लोग बिन बुलायें आते हैं,
क्योकि यहाँ स्वागत में फूल नहीं पलकें बिछाये जाते हैं।

Welcome shayari in hindi for anchoring

सौ चाँद भी आ जाएँ तो महफ़िल में वो बात न रहेगी,
सिर्फ आपके आने से ही महफ़िल की रौनक बढ़ेगी.

अजीज के इन्तजार में ही पलके बिछाते हैं,
महफ़िलो की रौनक खास लोग ही बढ़ाते हैं.

Welcome shayari for anchoring in hindi

आये वो हमारी महफ़िल में कुछ इस तरह
कि हर तरफ़ चाँद-तारे झिलमिलाने लगे।
देखकर दिल उनको झूमने लगा,
सब के मन जैसे खिलखिलाने लगे।।।

कौन आया कि निगाहों में चमक जाग उठी,
दिल के सोये हुए तरानों में खनक जाग उठी।
किसके आने की खबर ले कर हवाएँ आई,
रूह खिलने लगी साँसों में महक जाग उठी।

Welcome shayari for chief guest in hindi

Welcome shayari in hindi for guests

बुझते हुए चराग़ फ़रोज़ाँ करेंगे हम,
तुम आओगे तो जश्न-ए-चराग़ाँ करेंगे हम।

हर गली अच्छी लगी हर एक घर अच्छा लगा,
वो जो आया शहर में तो शहर भर अच्छा लगा।

Welcome shayari in urdu

وہ آسمان میں خود کی پیمائش کرتے ہیں،
ٹرینوں کو پرواز کرنے کے لئے تربیت نہیں دی جاتی ہے.
کام کرنا مزہ اور مزہ ہے
موٹے میٹھی دلوں میں سے نہیں، ……

رولی تلک تھل، سری پھل لے لیا، سجایا،
مسٹر مین کا آپ کا استقبال گوشا کا دورہ

Welcome shayari for a function

ये कौन आया, रौशन हो गयी महफ़िल किसके नाम से
मेरे घर में जैसे सूरज निकला है शाम से..।।।।।।।

सबके दिलों में हो सबके लिए प्यार,
आने वाला हर पल लाये खुशियों का बहार
इस उम्मीद के साथ भुलाके सारे गम,
इस आयोजन का करें वेलकम..।।

Welcome shayari in hindi for freshers party

ख़ुश-आमदीद वो आया हमारी चौखट पर,
बहार जिस के क़दम का तवाफ़ करती है।।

जो दिल का हो ख़ूबसूरत ख़ुदा ऐसे लोग कम बनाये हैं,
जिन्हें ऐसा बनाया है आज वो हमारी महफ़िल में आये हैं।

Welcome shayari in hindi for chief guest

हुस्न-ओ-इश्क का समा है आज जमाने के बाद,
हर फूल की खुशबू गज़ब है आप के आने के बाद।

हसरतो ने फिर से करवट बदली है,
आप आये तो बलखा के बहारें आईं।

Welcome shayari in punjabi

ਰਾਲੀ ਤਿਲਕ ਥਾਲ, ਸ੍ਰੀਲੰਕਾ ਦੇ ਫਲ,
ਸ਼੍ਰੀਮਾਨ ਕਾ ਵਿੱਚ ਸਵਾਗਤ ਹੈ, ਗੋਸ਼ਾ ਨੂੰ ਮਿਲੋ

ਉਹ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਅਕਾਸ਼ ਵਿੱਚ ਮਾਪਦੇ ਹਨ,
ਇਹ ਗੱਡੀਆਂ ਉਤਰਨ ਲਈ ਸਿਖਲਾਈ ਪ੍ਰਾਪਤ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੀਆਂ
ਇਹ ਕੰਮ ਕਰਨ ਲਈ ਮਜ਼ੇਦਾਰ ਅਤੇ ਮਜ਼ੇਦਾਰ ਹੈ
ਮੋਬੀ ਮਿੱਠਾ ਦਿਲ ਨਹੀਂ ਹੈ, ਸ਼ਮ੍ਹਾਦਾਨਾਂ ਦਾ ……

Welcome shayari in gujarati

રોળી તિલક થાલ, શ્રી ફળ લેવામાં, સુશોભિત,
શ્રી માન કામાં આપનું સ્વાગત છે, ગોષ ની મુલાકાત લો.

તેઓ પોતાને આકાશમાં માપે છે,
ટ્રેનોને ઉડવા માટે તાલીમ આપવામાં આવતી નથી.
તે કામ કરવા માટે આનંદદાયક અને મનોરંજક છે
ચંદ્ર મીણબત્તીઓનું મીઠું, હૃદય નથી ……

वेलकम शायरी इन हिंदी

हमारे इस पोस्ट में आपके लिए welcome shayari in hindi, वेलकम शायरी, वेलकम शायरी इन हिंदी फॉर एंकरिंग, welcome shayari in english, welcome shayari in marathi, welcome shayari in urdu for anchoring, welcome शायरी, welcome shayari in punjabi for anchoring, वेलकम शायरी फॉर गेस्ट इन हिंदी, वेलकम पार्टी शायरी, welcome shayari in hindi for students, welcome shayari in urdu for guest, वेलकम शायरी फॉर एंकरिंग, आदि की जानकारी लाए है जिन्हे आप अपने अथतियो के साथ साझा कर सकते है|

चाँदनी रात बड़ी देर के बाद आयी,
ये मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी।
आज आये हैं वो मिलने मुद्दत के बाद,
आज की रात बड़ी देर के बाद आयी।

यह जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं,
कभी सबा को कभी नामबर को देखते हैं।
वो आये घर में हमारे खुदा की कुदरत है,
कभी हम उनको कभी अपने घर को देखते हैं।

About the author

abhay

Leave a Comment