Shayari

राहत इंदौरी शायरी इन हिंदी – 2 Lines Rahat Indori Best Shayari in Hindi – राहत इन्दौरी मशहूर शेर शायरी ग़ज़लें

राहत इंदौरी शायरी इन हिंदी

राहत इंदौरी जी उर्दू जगत के महान शायरों में से एक शायर है इसके अलावा यह हिंदी जगत के प्रमुख गीतकारो में से एक है इनका जन्म 1 जनवरी 1950 में इंदौर, मध्य प्रदेश में हुआ था | इनके पिता का नाम रफ्तुल्लाह कुरैशी तथा माता का नाम मकबूल उन निशा बेगम था इन्होने अपनी शिक्षा में मध्य प्रदेश के भोज मुक्त विश्वविद्यालय से पीएचडी की डिग्री उर्दू साहित्य में प्राप्त की | इसीलिए हम आपको राहत इंदौरी जी द्वारा लिखी गयी कुछ बेहतरीन शेरो, शायरियो व ग़ज़लों के बारे में बताते है जिन्हे आप जान सकते है |

Rahat Indori Ki Shayari – Rahat Indori Romantic Shayari in Hindi

अगर आप रेख्ता के माध्यम से rahat indori new shayari 2016, rahat indori latest shayari 2016, rahat indori best shayari 2014, इन उर्दू, वीडियो, hd video, in dubai, video download, in urdu font, in written, image, in english, in urdu pdf, on friendship, collection, lyrics, on maa, two line, rahat indori sher o shayari, 2017, youtube, 2012, rahat indori new shayari 2014 के लिए कुछ बेहतरीन शायरियां जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है :

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।

बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ

नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है

Rahat Indori Shayari on Love

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है

मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता
यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए

बोतलें खोल कर तो पी बरसों
आज दिल खोल कर भी पी जाए

राहत इंदौरी

Rahat Indori Sher o Shayri

मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया
इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए

शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे

सूरज सितारे चाँद मिरे सात में रहे
जब तक तुम्हारे हात मिरे हात में रहे

कॉलेज के सब बच्चे चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिए
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है

Rahat Indori 2 Line Shayari in Hindi

दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए

वो चाहता था कि कासा ख़रीद ले मेरा
मैं उस के ताज की क़ीमत लगा के लौट आया

ये हवाएँ उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन
दोस्तो मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो

ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे
नींद रक्खो या न रक्खो ख़्वाब मेयारी रखो

Rahat Indori Sad Shayari

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

एक ही नद्दी के हैं ये दो किनारे दोस्तो
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

शहर क्या देखें कि हर मंज़र में जाले पड़ गए
ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए

Rahat Indori Ki Shayari

राहत इंदौरी मुशायरा

मिरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे
मिरे भाई मिरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा

मैं पर्बतों से लड़ता रहा और चंद लोग
गीली ज़मीन खोद के फ़रहाद हो गए

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे

राहत इंदौरी की मशहूर शायरी

अगर आप Collection of Rahat Indori’s best Shayari जानना चाहे तो rahat indori new shayari 2016, rahat indori new shayari 2015, in pdf, in mp3 download, font, download, hd video, लिरिक्स, rahat indori shayri 2 lines, in dubai, 2014, rahat indori 2 lines shayari, in lyrics, 2018, rahat indori shayari on politics, rahat indori ghazals, rahat indori 2017, rahat indori shayari in urdu, rahat indori shayari video, राहत इंदौरी शायरी इन हिंदी पीडीऍफ़ डाउनलोड, सीमा राहत इन्दौरी यहाँ से जान सकते है :

उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे

मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ
यहाँ हमदर्द हैं दो-चार मेरे

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ,
फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ।

Rahat Indori Best Shayari in Hindi

राहत इंदौरी बेस्ट शायरी

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको,
वहाँ पर ढूंढ रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं,
मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं।

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो
एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो,
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो।

​तेरी हर बात ​मोहब्बत में गँवारा करके​,
​दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके​,
​मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी​,​​
​तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,
मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।

Rahat Indori 4 Line Shayari

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।

चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,​
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​,
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,
पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,
उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Copyright © 2018 Hindiguides.in

To Top