Essay (Nibandh)

Essay on Child Labour in Hindi – Bal Majduri Par Nibandh Hindi Mein

बाल श्रम पर निबंध

चाइल्ड लेबर भारत के अधिकतर राज्यों में पाई जाती हैं।यह बच्चों के द्वारा उनके बचपन में दी जाने वाली एक प्रकार की सेवा है जोकी जीवन निर्वाह करने के लिए संसाधनों की कमी के कारण मालिक द्वारा कम पगार पर जादा काम करना ऑर माता पिता की गैर जिम्मेदारी के कारण किया जाता हैं।इस आर्टिकल में आपको कई प्रकार की जानकारी प्राप्त होगी जेसे की  essay on bal shramiko ki samasya par aalekh for class 9,class 10 साथ ही आपको चाइल्ड लेबर एस्से 200 शब्दों में,150 words,500 words,in 100 words में भी मिलेगा।बाल श्रम पर कई ppt भी बनाई गई हैं।आपको Short and Long Essay,bal majuri mahiti,in english,in punjabi,in marathi में भी उपलब्ध कराई गई है।

प्रस्तावना(Introduction)

बाल श्रम की समस्या देश भर में फैली हुई हैं।यह देश ऑर समाज के लिए बहुत हानिकारक है।बाल मजदूरी को बड़े ऑर अमीर लोगों ने एक तरीके से इसको व्यापार बना लिया हैं ऑर साथ ही बच्चों के माता पिता ने भी इस कार्य को पेशा बना लिया हैं।वे लोग चंद रुपए के लिए छोटे बच्चों से काम करवाते हैं ऑर उनका शोषण(abolishing) करते हैं।वे बच्चे कम पैसों में  कठिन से कठिन काम करने के लिए तैयार हो जाते हैं ऑर इसकी वजह से वो अपने अधिकारों से पिछड़ जाते हैं, अशिक्षित रहते हैं।सरकार को बाल mazduri को जड़ से खत्म करने के लिए विशेष प्रकार के प्रयत्न करने चाहिए जिसे समाज में फैली इस परेशानी से उन बच्चों को बाहर लाया जा सके।

bal shram प्रतिदिन हमारे देश में तेजी से बढ़ रहा हैं ऑर इसकी वजह से उनका अनमोल बचपन बिगड़ता जा रहा है। बच्चे कई बीमारियों की चपेट में आते जा रहे हैं,देश में गरीबी बढ़ती जा रही है ,बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है ,ऑर साथ ही देश के विकास ऑर उन्नति में भी बाधा आ रही हैं।

बाल श्रमिक क्या हैं?

बाल्यकाल में बच्चों के द्वारा किया गया श्रम या कार्य या काम है जिसके बदले उन बच्चों को मजदूरी मिलती है उसको बाल श्रम कहा जाता हैं ।आज के आधुनिक युग में बाल मजदूरी एक अभिशाप बन गया है जो की समाज के लिए एक कलंक से कम नहीं हैं। 1950 के सविधान के हिसाब से 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों से मजदूरी करवाना ,हॉटेलों में ,कारखानों में काम करवाना ,ढाबों पे,ऑर घरेलू नौकर की तरह कार्य करवाना baal mazdoori के अंतर्गत आता हैं।लोगों को कानून का कोई डर नहीं है ऑर वे बेखौफ बचो से काम करवाते हैं।

भारत देश में 35 million से ज्यादा बच्चे बाल मजदूरी की चपेट में हैं। सबसे ज्यादा child labour उत्तर प्रदेश,बिहार, ऑर राजस्थान में की जाती हैं। सभी को say no to child labour पर जोर देना चाहिए तभी इस समस्या का हल निकलेगा।

इसके दुष्परिणाम (Child Labor Effects)

  • बच्चे अशिक्षित रह जाते हैं
  • बच्चों का कल अंधकार से भर जाता है
  • बेरोजगारी बढ़ती है ऑर साथ ही गरीबी भी
  • बच्चों का मासिक विकास नहीं होता
  • बच्चों का शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक और सामाजिक विकास में बंदिश लग जाती है ।
  • कारखानों में काम करना सुरक्षित नहीं होता।
  • कई प्रकार की बीमारियों से घिर जाते हैं
  • अनमोल बचपन मजदूरी में बीत जाता है।
  • बच्चों का शोषण किया जाता है।

भारत में इसके कारण (Causes of Child Labour in India)

  • शिक्षा की कमी-इसका मुख्य कारण है अशिक्षित लोग क्योंकि जब लोग पढे लिखे नहीं होते तो उन्हे यह ज्ञान ही नहीं होता की पैसा जरूरी है या फिर पढ़ाई।इसी वजह से वे लोग पैसे शिक्षा छोड़कर पैसे के लिए अपने बायचो को काम करने के लिए भेज देते हैं ऑर उनसे मेहनत करवाते हैं।
  • गरीबी -यह भी मुख्य कारण में से एक है , गरीब परिवार के लोग ठीक प्रकार से पालन पोषण नहीं कर पाते ऑर ना ही अपने परिवार की जीवनी को ठीक प्रकार से चलाते है ऑर उस परेशानी से बाहर निकालने के लिय  वे लोग अपने घर के बच्चों को काम पर लगा देते है ।
  • लालची लोग-कुछ लोग लालच में आकर भी बच्चों से काम करवाते हैं सोचते है की थोड़ा पैसा ही आ जाएगा ।
  • अनाथ बच्चे- ऐसे बचे जिनके मा बाप की मृत्यु हो जाती है , या फिर जिनके मा बाप उन्हे छोड़ देते हैं।ऐसे बच्चे भी काम करने के लिए मजबूर हो जाते हैं।वे  लोग हॉटेलों , कारखानों में ऑर ढाबों पर कार्य करते हैं।
  • जनसंख्या वृद्धि – भारत में जनसंख्या वृद्धि बड़ी तेजी से बढ़ रही हैं ऑर गरीब परिवार के लोग सही प्रकार से गृहस्थी नहीं चला पा रहे ऑर अपने घर के सदस्यों के साथ बच्चों को भी परिश्रम करने के लिए भेज देते हैं।
  • बेरोजगारी- यह भी एक गंभीर समस्या है । गरीब परिवार के लोग मजबूरी में आकर बच्चों से मजदूरी कराते हैं ऑर वे उसी पैसे से फिर एक समय का खाना खाते हैं।
  • सही कानून न होना- भारत देश में कई प्रकार के नियम कानून बनाए गए है लेकिन उन कानून पर कोई ध्यान नहीं देता ऑर बाल मजदूरी दिन प्रतिदिन बढ़ती जाती हैं।
  • भ्रष्टाचार-इसकी वजह से भी Child Labour बढ़ता जा रहा है, बड़े घराने के लोग होटल,कारखानों में बिना किसी भय के श्रम करवाते हैं ऑर जब कोई पकड़ लिया जाता है तो उसे कुछ पैसे देकर उससे परेशानी से मुक्त हो जाते हैं।

बाल मजदूरी पर कानून (Law on Child Rights)

  • Act 1986 के तहत {The Child Labour (Prohibition and regulation)} (निषेध और विनियमन)14 साल से कम उम्र के बच्चो से काम करवाने वाले लोगों को अपराधी मन जाएगा।
  • Act of 2000 के तहत {The Juvenile Justice (Care and Protection)} (देखभाल और संरक्षण) of Children से अगर बच्चो से मज़दूरी करवाते हैं तो उन पर पूरी तरह से कार्यवाही की जाएगी |
  • Act, 2009 के माध्यम से {The Right of Children to Free and Compulsory education}6 साल से 14 साल के बच्चो को फ्री में शिक्षा दी जाएगी और गरीब,अंग हींन, बच्चो को 25 percent सीट मिलेगी।

इसको रोकथाम के उपाय (How to stop Child Labour)

bal majduri ko rokne ke upay in hindi में नीचे दिए गए हैं।

  1. सबसे पहले व्यक्ति को अपनी सोच बदलनी पड़ेगी।
  2. पास के पुलिस स्टेशन में 14 साल की कम उम्र से काम करते बच्चो को देखकर खबर करनी चाहिए।
  3. शिक्षा से सम्बंधित सरकार द्वारा बनाई गई योजनायों के अनुसार अपने बच्चो को पढ़ने भेजना चाहिए।
  4. फैक्ट्री(Factories) में बाल श्रम को प्रतिबंद के लिए रोकथाम  करना चाहिए।
  5. बाल श्रम से जुड़ी सभी चीजों  को त्यागना चाहिए।
  6. गरीब परिवार की सहायता करनी चाहिए।

उपसंहार (Conclusion)

हमारे देश के लिए एक गंभीर समस्या है बाल मज़दूरी ,अगर जल्द ही आने वाले समय में इसके उपाय नहीं किया गया तो हमारे देश के development में परेशानी खड़ी करेगा।जिन बच्चों को बचपन में हँसना,खेलना और पढ़ाई चाहिए वह बच्चे कठिन परिश्रम करते हुए दिखते हैं जिससे भारत देश का भविष्य पूरी तरह से बेकार ऑर खराब हो रहा हैं, इसलिए हमें आज से ही बाल श्रम के against आवाज़ उठानी होगी और अगर कोई भी कोई बच्चा बाल मज़दूरी करते हुए पाता है तो उसकी शिकायत nearby Police Station में करनी होगी।
इसको खत्म करना केवल सरकार का ही नहीं,हमारा भी कर्तव्य है।
यह एक बहुत बड़ी सामाजिक samasya है ऑर सभी को इसके खिलाफ जल्द-से-जल्द खत्म करने के लिए आवाज उठानी चाहिए। अगर जल्द ही इस प्रॉब्लेम का कोई सोल्यूशंस नहीं निकला तो यह पूरे देश के भविष्य को दीमक के जेसे नष्ट कर देगी। जेसे की बच्चे हमारे जीवन के अनमोल उपहारों मे से एक हैं ऑर उनका भविष्य हमारे हाथों में हैं।यह हुमारे सुनहरे भविष्य की पहचान हैं ऑर अगर उन्हीं का बचपन अंधेरे में बीतेगा तो हम एक अच्छे भारत की कल्पना कैसे कर सकते है।अगर हमें न्यू भारत का निर्माण करना है तो बाल मज़दूरी को पूरी तरह से मिटाना होगा।

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Copyright © 2018 Hindiguides.in

To Top