Festival (त्यौहार)

Makar Sankranti 2020 – मकर संक्रांति कब है

Makar Sankranti kab hai

मकर संक्रांति का पर्व पूरे भारत में अलग-अलग नाम व परम्पराओं से मनाया जाता है | यह पर्व हर साल 14 जनवरी को मनाया जाता है | मकर संक्रांति का पर्व सूर्य के उत्तरायण होने पर मनाया जाता है इसलिए लोग गंगा स्नान कर सूर्य देव की पूजा करते हैं | इस दिन लोग गंगा स्नान करते हैं और दान भी करते हैं इसलिए अलग-अलग राज्यों में गंगा नदी के किनारे मेले का आयोजन भी होता है | उत्तर प्रदेश में इसे खिचड़ी का पर्व भी कहा जाता है इसलिए इस दिन लोग चावल और दाल की खिचड़ी खाते हैं व दान भी करते हैं |

मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर बहुत से स्कूल या विश्विद्यालयों में मकर संक्रांति पर निबंध कम्पटीशन भी होते है|

मकर संक्रांति के बारे में | Makar sankranti in hindi

मकर संक्रांति कब है:  बहुत से लोग यह जानना चाहते है मकर संक्रांति कब है  | मकर संक्राति 15 जनवरी बुधवार को है |

मकर संक्रांति हिन्दू धर्म के लोगों का एक मुख्य त्यौहार है|मकर संक्राति का त्यौहार सम्पूर्ण भारत में अलग-अलग राज्यों में विभिन्न तरीकों व नाम से मनाया जाता है | यह पर्व हर साल 14 जनवरी को मनाया जाता है | मकर संक्रांति का पर्व सूर्य के उत्तरायण होने पर मनाया जाता है इसलिए लोग गंगा स्नान कर सूर्य देव की पूजा करते हैं | इस दिन लोग गंगा स्नान करते हैं और दान भी करते हैं इसलिए अलग-अलग राज्यों में गंगा नदी के किनारे मेले का आयोजन भी होता है | उत्तर प्रदेश में इसे खिचड़ी का पर्व भी कहा जाता है इसलिए इस दिन लोग चावल और दाल की खिचड़ी खाते हैं व दान भी करते हैं | इस दिन लोग प्रातः जल्दी उठाकर गंगा स्नान को जाते हैं और सूर्यदेव को अर्ग देते हैं, इसके बाद दान आदि किये जाते हैं |

Makar sankranti essay in hindi

आप सभी को मकर संक्रांति के शुभकामनाए|

मकर संक्रांति का त्योहार हिन्दू धर्म के प्रमुख त्योहारों में शामिल है, जो सूर्य के उत्तरायन होने पर मनाया जाता है। इस पर्व की विशेष बात यह है कि यह अन्य त्योहारों की तरह अलग-अलग तारीखों पर नहीं, बल्कि हर साल 14 जनवरी को ही मनाया जाता है, जब सूर्य उत्तरायन होकर मकर रेखा से गुजरता है।

ज्योतिष की दृष्ट‍ि से देखें तो इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करता है और सूर्य के उत्तरायण की गति प्रारंभ होती है। भारत के अलग-अलग क्षेत्रों में मकर संक्रांति के पर्व को अलग-अलग तरह से मनाया जाता है। आंध्रप्रदेश, केरल और कर्नाटक में इसे संक्रांति कहा जाता है और तमिलनाडु में इसे पोंगल पर्व के रूप में मनाया जाता है। पंजाब और हरियाणा में इस समय नई फसल का स्वागत किया जाता है और लोहड़ी पर्व मनाया जाता है, वहीं असम में बिहू के रूप में इस पर्व को उल्लास के साथ मनाया जाता है। हर प्रांत में इसका नाम और मनाने का तरीका अलग-अलग होता है।

अलग-अलग मान्यताओं के अनुसार इस पर्व के पकवान भी अलग-अलग होते हैं, लेकिन दाल और चावल की खिचड़ी इस पर्व की प्रमुख पहचान बन चुकी है। विशेष रूप से गुड़ और घी के साथ खिचड़ी खाने का महत्व है। इसेक अलावा तिल और गुड़ का भी मकर संक्राति पर बेहद महत्व है। इस दिन सुबह जल्दी उठकर तिल का उबटन कर स्नान किया जाता है। इसके अलावा तिल और गुड़ के लड्डू एवं अन्य व्यंजन भी बनाए जाते हैं। इस समय सुहागन महिलाएं सुहाग की सामग्री का आदान प्रदान भी करती हैं। ऐसा माना जाता है कि इससे उनके पति की आयु लंबी होती है।

मकर संक्रांति को स्नान और दान का पर्व भी कहा जाता है। इस दिन तीर्थों एवं पवित्र नदियों में स्नान का बेहद महत्व है साथ ही तिल, गुड़, खिचड़ी, फल एवं राशि अनुसार दान करने पर पुण्य की प्राप्ति होती है। ऐसा भी माना जाता है कि इस दिन किए गए दान से सूर्य देवत प्रसन्न होते हैं।

इन सभी मान्यताओं के अलावा मकर संक्रांति पर्व एक उत्साह और भी जुड़ा है। इस दिन पतंग उड़ाने का भी विशेष महत्व होता है और लोग बेहद आनंद और उल्लास के साथ पतंगबाजी करते हैं। इस दिन कई स्थानों पर पतंगबाजी के बड़े-बड़े आयोजन भी किए जाते हैं।

Makar sankranti in marathi information | मकर संक्रांति शुभेच्छा

मकर संक्रांती हा हिंदू समाजाद्वारे मोठ्या आनंद आणि आनंदाने मोठ्या प्रमाणात साजरा केला जातो. 14 जानेवारीला प्रत्येक वर्षी हा उत्सव साजरा केला जातो, परंतु 15 जानेवारीला सौर चक्रावरही याचा उत्सव साजरा केला जातो. लोक हिंदू पौराणिक कथेनुसार नद्यामध्ये पवित्र डुबकी घेऊन सूर्यप्रकाशात प्रार्थना करतात.

असे मानले जाते की मकर संक्रांतीवर गंगा नदीत स्नान केल्याने आपले सर्व पाप धुण्यास आणि मोक्ष मिळवण्यात मदत होते. तिल आणि गूळ बनवलेले मिठाई करून लोक ऋतूच्या उत्सवांचा आनंद घेतात. लोक, विशेषत: मुलांनो, त्यांच्या मित्रांसह आणि कौटुंबिक सदस्यांसह पतंग उडवून या प्रसंगचा आनंद घेतात.

आनंदी आणि आशीर्वादित मकर संक्रांतीसाठी तुमच्या आणि
तुमच्या कुटुंबियांना माझ्या मनापासून शुभेच्छा पाठवत आहे

मकर संक्रांतीचा सण आपल्या आयुष्यात खूप आनंद,
आनंद आणि चांगला वेळ आणेल अशी आशा आहे.

Makar sankrant sms in hindi


तिल हम हैं और गुड आप,मिठाई हम हैं और मिठास आप,साल के पहले त्यौहार से हो रही है शुरुवात,आपको हमारी तरफ से ढेर सारी मुराद
Click To Tweet


ख़ुशी का है यह मौसम,गुड और तिल का है यह मौसम,पतंग उड़ाने का है यह मौसम,शांति और समृद्धि का है यह मौसम 2019 मकर संक्रांति की शुभकामनायें
Click To Tweet

Makar sankranti hd images

Makar sankranti hd images1
Makar sankranti hd images2

Makar sankranti poem | मकर संक्रांति पर कविता

आओ हम सब मकर संक्रांति मनाये
तिल की लड्डू सब मिलकर खाये।
घर में हम सब खुशियाँ फैलाये
पतंगे हम खूब उड़ाये।
सब मिलकर हम नाचे गाये
मौज मस्ती खूब उड़ाये।
आओ हम सब मकर संक्रांति मनाये
तिल की लड्डू सब मिलकर खाये।
गली मोहल्ले मे बांटे सारे ।
सब मिलकर कर खाये प्यारे
गंगा में डूबकी लगाये ।
शरीर अपना स्वस्थ बनाये ।
आओ हम सब मकर संक्रांति मनाये
तिल की लड्डू सब मिलकर खाये।।

Makar sankranti shayari | मकर संक्रांति शायरी

सभी लोगों को मिले सन्मति,
आज है मकर संक्रांति,
मित्रों उठ गया है दिनकर,
चलो उडाये पतंग मिलकर

एक सुबह नयी सी कुछ धुप,
अब नहीं रहेंगे हम साब चुप,
करेंगे पूजा पाठ,
खायेंगे गुड, तिल लड्डू साथ

ऊपर हमने आपको makar sankranti in marathi, मकर संक्रांति मराठी माहिती, मकर संक्रांति क्यों मनाया जाता है, makar sankranti in english, 5 sentences on makar sankranti in hindi आदि की जानकारी दी है जिसे आप अपने दोस्तों, रिश्तेदारों व सोशल मीडिया के साथ शेयर कर सकते हैं |

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Copyright © 2018 Hindiguides.in

To Top