Essay (Nibandh)

सावन सोमवार पर निबंध – Sawan Somvar Bhashan in Hindi & Marathi – Sawan somvar Nibandh

श्रावण मास या श्रावण का महीना हिंदू धर्म में एक लोकप्रिय अवधारणा है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, कोई कह सकता है कि यह वह समय है जब मानसून भारत के निकट आता है। हालांकि, धार्मिक कोण से यह वर्ष का समय है जब भगवान शिव अत्यधिक पूजनीय हैं। पूरी अवधि उसी को समर्पित है। इसके पीछे का कारण प्राचीन काल की प्रसिद्ध कथा – in समुद्र मंथन ’या समुद्र मंथन की कहानी है। कहा जाता है कि जब समुद्र मंथन किया गया था, तो उसमें से बहुत सी चीजें बाहर निकली थीं, जो ‘देवता’ और ‘असुर’ के बीच विभाजित थीं। हालांकि, जब जहर निकला, तो कोई भी इसे कब्जे में लेने के लिए तैयार नहीं था। तब यह था कि भगवान शिव, त्रिदेवों के देवता, जो पूरे मंथन से निकले थे, का जहर खा गए।

Sawan Somvar ESSAY IN HINDI

श्रावण माह में भी सोमवार का विशेष महत्व है। वार प्रवृत्ति के अनुसार सोमवार भी हिमांषु अर्थात चन्द्रमा का ही दिन है। स्थूल रूप में अभिलक्षणा विधि से भी यदि देखा जाए तो चन्द्रमा की पूजा भी स्वयं भगवान शिव को स्वतः ही प्राप्त हो जाती है क्योंकि चन्द्रमा का निवास भी भुजंग भूषण भगवान शिव का सिर ही है।

रौद्र रूप धारी देवाधिदेव महादेव भस्माच्छादित देह वाले भूतभावन भगवान शिव जो तप-जप तथा पूजा आदि से प्रसन्न होकर भस्मासुर को ऐसा वरदान दे सकते हैं कि वह उन्हीं के लिए प्राणघातक बन गया, वह प्रसन्न होकर किसको क्या नहीं दे सकते हैं?

असुर कुलोत्पन्न कुछ यवनाचारी कहते हुए नजर आते हैं कि जो स्वयं भिखमंगा है वह दूसरों को क्या दे सकता है? किन्तु संभवतः उसे या उन्हें यह नहीं मालूम कि किसी भी देहधारी का जीवन यदि है तो वह उन्हीं दयालु शिव की दया के कारण है। अन्यथा समुद्र से निकला हलाहल पता नहीं कब का शरीरधारियों को जलाकर भस्म कर देता किन्तु दया निधान शिव ने उस अति उग्र विष को अपने कण्ठ में धारण कर समस्त जीव समुदाय की रक्षा की। उग्र आतप वाले अत्यंत भयंकर विष को अपने कण्ठ में धारण करके समस्त जगत की रक्षा के लिए उस विष को लेकर हिमाच्छादित हिमालय की पर्वत श्रृंखला में अपने निवास स्थान कैलाश को चले गए।

हलाहल विष से संयुक्त साक्षात मृत्यु स्वरूप भगवान शिव यदि समस्त जगत को जीवन प्रदान कर सकते हैं। यहाँ तक कि अपने जीवन तक को दाँव पर लगा सकते हैं तो उनके लिए और क्या अदेय ही रह जाता है? सांसारिक प्राणियों को इस विष का जरा भी आतप न पहुँचे इसको ध्यान में रखते हुए वे स्वयं बर्फीली चोटियों पर निवास करते हैं। विष की उग्रता को कम करने के लिए साथ में अन्य उपकारार्थ अपने सिर पर शीतल अमृतमयी जल किन्तु उग्रधारा वाली नदी गंगा को धारण कर रखा है।

उस विष की उग्रता को कम करने के लिए अत्यंत ठंडी तासीर वाले हिमांशु अर्थात चन्द्रमा को धारण कर रखा है। और श्रावण मास आते-आते प्रचण्ड रश्मि-पुंज युक्त सूर्य ( वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़ में किरणें उग्र आतपयुक्त होती हैं।) को भी अपने आगोश में शीतलता प्रदान करने लगते हैं। भगवान सूर्य और शिव की एकात्मकता का बहुत ही अच्छा निरूपण शिव पुराण की वायवीय संहिता में किया गया है। यथा-

दिवाकरो महेशस्यमूर्तिर्दीप्त सुमण्डलः। 
निर्गुणो गुणसंकीर्णस्तथैव गुणकेवलः। 
अविकारात्मकष्चाद्य एकः सामान्यविक्रियः। 
असाधारणकर्मा च सृष्टिस्थितिलयक्रमात्‌। एवं त्रिधा चतुर्द्धा च विभक्तः पंचधा पुनः। 
चतुर्थावरणे षम्भोः पूजिताष्चनुगैः सह। शिवप्रियः शिवासक्तः शिवपादार्चने रतः। 
सत्कृत्य शिवयोराज्ञां स मे दिषतु मंगलम्‌।’

Sawan ke mahine par nibandh

हिन्दू धर्म, अनेक मान्यताओं और विभिन्न प्रकार के संकलन से बना है। हिन्दू धर्म के अनुयायी इस बात से अच्छी तरह वाकिफ़ रहते हैं कि हिन्दू जीवनशैली में क्या चीज अनिवार्य है और क्या पूरी तरह वर्जित। यही वजह है कि अधिकांश हिंदू परिवारों में नीति-नियमों का भरपूर पालन किया जाता है।

हालांकि मॉडर्न होती जीवनशैली और बाहरी चकाचौंध के चक्कर में लोग अपने वास्तविक मूल्यों को दरकिनार कर चुके हैं। उदाहरण के लिए नवरात्रि को ही ले लीजिए, शायद ही कोई ऐसा घर हो जहां नवरात्रि के दिनों में मांस, मदिरा का सेवन किया जाता है। ऐसा ही कुछ सावन में भी देखा जाता है।

हिन्दू परिवारों में सावन को बेहद पवित्र और महत्वपूर्ण महीने के तौर पर देखा जाता है। इसकी महत्ता इसी बात से समझी जा सकती है कि सावन के माह में मांसाहार पूरी तरह त्याज्य होता है और शाकाहार को ही उपयुक्त माना गया है। इसके अलावा मदिरा पान भी निषेध माना गया है। लेकिन ऐसा क्या है जो सावन के माह को इतना विशिष्ट बनाता है?

चैत्र के पांचवे महीने को सावन का महीना कहा जाता है। इस माह के सभी दिन धार्मिक दृष्टिकोण से बहुत महत्व रखते हैं। गहराई से समझा जाए तो इस माह का प्रत्येक दिन एक त्यौहार की तरह मनाया जाता है।

सावन को साल का सबसे पवित्र महीना माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस माह का प्रत्येक दिन किसी भी देवी-देवता की आराधना करने के लिए सबसे उपयुक्त होता है, विशेष तौर पर इस माह में भगवान शिव, माता पार्वती और श्रीकृष्ण की आराधना की जाती है।

ऐसा कहा जाता है कि जिस तरह इस माह में कीट-पतंगे अपनी सक्रियता बढ़ा देते हैं, उसी तरह मनुष्य को भी पूजा-पाठ में अपनी सक्रियता को बढ़ा देनी चाहिए। यह महीना बारिशों का होता है, जिससे कि पानी का जल स्तर बढ़ जाता है। मूसलाधार बारिश नुकसान पहुंचा सकती है इसलिए शिव पर जल चढ़ाकर उन्हें शांत किया जाता है।

महाराष्ट्र में जल स्तर को सामान्य रखने की एक अनोखी प्रथा विद्यमान है। वे सावन के महीने में समुद्र में जाकर नारियल अर्पण करते हैं ताकि किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं पहुंच पाए। एक पौराणिक कथा धार्मिक हिन्दू दस्तावेजों में मौजूद है जिसके अनुसार समुद्र मंथन के दौरान निकले विष का पान करने से भगवान शिव के शरीर का तापमान तेज गति से बढ़ने लगा था।

ऐसे में शरीर को शीतल रखने के लिए भोलेनाथ ने चंद्रमा को अपने सिर पर धारण किया और अन्य देव उन पर जल की वर्षा करने लगे। यहां तक कि इन्द्र देव भी यह चाहते थे कि भगवान शिव के शरीर का तापमान कम हो जाए इसलिए उन्होंने अपने तेज से मूसलाधार बारिश कर दी। इस वजह से सावन के महीने में अत्याधिक बारिश होती है, जिससे भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं।

भगवान शिव के भक्त कावड़ ले जाकर गंगा का पानी शिव की प्रतिमा पर अर्पित कर उन्हें प्रसन्न करने का प्रयत्न करते हैं। इसके अलावा सावन माह के प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव पर जल चढ़ाना शुभ और फलदायी माना जाता है।

सावन के महीने में व्रत रखने का भी विशेष महत्व दर्शाया गया है। ऐसी मान्यता है कि कुंवारी लड़कियां अगर इस पूरे महीने व्रत रखती हैं तो उन्हें उनकी पसंद का जीवनसाथी मिलता है। इसके पीछे भी एक कथा मौजूद है जो शिव और पार्वती से जुड़ी है।

पिता दक्ष द्वारा अपने पति का अपमान होता देख सती ने आत्मदाह कर लिया था। पार्वती के रूप में सती ने पुनर्जन्म लिया और शिव को अपना बनाने के लिए उन्होंने सावन के सभी सोमवार का व्रत रखा। फलस्वरूप उन्हें भगवान शिव पति रूप में मिले।

यह सब तो पौराणिक मान्यताएं हैं, जिनका सीधा संबंध धार्मिक कथाओं से है। परंतु सावन के महीने में मांसाहार से क्यों परहेज किया जाता है इसके पीछे का कारण धार्मिक के साथ-साथ वैज्ञानिक भी है।

दरअसल सावन के पूरे माह में भरपूर बारिश होती है जिससे कि कीड़े-मकोड़े सक्रिय हो जाते हैं। इसके अलावा इस मौसम में उनका प्रजनन भी अधिक मात्रा में होता है। इसलिए बाहर के खाने का सेवन सही नहीं माना जाता।

पशु-पक्षी, जिस माहौल में रहते हैं वहां साफ-सफाई का विशेष ध्यान नहीं रखा जाता, जिससे कि उनके भी संक्रमित होने की संभावना बढ़ती है। इसलिए मांसाहार को वर्जित कहा गया है।

आयुर्वेद में भी इस बात का जिक्र है कि सावन के महीने में मांस के संक्रमित होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है, इसलिए इस पूरे माह मांस-मछली या अन्य मांसाहार के सेवन को निषेध कहा गया है।

सावन के महीने को प्रेम और प्रजनन का महीना कहा जाता है। इस माह में मछलियां और पशु, पक्षी सभी में गर्भाधान की संभावना होती है। किसी भी गर्भवती मादा की हत्या हिन्दू धर्म में एक पाप माना गया है इसलिए सावन के महीने में जीव को मारकर उसका सेवन नहीं किया जाता।

Essay on sawan month in hindi

Sawan ke mahine par nibandh

हिंदू धर्म में, सप्ताह के प्रत्येक दिन को एक विशेष देवता या भगवान को समर्पित किया जाता है – इसी तरह, भगवान शिव के सम्मान में सोमवार की पूजा की जाती है। श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित है, और श्रवण (सावन) मास के दौरान श्रावण सोमवर या सावन सोमवर व्रत के दौरान सोमवर व्रत का पालन करने वाले भक्तों को कहा जाता है कि उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। 10 जुलाई से शुरू हुआ श्रावण 2017 उत्तर भारतीय राज्यों के लिए 7 अगस्त तक जारी रहेगा जो पूर्णिमांत कैलेंडर का पालन करते हैं। जबकि यह 24 जुलाई से शुरू होता है और 21 अगस्त तक दक्षिण भारतीय राज्यों में रहता है, जो अमावसंत कैलेंडर का पालन करते हैं। कई भगवान शिव भक्त पवित्र सोलह सोमवार व्रत भी मनाते हैं या सावन महीने के पहले सोमवर से सोलह सोमवार को उपवास करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि भगवान शिव आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं। विशेष रूप से अविवाहित महिलाओं को उत्तम पति की लालसा रखने वाले भक्तों को भगवान शिव के व्रत का पालन करते हुए श्रवण सोमवर व्रत विधान का पालन करना चाहिए।

श्रावण के दौरान श्रावण सोमवर व्रत या सोमवार का उपवास भगवान शिव – विनाश और परिवर्तन के देवता के सम्मान में रखा जाता है। हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक, उन्हें कई नामों और अवतारों से जाना जाता है। भक्त महादेव को आदियोगी शिव के रूप में भगवान शिव की पूजा करते हैं जो ब्रह्मा और विष्णु के साथ हिंदू त्रिमूर्ति के भीतर हैं। यह व्यापक रूप से माना जाता है कि अगर भगवान शिव भेदभाव नहीं करते हैं और जल्दी से किसी को भी शुद्ध मन से अपना आशीर्वाद मांगते हैं। एक तपस्वी जीवन का नेतृत्व करते हुए, शिव या महादेव भौतिकवाद से ऊपर हैं और आसानी से सरल प्रसाद और पूजा विधी से प्रसन्न हो जाते हैं। यहाँ सरल व्रत नियम या श्रवण सोमवर व्रत विधान हैं जो प्रत्येक भगवान शिव भक्त को पवित्र व्रत का पालन करते हुए करना चाहिए।

सावन सोमवार पर भाषण

ऊपर हमने आपको सावन सोमवार 2019, सावन का पहला सोमवार 2019, सावन का महीना कब है 2019, सावन सोमवार 2019 date, सावन कब से शुरू है 2019, 2019 में सावन कब है, सावन 2019, 2019 में सावन कब से है, sawan somvar 2019, sawan somvar vrat 2019, sawan somvar vrat 2019 date, pehla sawan somvar, sawan somvar 2018, sawan somvar 2019 dates, sawan ka pehla somwar 2019, sawan kab se shuru hai 2019, आदि की जानकारी दी है|

In Hinduism, each day of the week is dedicated to a particular deity or god – likewise, Monday is worshipped in honour of Lord Shiva. Shravan month is dedicated to Lord Shiva, and devotees who observe the Somvar Vrat during the Shravan (Sawan) maas known as Shravan Somwar or Sawan Somwar Vrats are said to have all their wishes fulfilled. Shravan 2017 began on July 10 will continue till August 7 for North Indian states who follow Purnimant calendar. While it starts from July 24 and lasts until August 21 for South Indian states, who follow Amavasyant calendar. Many Lord Shiva devotees also observe the holy Solah Somvar Vrat or fast on sixteen Mondays starting from first Somwar of Sawan month. It is said that Lord Shiva is easily pleased. Devotees especially unmarried women longing for perfect husband must follow Shravan Somwar Vrat Vidhi while observing the fast for Lord Shiva.

Shravan Somwar Vrat or Monday fasting during Shravan is kept in honour of Lord Shiva – the God of Destruction and Transformation. One of the principal deities in Hinduism, he is known by several names and avatars. Devotees worship Lord Shiva as the Supreme Being to Mahadeva to Adiyogi Shiva to being within the Hindu trinity along with Brahma and Vishnu. It is widely believed that if Lord Shiva does not discriminate and quickly grants wishes to anyone seeking his blessings with a pure heart. Leading an ascetic life, Shiva or Mahadev is above materialism and easily gets pleased with simple offerings and puja vidhi. Here are simple fasting rules or Shravan Somwar Vrat Vidhi every Lord Shiva devotee must follow while observing the holy fast.

सावन सोमवार निबंध मराठी

हिंदू धर्मात, आठवड्याचे प्रत्येक दिवस एका विशिष्ट देवतेला किंवा देवतेला समर्पित असते – त्याचप्रमाणे सोमवारी भगवान शिव यांच्या सन्मानार्थ पूजा केली जाते. श्रवण महिना भगवान शिव यांना समर्पित आहे आणि श्रावण सोमवार किंवा सावन सोमवार व्रत या नावाने ओळखल्या जाणार्या श्रवण (सावन) दरम्यान सोमवार व्रत पाळणार्या भक्तांना त्यांच्या सर्व इच्छा पूर्ण झाल्या आहेत. 10 जुलैपासून सुरू होणारी श्रावण 2017 सात महिन्यांपर्यंत उत्तर भारतीय राज्यांकरिता पूर्णनीम कॅलेंडरची सुरूवात करेल. ते 24 जुलैपासून सुरू होते आणि 21 ऑगस्ट पर्यंत दक्षिण भारतीय राज्यांत राहतात, ते अमवस्यित कॅलेंडरचे अनुसरण करतात. अनेक भगवान शिव भक्त देखील सोल महिन्याच्या पहिल्या सोमवारपासून सोलह सोमवार व्रत किंवा सोळा सोमवारी उपवास करतात. असे म्हटले जाते की भगवान शिव सहजपणे प्रसन्न होतात. विशेषतः अविवाहित स्त्रियांना परिपूर्ण पतीसाठी उत्सुक असलेल्या श्रद्धावानांनी शिव सोमवार व्रत विधी पाळणे आवश्यक आहे.

श्रवण सोमवार व्रत किंवा सोमवारी उपवास भगवान शिव – विनाश आणि परिवर्तन देव यांच्या सन्मानार्थ ठेवले जाते. हिंदू धर्मातील प्रमुख देवतांपैकी एक, त्याला अनेक नावे आणि अवतार म्हणतात. भक्त, ब्रह्मा आणि विष्णु यांच्याबरोबर हिंदू ट्रिनिटीमध्ये रहाण्यासाठी आदियोगी शिव यांना महादेवाचे महादेव म्हणून सर्वोच्च शिव म्हणून पूजा करतात. हे सर्वसामान्यपणे मानले जाते की जर भगवान शिव भेदभाव करीत नाहीत आणि शुद्ध हृदयाने कोणालाही आशीर्वाद मिळत असतील तर त्वरित त्याची इच्छा आहे. शिव किंवा महादेव हे भौतिकवादापेक्षा श्रेष्ठ आहेत आणि सहज अर्पण व पूजेच्या विधीशी सहज आनंदित होतात. येथे सामान्य उपवास नियम आहेत किंवा श्रवण सोमवार व्रत विधान, पवित्र उपवास पाळताना प्रत्येक शिव भक्ताने अनुसरण केले पाहिजे.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Copyright © 2018 Hindiguides.in

To Top