Hindi Lekh

विश्व पर्यटन दिवस भाषण – World Tourism Day Speech in Hindi, English & Marathi – TBR

World Tourism Day Speech in Hindi

विश्व पर्यटन दिवस 2019 शुक्रवार 27 सितंबर को मनाया जाएगा। यह दिवस हर साल दुनिया भर में लोगों को जागरूक करने के लिए विशेष थीम रखने के लिए मनाया जाता है। 2011 के आयोजन समारोह का विषय टूरिज्म लिंकिंग कल्चर था और 2012 का पर्यटन और ऊर्जावान स्थिरता था। वर्ष 2013 का विषय हो सकता है कि एक उज्जवल ऊर्जा भविष्य में पर्यटन की भूमिका पर प्रकाश डाला जाएगा। पर्यटन के महत्व के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष 27 सितंबर को दिन मनाया जाता है।

विश्व पर्यटन दिवस पर स्पीच

आज के समय में हर व्यक्ति किसी ना किसी परेशानी से घिरा हुआ है,पैसे और चकाचौंध के बीच ऐसा लगता है मानो खुशी तो कहीं गुम हो गई है। बावजूद इन सबके हर व्यक्ति को अपने जीवन में कुछ समय ऐसा जरूर निकालना चाहिए जिससे वो दूसरे देश या जगह का पर्यटन करे और खुशियों को फिर से गले लगा सके। इसके लिए विश्व पर्यटन दिवस सबसे अच्छा मौका है। हर साल 27 सितम्बर को विश्व पर्यटन दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर आइए नजर डालते हैं पर्यटन दिवस पर…….

पर्यटन सिर्फ हमारे जीवन में खुशियों के पल को वापस लाने में ही मदद नहीं करता है बल्कि यह किसी भी देश के सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक और आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आज के समय में जहां हर देश की पहली जरूरत अर्थव्यवस्था को मजबूत करना है वहीं आज पर्यटन के कारण कई देशों की अर्थव्यवस्था पर्यटन उद्योग के इर्द-गिर्द घूमती है। यूरोपीय देश, तटीय अफ्रीकी देश, पूर्वी एशियाई देश, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया आदि ऐसे देश हैं जहां पर पर्यटन उद्योग से प्राप्त आय वहां की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करता है।

पर्यटन का महत्व और पर्यटन की लोकप्रियता को देखते हुए ही संयुक्त राष्ट्र संघ ने 1980 से 27 सितंबर को विश्व पर्यटन दिवस के तौर पर मनाने का निर्णय लिया। विश्व पर्यटन दिवस के लिए 27 सितंबर का दिन चुना गया क्योंकि इसी दिन 1970 में विश्व पर्यटन संगठन का संविधान स्वीकार किया गया था। पर्यटन दिवस की खासियत यह है कि हर साल लोगों को विभिन्न तरीकों से जागरुक करने के लिए पर्यटन दिवस पर विभिन्न तरीके की थीम रखी जाती है।

यूं तो पर्यटन दुनियाभर के लोगों का पसंदीदा शगल रहा है,लेकिन पर्यटन में भी जल आधारित पर्यटन का अपना विशेष महत्व है। नदियों, झीलों,जल प्रपातों के किनारे दुनियाभर में कई पर्यटन स्थलों का विकास हुआ है और भारत भी इसका अपवाद नहीं है। विश्व पर्यटन दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य पर्यटन और उसके सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक व आर्थिक मूल्यों के प्रति विश्व समुदाय को जागरूक करना है।

भारत जैसे देशों के लिए पर्यटन का खास महत्व होता है। भारत जैसे देश की पुरातात्विक विरासत या संस्कृति केवल दार्शनिक स्थल के लिए नहीं होती है इसे राजस्व प्राप्ति का भी स्रोत माना जाता है और साथ ही पर्यटन क्षेत्रों से कई लोगों की रोजी-रोटी भी जुड़ी होती है। आज भारत जैसे देशों को देखकर ही विश्व के लगभग सभी देशों में पुरानी और ऐतिहासिक इमारतों का संरक्षण दिया जाने लगा है।

भारत असंख्‍य अनुभवों और मोहक स्‍थलों का देश है। चाहे भव्‍य स्‍मारक हों,प्राचीन मंदिर या मकबरे हों,इसके चमकीले रंगों और समृद्ध सांस्‍कृतिक विरासत का प्रौद्योगिकी से चलने वाले इसके वर्तमान से अटूट संबंध है। केरल, शिमला, गोवा, आगरा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, मथुरा, काशी जैसी जगहें तो अपने विदेशी पर्यटकों के लिए हमेशा चर्चा में रहती हैं। भारत में अपने लोगों के साथ लाखों विदेशी लोग प्रतिवर्ष भारत घूमने आते हैं। भारत में पर्यटन की उपयुक्‍त क्षमता है। यहां सभी प्रकार के पर्यटकों को चाहे वे साहसिक यात्रा पर हों, सांस्‍कृतिक यात्रा पर या वह तीर्थयात्रा करने आए हों या खूबसूरत समुद्री-तटों की यात्रा पर निकले हों, सबके लिए खूबसूरत जगहें हैं। दिल्ली, मुंबई, राजस्थान, मध्यप्रदेश जैसे राज्यों में तो लोगों को घूमते-घूमते महीना बीत जाता है।

World Tourism Day SPEECH IN ENGLISH

World Tourism Day Speech in Hindi

We must better understand the growing economic, societal and environmental impacts of technology and innovation in tourism if our sector is to sustain continuous and inclusive growth in line with the Sustainable Development Goals of the United Nations.

“Tourism and the Digital Transformation” is the theme of this year’s World Tourism Day (WTD).We know that a digitally advanced tourism sector can improve entrepreneurship, inclusion, local community empowerment and efficient resource management, amongst other important development objectives. This year’s WTD will help us to further explore the opportunities provided to tourism by technological advances including big data, artificial intelligence and digital platforms.

In June 2019, in anticipation of WTD and to give visibility to innovative ideas capable of revolutionizing the way we travel and enjoy tourism, the World Tourism Organization(UNWTO) and Globalia launched the 1st UNWTO Tourism Startup Competition. The startups with the best projects will be announced as semi-finalists during the WTD official celebration in Budapest.

World Tourism Day 2019 is a unique opportunity to raise awareness on the potential contribution of digital technologies to sustainable tourism development, while providing a platform for investment, partnerships and collaboration towards a more responsible and inclusive tourism sector.

World Tourism Day SPEECH IN TAMIL

ஒவ்வொரு ஆண்டும் செப்டம்பர் 27 அன்று உலக சுற்றுலா தினம் கொண்டாடப்படுகிறது. இது 1970 ல் ஐக்கிய நாடுகளின் உலக சுற்றுலா அமைப்பின் அடித்தள நாளில் கொண்டாடப்பட்டது. இது 1980 இல் கொண்டாடத் தொடங்கியது.

சுற்றுலா என்பது ஓய்வு, சர்சபேட் பயணம் மற்றும் வணிகத்தை குறிக்கிறது. பயணிகளுக்கும் புரவலர்களுக்கும் இடையிலான நல்லிணக்கத்தின் முக்கிய நூல் இதுவாகும். இது வெவ்வேறு கலாச்சாரங்களைச் சேர்ந்தவர்களுக்கிடையேயான தொடர்பை ஊக்குவிக்கிறது, இதனால் இது சகிப்புத்தன்மையையும் ஊக்குவிக்கிறது. அமைதியான சகவாழ்வைத் தேடுவதில் சுற்றுலா உலகிற்கு ஒரு முக்கிய காரணியாக நிரூபிக்க முடியும் என்று ஐ.நா பொதுச்செயலாளர் பான் கீ மூன் சரியாகக் கூறியுள்ளார்.

சுற்றுலா படிப்படியாக அதிகரித்து வருகிறது. இது உலகளவில் வேகமாக வளர்ந்து வரும் பொருளாதார பிராந்தியங்களில் ஒன்றாக மாறியுள்ளது. இது உலகளாவிய வர்த்தகத்தில் முக்கிய பங்கு வகிக்கிறது, அத்துடன் வளரும் நாடுகளில் ஒரு முக்கிய வருமான ஆதாரமாக மாறியுள்ளது. வளரும் நாடுகளில் சுற்றுலா வருவாய் மற்றும் வேலைவாய்ப்புக்கான முக்கிய ஆதாரமாக மாறியுள்ளது. சுற்றுலா தினத்தின் முக்கிய நோக்கம் சுற்றுலாவைப் பற்றி மக்களுக்கு விழிப்புணர்வு ஏற்படுத்துவதும் அதன் கலாச்சார, அரசியல் மற்றும் பொருளாதார முக்கியத்துவத்தை எடுத்துக்காட்டுவதும் ஆகும். சுற்றுலாவின் எதிர்மறையான விளைவுகளிலிருந்து ஒரு நாட்டின் கலாச்சார பாரம்பரியத்தையும் சுற்றுச்சூழலையும் பாதுகாக்க ஐக்கிய நாடுகள் சபையின் உலக சுற்றுலா அமைப்பு உலக “சுற்றுலா நடத்தை விதிகளை” தயார் செய்துள்ளது. புதிய கலாச்சாரங்களைப் பற்றி மக்களுக்குத் தெரிந்த ஒரே வழி சுற்றுலா.

ஐக்கிய நாடுகளின் உலக சுற்றுலா அமைப்பு ஒவ்வொரு ஆண்டும் உலக சுற்றுலா தினத்திற்கான ஒரு நாட்டை ஹோஸ்ட் நாடாக அறிவித்து, ஒவ்வொரு ஆண்டும் ஒரு கருப்பொருளை அமைக்கிறது. எடுத்துக்காட்டாக, 1981 ஆம் ஆண்டில் தீம் “சுற்றுலா மற்றும் வாழ்க்கையின் சிறப்பு” மற்றும் 1996 இல் தீம் “சுற்றுலா – சகிப்புத்தன்மை மற்றும் அமைதியின் ஒரு நற்பண்பு”, 2010 இன் கருப்பொருள் “சுற்றுலா மற்றும் பல்லுயிர்” (2010), “சுற்றுலா கலாச்சாரங்களை இணைக்கும் சுற்றுலா”. “2011 இன் தீம்.

தலைப்பு:

சுற்றுலா மற்றும் நீர் (2013)

2013 ஆம் ஆண்டு உலக சுற்றுலா தினத்தன்று, ஐக்கிய நாடுகள் சபை மக்களுக்கும் சுற்றுலாத் துறையினருக்கும் தண்ணீரைப் பாதுகாக்கவும், தண்ணீரை நிர்வகிக்கவும் அறிவுறுத்தியது. இதனால் உலகம் முழுவதும் நீர் கிடைப்பதை உறுதி செய்ய முடியும். சுற்றுலாத்துறையில் நீர் நிர்வாகத்தின் முக்கிய பிரச்சினைகள் குறித்து சுற்றுலா சமூகம் கவனம் செலுத்த வேண்டும் என்று வலியுறுத்தப்பட்டது. மேலும் நீர் சுற்றுலா பகுதிகளில் நீர் பாதுகாப்பு நடவடிக்கைகளை ஊக்குவிக்க வேண்டும்.

சுற்றுலா மற்றும் சமூக மேம்பாடு (2014)

உலக சுற்றுலா தினம் 2014 இல் “சுற்றுலா மற்றும் சமூக மேம்பாடு” என்ற தலைப்பில் கொண்டாடப்பட்டது. அதன் புரவலன் நாடு மெக்சிகோவாக இருக்கும். சுற்றுலா மூலம் மக்களை மேம்படுத்துவதும், பிராந்திய சமூகங்களை மாற்றத்தின் செயல்பாட்டில் ஈடுபடுத்துவதும் இதன் முக்கிய நோக்கமாகும்.

மக்கள் என்ன செய்ய முடியும் / செய்ய முடியும்:

சுற்றுலாவை அதிகரிக்க, சிறப்பு தொகுப்புகள், கட்டணங்களைக் குறைத்தல், இலவச நுழைவு மற்றும் தள்ளுபடிகள் வழங்கப்படுகின்றன. சுற்றுலா தலங்கள், பகுதி, இலக்கு, உணவு, கலாச்சாரம் போன்றவை ஊக்குவிக்கப்படுகின்றன. புகைப்பட போட்டி மற்றும் பரிசு விநியோகம் போன்ற பல்வேறு வகையான போட்டிகள் ஏற்பாடு செய்யப்பட்டுள்ளன.

சுற்றுலா மூலம் கலாச்சார மற்றும் சுற்றுச்சூழல் விழிப்புணர்வை ஊக்குவிக்கும் வகையில் இந்த புகைப்படங்களைப் பகிர்ந்து கொள்ள பொது மக்கள் ஊக்குவிக்கப்படுகிறார்கள். வெவ்வேறு வாழ்க்கை முறைகளை அனுபவிக்க விரும்பும் நபர்களை சுற்றுலா நிரப்புகிறது, புதிய வகை உணவு மற்றும் பழக்கவழக்கங்களைக் கண்டுபிடிக்கும். கலாச்சாரம் இடங்களுக்கான பயணத்தையும் அதிக சுற்றுலாவையும் ஊக்குவிக்கிறது.

சுற்றுலாப் பயணிகள் தங்கள் ஹோட்டல் அறைகளின் விளக்குகளை அணைத்து மின் சாதனங்களின் செருகிகளை அகற்றுவதன் மூலம் பங்களிப்பு செய்யலாம். சுற்றுலா பயணிகள் ஆற்றலையும் நீரையும் சேமிப்பதன் மூலம் ஒரு சிறிய தொடக்கத்தை உருவாக்க முடியும். குளிக்கும் போது தண்ணீரை சேமிப்பது மற்றும் தினமும் துண்டுகள் மற்றும் பெட்ஷீட்களை மாற்றாததற்கான எடுத்துக்காட்டுகள்.

Speech on World Tourism Day in Hindi

विश्व पर्यटन दिवस हर साल 27 सितम्बर को मनाया जाता है। 1970 मे संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन के स्थापना दिवस पर यह मनाया जाता है। इसे मनाने की शुरूआत 1980 से हुई।

पर्यटन से तात्पर्य मौजमस्ती, सैरसपाटे और व्यापार के लिए यात्रा से है। यह यात्रियो और मेज़बान लोगो के बीच मेल-मिलाप प्रमुख सूत्र है। यह लोगो के बीच संपर्क को बढ़ावा देता है जो कि अलग-अलग संस्कृतियो के होते हैं इस प्रकार यह सहिष्णुता को भी बढ़ावा देता है। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने ठीक ही कहा है कि शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व खोज मे लगी दुनिया के लिए पर्यटन एक महत्वपूर्ण कारक साबित हो सकता है।

पर्यटन मे लगातार वृध्दि हो रही है।यह विश्वभर मे सबसे तेज़ी से बढ़ने वाले आर्थिक क्षैत्रो मे से एक क्षेत्र बन गया है। यह वैश्विक वाणिज्य मे प्रमुख भूमिका अदा कर रहा है साथ ही विकासशील देशो मे आय का प्रमुख स्त्रोत बन गया है। विकासशील देशो मे पर्यटन राजस्व एंव रोज़गार सृजन का प्रमुख स्त्रोत बन गया है। पर्यटन दिवस का प्रमुख उद्देश्य लोगो मे पर्यटन के बारे मे जागरूक बनाना तथा इसके सांस्कृतिक,राजनीतिक तथा आर्थिक महत्व को उजागर करना है। संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन ने विश्व “पर्यटन की आचार-संहिता” तैयार की है ताकि किसी देश की सांस्कृतिक विरासत और पर्यावरण को पर्यटन के नकारात्मक प्रभावो से बचाया जा सके। पर्यटन ही एकमात्र वो तरीका है जिसके ज़रिये लोग नई संस्कृतियो के बारे मे जानते हैं।

संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन प्रत्येक वर्ष विश्व पर्यटन दिवस के लिए एक देश को मेज़बान देश घोषित करता है साथ ही प्रत्येक वर्ष एक विषय तय करता है। उदाहरण के लिए 1981 का विषय था- “पर्यटन और जीवन की विशेषता” तथा 1996 मे “पर्य़टन- सहिष्णुता और शांति का एक गुण” विषय था, 2010 का विषय था- “पर्यटन एंव जैवविविधता” (2010), “संस्कृतियों को जोड़ता पर्यटन” 2011 का विषय था।

विषय :

पर्यटन और जल (2013)

2013 मे विश्व पर्यटन दिवस पर संयुक्त राष्ट्र ने लोगो एंव पर्यटन उधोग को जल संरक्षण एंव जल प्रबंधन की सलाह दी। ताकि विश्व भर मे पानी की उपलब्धता सुनिश्चित किया जा सके। यह आग्रह किया गया कि पर्यटक समुदाय को पर्यटन मे जल प्रबंधन के प्रमुख समस्याओं पर ध्यान देना चाहिये। तथा जल पर्यटन क्षेत्रो मे जल संरक्षण के उपायो को बढ़ावा देना चाहिये।

पर्यटन और सामुदायिक विकास (2014)

2014 मे विश्व पर्यटन दिवस “पर्यटन और सामुदायिक विकास” विषय के अंर्तगत मनाया गया। इसका मेज़बान देश मैक्सिको होगा। इसका मुख्य उद्देश्य पर्यटन के द्वारा लोगो को सशक्त बनाने तथा क्षेत्रीय समुदायो को बदलाव मे प्रक्रिया मे शामिल करना है।

लोग क्या करते हैं / क्या कर सकते हैं :

पर्यटन को बढ़ाने के लिए विशेष पैकेज , किरायों मे कमी, मुफ्त प्रवेश व छूट आदि दिये जाते हैं। पर्यटको के पसंदीदा स्थल,क्षेत्र,गंतव्य स्थल, भोजन, संस्कृति आदि को बढ़ावा दिया जाता है। अनेक प्रकार की प्रतियोगिताएं जैसे फोटो प्रतियोगिता तथा पुरूस्कार वितरण आदि का आयोजन किया जाता है।

आम लोगों को प्रोत्साहित किया जाता है कि वह इन तस्वीरों को शेयर करें ताकि सांस्कृतिक एंव पर्यावरीय जागरूकता को पर्यटन के ज़रिये बढ़ावा मिल सके। पर्यटन उन लोगो मे जोश भर देता है जो अलग-अलग जीवन पध्दतियो को अनुभव करना पसंद करते हैं,नये तरह के खाने और रीति-रिवाज को खोजते रहतें हैं। सांस्कृति स्थानो की यात्रा और अधिक पर्यटन के लिए प्रोत्साहित करती है।

पर्यटक अपने होटल के कमरों की लाईट बंद करके तथा विधुत उपकरणों के प्लग छुटाकर अपना एक योगदान दे सकतें हैं। ऊर्जा तथा जल बचाकर पर्य़टक एक छोटी सी शुरूआत कर सकते हैं। नहाने के दौरान जल बचाना और प्रतिदिन तौलिया व बैडशीट न बदलना इसके उदाहरण हैं।

Short Speech on World Tourism Day in Hindi

ऊपर हमने आपको वर्ल्ड टूरिज्म डे स्पीच व विश्व पर्यटन दिवस पर निबंध world tourism day 2019 logo, World Tourism Day Slogans Hindi आदि की जानकारी (speech recitation activity) निश्चित रूप से आयोजन समारोह या बहस प्रतियोगिता (debate competition) यानी स्कूल कार्यक्रम में स्कूल या कॉलेज में भाषण में भाग लेने में छात्रों की सहायता करेंगे। इन वर्ल्ड टूरिज्म डे पर हिंदी स्पीच, हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

एक समय ऐसा आया जब भारत के पर्यटन स्थल खतरे में नजर आने लगे और लगने लगा कि शायद अब भारत पर्यटक स्थल के नाम पर पर्यटकों की पहली पसंद नहीं रहेगा। दुनिया में आई आर्थिक मंदी और आतंकवाद के चलते ऐसा लगने लगा कि पर्यटक अब भारत का रुख करना पंसद नहीं करेंगे पर ऐसा नहीं हुआ। भारत की सांस्कृतिक और प्राकृतिक सुन्दरता इतनी ज्यादा है कि पर्यटक ज्यादा समत तक यहां के सुन्दर नजारे देखने से दूर नहीं रह सके।

यही वजह है कि भारत में विदेशी सैलानियों को आकर्षित करने के लिए विभिन्न शहरों में अलग-अलग योजनाएं भी लागू की गयीं हैं। भारतीय पर्यटन विभाग ने सितंबर 2002 में ‘अतुल्य भारत’ नाम से एक नया अभियान शुरू किया था। इस अभियान का उद्देश्य भारतीय पर्यटन को वैश्विक मंच पर प्रमोट करना था जो काफी हद तक सफल हुआ। इसी तरह राजस्थान पर्यटन विकास निगम ने रेलगाड़ी की शाही सवारी कराने के माध्यम से लोगों को पर्यटन का लुत्फ उठाने का मौका दिया। जिसे ‘पैलेस ऑन व्हील्स’नाम दिया गया। राजस्थान पर्यटन विकास निगम की यह पहल दुनिया के पर्यटन मानचित्र पर भारत का नाम रोशन करने वाला माना गया है।

देश की पर्यटन क्षमता को विश्व के समक्ष प्रस्तुत करने वाला यह अपने किस्म का यह पहला प्रयास था। पर्यटन के क्षेत्र में विकास इसके पहले राज्य सरकारों के अधीन हुआ करता था। राज्यों में समन्वय के स्तर पर भी बहुत थोड़े प्रयास दिखते थे। देश के द्वार विदेशी सैलानियों के लिए खोलने का काम यदि सही और सटीक विपणन ने किया तो हवाई अड्डों से पर्यटन स्थलों के सीधे जुड़ाव ने पर्यटन क्षेत्र के विकास में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है।> > आज सैलानी पर्यटन के लिहाज से सुदूर स्थलों की सैर भी आसानी से कर सकते हैं। निजी क्षेत्रों की विमान कंपनियों को देश में उड़ान भरने की इजाजत ने भी महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा की है। सिमटती दूरियों के बीच लोग बाहरी दुनिया के बारे में भी जानने के उत्सुक रहते हैं। यही कारण है कि आज दुनिया में टूरिज्म एक फलता फूलता उद्योग बन चुका है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Copyright © 2018 Hindiguides.in

To Top